Contact Us - 0532-246-5524,25 | 9335140296
Email - ssgcpl@gmail.com
|
|

Post at: Sep 07 2021

वैश्विक क्रिप्टो स्वीकार्यता सूचकांक,2021: चायनालिसिस

वर्तमान संदर्भ

  • 18 अगस्त, 2021 को  क्रिप्टो विश्लेषण फर्म ‘चायनालिसिस’ द्वारा जारी वैश्विक क्रिप्टो स्वीकार्यता सूचकांक, 2021 जारी किया गया।
  • सूचकांक का यह दूसरा संस्करण है, इससे पूर्व वर्ष 2020 में पहला संस्करण प्रकाशित हुआ था।
  • यह सूचकांक जुलाई, 2020 से जून, 2021 के बीच की अवधि में क्रिप्टोकरेंसी की स्वीकार्यता का विश्लेषण करता है।
  • उपर्युक्त अवधि में वैश्विक स्तर पर पिछले वर्ष के मुकाबले क्रिप्टोकरेंसी स्वीकार्यता में 880 प्रतिशत की वृद्धि हुई है।
  • इस सूचकांक में भारत उच्‍चतम क्रिप्टोकरेंसी अपनाने की दर वाले 20 देशों की सूची में दूसरे स्थान पर है।

निकालने की प्रविधि

  • सूचकांक 3 संकेतकों के आधार पर देशों को रैंक प्रदान करता है।

  • इन तीनों संकेतकों का ज्यामितीय माध्य लिया जाता है। 
  • फिर अंतिम संख्या को 0-1 के पैमाने पर स्थापित किया जाता है।
  • जो देश 1 के जितना करीब होगा, उसकी रैंक अधिक तथा जो शून्य के करीब होगा उसकी रैंक कम होगी।

प्रमुख निष्कर्ष

  • सूचकांक में शीर्ष 20 देशों (154 में) की ही रैंकिंग जारी की गई है।

  • पीयर टू पीयर (P2P) संचालित प्‍लेटफॉर्म की उभरते बाजारों (केन्या, नाइजीरिया, वियतनाम, वेनेजुएला) में स्वीकार्यता बढ़ी है।
  • चीन (पिछले वर्ष चौथे स्थान पर वर्तमान में 13वें) तथा अमेरिका (पिछले वर्ष छठवें स्थान पर वर्तमान में आठवें) की रैंकिंग में गिरावट आई है।
  • उभरते बाजारों (केन्या, नाइजीरिया, वियतनाम एवं वेनेजुएला) में कई लोग मुद्रा अवमूल्यन की स्थिति में अपनी बचत को संरक्षित करने के लिए क्रिप्‍टोकरेंसी की ओर रुख कर रहें हैं।
  • ये देश क्रिप्‍टोकरेंसी से प्रेषण (Remittance) भेजते एवं प्राप्त करते हैं।
  • उत्तरी अमेरिका, पश्चिमी यूरोप और पूर्वी एशिया में पिछले एक वर्ष में क्रिप्टोकरेंसी में संस्थागत निवेश बढ़ा है।
  • बिटकॉइन और ईथर जैसे डिजिटल टोकन द्वारा पर्याप्त लाभ के कारण महामारी (COVID-19) की शुरुआत के बाद पिछले एक वर्ष में क्रिप्टोकरेंसी में रुचि बढ़ी है।
  • ब्लूमबर्ग गैलेक्सी क्रिप्टो इंडेक्स में पिछले एक वर्ष में लगभग 380 प्रतिशत की वृद्धि हुई है।

भारत के संदर्भ में

  • भारत 0.37 अंक के साथ वर्ष  2021 के सूचकांक में दूसरा स्थान प्राप्त किया है।
  • Æ वर्ष 2020 (पहला संस्करण) के सूचकांक में भारत को 11वां स्थान प्राप्त हुआ था।



Comments
List view
Grid view

Current News List