Contact Us - 0532-246-5524,25 | 9335140296
Email - ssgcpl@gmail.com
|
|

Post at: Sep 07 2021

स्वदेश निर्मित तटरक्षक पोत ‘विग्रह’

वर्तमान परिप्रेक्ष्य

  • 28 अगस्त, 2021 को रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने चेन्‍नई में स्वदेश निर्मित तटरक्षक पोत ‘विग्रह’ राष्ट्र को समर्पित किया।
  • यह पोत भारतीय तटरक्षक बल से संबंधित है तथा इसे विशाखापत्तनम (आंध्र प्रदेश) में तैनात किया जाएगा।
  • यह पोत आत्‍मनिर्भर भारत की परिकल्‍पना को साकार करने के लिए सार्वजनिक और निजी क्षेत्र के बीच सफल साझेदारी का एक आदर्श उदाहरण है।

उद्देश्य 

  • समुद्री खतरों से रक्षा करना
  • महासागर एवं समुद्री कानून की रिपोर्ट (2008) के अनुसार 7 समुद्री खतरे हैं-

  • भारत की समुद्री सीमा की सुरक्षा
  • हिंद महासागर क्षेत्र में व्यापार निगरानी एवं सुरक्षा
  • चीन की भारत को घेरने की नीति का प्रत्‍युत्तर देना।
  • पड़ोसी देशों की मदद करना।

पृष्ठभूमि 

  • वर्ष 2015 में सार्वजनिक-निजी भागीदारी से 7 जहाजों के विकास के लिए एक निजी क्षेत्र की कंपनी (लार्सन एंड टुब्रो) के साथ समझौता किया गया था। 
  • पोत ‘विग्रह’ उसी समझौते के तहत विकसित 7वां पोत है।

अन्‍य 6 पोत

  • विक्रम, विजय, वीर, वराह, वरद एवं वज्र आदि हैं। 

पोत ‘विग्रह’ की विशेषताएं

  • 98 मीटर लंबे इस अपतटीय गश्ती पोत को लार्सन एंड टुब्रो शिप बिल्‍डिंग लिमिटेड ने स्वदेशी रूप से डिजाइन एवं निर्मित किया है।
  • पोत में उन्‍नत प्रौद्योगिकी रडार, नैविगेशन और संचार उपकरण, सेंसर और मशीनरी लगाई गई है, जो उष्णकटिबंधीय समुद्री परिस्थितियों में काम करने में सक्षम है।
  • पोत बोफोर्स ताेप से युक्त है तथा अग्नि नियंत्रण प्रणाली के साथ दो 12.7 मिमी. स्थिर रिमोट कंट्रोल गन से सुसज्जित है।
  • इस पोत में एकीकृत पुल प्रणाली, एकीकृत मंच प्रबंधन प्रणाली, स्वचालित बिजली प्रबंधन प्रणाली और उच्‍च शक्ति बाहरी अग्निशमन प्रणाली भी लगाई गई है।
  • पोत को बोर्डिंग आॅपरेशन, खोज और बचाव, कानून प्रवर्तन और समुद्री गश्त के लिए एक जुड़वा इंजन वाले हेलीकॉप्‍टर और चार उच्‍च गति वाली नौकाओं को ले जाने के लिए भी डिजाइन किया गया है।
  • यह पोत समुद्र में तेल रिसाव को रोकने के लिए प्रदूषण प्रतिक्रिया उपकरण ले जाने में भी सक्षम है। 
  • पोत का वजन 2200 टन है तथा यह दो 9100 किलोवाॅट डीजल इंजन से संचालित होगा।
  • यह पोत 26 समुद्री मील प्रति घंटे की अधिकतम गति से 5000 समुद्री मील की दूरी तय कर सकता है।

संकलन - अशोक कुमार तिवारी


Comments
List view
Grid view

Current News List