Contact Us - 0532-246-5524,25 | 9335140296
Email - ssgcpl@gmail.com
|
|

Post at: Sep 17 2021

मेजर ध्यानचंद खेल रत्न पुरस्कार

वर्तमान परिप्रेक्ष्य

  • 6 अगस्त, 2021 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारत के सर्वोच्‍च खेल पुरस्कार ‘राजीव गांधी खेल रत्न’ का नाम बदलने  की घोषणा की।
  • अब इस पुरस्कार का नाम हाॅकी के दिग्गज खिलाड़ी मेजर ध्यानचंद के नाम पर ‘मेजर ध्यानचंद खेल रत्न पुरस्कार ’ रखा गया है।
  • इस पुरस्कार की स्थापना वर्ष 1991-92 में पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के नाम पर की गई थी।

खेल रत्न पुरस्कार

  • यह देश का सर्वोच्‍च खेल पुरस्कार है।
  • खेलों के क्षेत्र में उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले खिलाड़ियों को यह पुरस्कार प्रत्येक  वर्ष प्रदान किया जाता है।
  • यह पुरस्कार युवा मामले और खेल मंत्रालय द्वारा प्रदान किया जाता है।

  • वर्ष 2008 एवं 2014 में यह खेल पुरस्कार किसी भी खिलाड़ी को प्रदान नहीं किया गया।
  • पंकज अडवानी एकमात्र ऐसे खिलाड़ी हैं, जिन्होंने यह पुरस्कार दो अलग-अलग खेलों (बिलियर्ड एवं स्नूकर) के लिए जीता है। इन्होंने यह पुरस्कार वर्ष 2005 में जीता था।
  • सबसे कम उम्र में इस पुरस्कार को प्राप्त करने वाले खिलाड़ी अभिनव बिंद्रा (निशानेबाजी) हैं, जिन्होंने मात्र 18 वर्ष की आयु में यह पुरस्कार प्राप्त किया।
  • वर्ष 2020 में इस पुरस्कार की इनामी राशि को 7.5 लाख रुपये से बढ़ाकर 25 लाख रुपये कर दिया गया।

इस पुरस्कार से सम्मानित अन्य प्रमुख खिलाड़ी

  •  पद्म भूषण-1956
  •  वर्ष 2012 से मेजर ध्यानचंद की जयंती (29 अगस्त) को खेल दिवस के रूप में मनाया जाता है। 
  • उन्हीं के नाम पर एक अन्य पुरस्कार (Award) भी प्रदान किया जाता है, जिसका नाम है- ध्यानचंद अवाॅर्ड फॉर लाइफटाइम एचीवमेंट इन स्पोर्ट्स एडं गेम्स (Dhyan Chand Award for lifetime Achievment in sports and Games)
  • वर्ष 2002 में नेशनल स्टेडियम दिल्‍ली का नाम बदलकर मेजर ध्यानचंद के नाम पर ‘मेजर ध्यानचंद नेशनल स्टेडियम’ रखा गया।

संकलन-अशोक कुमार तिवारी


Comments
List view
Grid view

Current News List