Contact Us - 0532-246-5524,25 | 9335140296
Email - ssgcpl@gmail.com
|
|

Post at: Sep 08 2021

निम्न-भू-कक्षा आधारित इंटरनेट सेवा

वर्तमान संदर्भ

  • 28 मई, 2021 को भारती एअरटेल द्वारा 36 निम्न भू-कक्षा आधारित उपग्रहों का प्रक्षेपण किया गया। यह मूल कंपनी ‘वनवेब’ के 'Five to 50' कार्यक्रम के तहत प्रक्षेपित किए गए।
  • भारत की दिग्गज दूरसंचार कंपनी भारती इंटरप्राइजेज ने यूनाइटेड किंगडम (UK) आधारित कंपनी ‘वनवेब’ में 45 प्रतिशत हिस्सा प्राप्त किया।
  • भारती इंटरप्राइजेज का 500 मिलियन डॉलर निवेश का प्रस्ताव है।

पृष्ठभूमि

  • ‘वनवेब’ कंपनी एक वैश्विक संचार नेटवर्क प्रदाता है, जो वर्तमान में अपने 650 (LEO) आधारित उपग्रहों के माध्यम से इंटरनेट सेवा प्रदान कर रही है। इसका मुख्यालय लंदन में स्थित है।
  • अक्टूबर, 2020 में यूनाइटेड किंगडम सरकार तथा भारती समूह द्वारा ‘वनवेब’ का अधिग्रहण किया गया था।

उद्देश्य

  • इंटरनेट सेवाओं को सतत तथा समावेशी बनाने हेतु विभिन्‍न कंपनियों द्वारा उपग्रह आधारित (Satellite Based) इंटरनेट सेवाओं की उपलब्धता हेतु प्रयास किया जा रहा है।
  • उपग्रह आधारित संचार सेवा के विस्तार का प्रमुख उद्देश्य आधारभूत सेवा का विस्तार कर वंचित तथा दुर्गम स्थलों पर कनेक्टिविटी सुनिश्चित करना है।

लाभ-भारत वर्तमान सांख्यिकी (इंटरनेट)

  • भारत 1.37 बिलियन जनसंख्या वाला एक विशाल देश है, जिसका इंटरनेट बाजार दुनिया का सबसे बड़ा बाजार है तथा एक बड़ी आबादी विशिष्ट कारणों दुर्गम क्षेत्र नेटवर्क उपलब्धता की कमी, पहुंच (Affrdability) आदि के कारण इंटरनेट सेवाओं से वंचित है।
  • समावेशी विकास तथा सतत अर्थव्यवस्था के निर्माण में आज इंटरनेट का स्थान महत्वपूर्ण हो गया है ऐसे में उपग्रह आधारित संचार प्रणाली निम्न विशेषताओं से युक्त होगी-

अन्य तथ्य

  • उपग्रह आधारित इंटरनेट सेवा निम्न-भू-कक्षा अर्थात 500-2000 किमी. पर स्थापित उपग्रहों के माध्यम से संभावित होती है।
  • निम्न विलंबता (< 30 ms), उच्‍च गति (100 Mbps) तथा वैश्विक कवरेज को प्राप्त करता है।
  • अन्य उपग्रह आधारित प्रोजेक्ट-

संकलन-प्रवेश तिवारी

 

 

 


Comments
List view
Grid view

Current News List