Contact Us - 0532-246-5524,25 | 9335140296
Email - ssgcpl@gmail.com
|
|

Post at: Sep 03 2021

ब्रिक्‍स (BRICS) देशों की आतंकवाद रोधी कार्ययोजना

वर्तमान परिदृश्य 

  • 24 अगस्त, 2021 को ब्रिक्‍स देशों के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकारों की आभासी बैठक में आतंकवाद रोधी कार्ययोजना स्वीकार की गई। 
  • इस बैठक की अध्यक्षता भारत के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल ने की।
  • इस  कार्ययोजना में ब्रिक्‍स (BRICS) नेताओं द्वारा 2020 में अपनाई गई, ‘ब्रिक्‍स आतंकवाद-विरोधी रणनीति’ को लागू करने के विशिष्ट उपाय शामिल हैं।

पृष्ठभूमि

  • 28-29 जुलाई, 2021 को ब्रिक्‍स आतंकवाद रोधी कार्यसमूह की छठी बैठक आभासी माध्यम से आयोजित की गई।
  • इस बैठक की अध्यक्षता विदेश मंत्रालय में आतंकवाद विरोधी संयुक्त सचिव महावीर सिंघवी ने की।
  • इस बैठक में सभी ब्रिक्‍स देशों ब्राजील, रूस, भारत, चीन और दक्षिण अफ्रीका ने भाग लिया।
  • इस बैठक का प्रमुख विषय ब्रिक्‍स आतंकवाद रोधी कार्ययोजना को अंतिम रूप देना था।

कार्ययोजना के प्रमुख बिंदु

अन्‍य बिंदु

  • ब्रिक्‍स आतंकवाद विरोधी कार्यसमूह की बैठक से पहले 26-27 जुलाई को 5 थीम वाले कार्य समूहों की आभासी बैठकें आयोजित की गई थी, ये कार्य समूह हैं- 
  1.  आतंकवादी उद्देश्य के लिए इंटरनेट के दुरुपयोग पर समूह 
  2. उग्रवाद पर समूह
  3. ( आतंकवाद के वित्तपोषण का मुकाबला करने से संबंधित समूह
  4. क्षमता निर्माण पर समूह
  5.  विदेशी आतंकवाद का मुकाबला करने पर समूह

कार्ययोजना के उद्देश्य

  • आतंकवाद, कट्टरता, आतंकवाद वित्तपोषण तथा आतंकवादियों द्वारा इंटरनेट के दुरुपयोग को रोकने के लिए ब्रिक्‍स देशों के मध्य सहयोग बढ़ाना।

निष्कर्ष

  • ब्रिक्‍स देश जिन चुनौतियों का सामना कर रहे हैं, उसमें सबसे प्रमुख चुनौती आतंकवाद है। ब्रिक्‍स देशों की आतंकवाद रोधी कार्ययोजना इस चुनौती से निपटने में प्रभावशाली साबित हो सकती है।

    संकलन - अशोक कुमार तिवारी
 


Comments
List view
Grid view

Current News List