Contact Us - 0532-246-5524,25 | 9335140296
Email - ssgcpl@gmail.com
|
|

Post at: Sep 01 2021

सघन मिशन इंद्रधनुष 3.0

पृष्ठभूमि

  • स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय‚ भारत सरकार द्वारा भारत में ‘प्रतिरक्षण कार्यक्रम’ (Immunization Programme) की शुरुआत ‘विस्तारित प्रतिरक्षण कार्यक्रम’ (EPI : Expanded Programme of Immunization) के रूप में वर्ष 1978 में की गई थी।
  • वर्ष 1985 में इस कार्यक्रम को ‘सार्वभौभ प्रतिरक्षण कार्यक्रम’ (UIP : Universal Immunization Programme) के रूप में रूपांतरित किया गया‚ ताकि इसे चरणबद्ध रूप से कार्यान्वित कर वर्ष 1989-90 तक इसके अंतर्गत देश के सभी जिलों को आच्छादित किया जा सके।
  • हालांकि कई वर्षों तक परिचालित रहने के बावजूद UIP एक वर्ष की आयु तक के मात्र 65% बच्चों को ही पूर्णत: प्रतिरक्षित कर सका था।

मिशन इंद्रधनुष

  • देश में प्रतिरक्षण कार्यक्रम को मजबूती प्रदान करने एवं उसे ऊर्जावान करने के उद्देश्य से भारत सरकार द्वारा 25 दिसंबर‚ 2014 को मिशन इंद्रधनुष नाम से सार्वभौमिक टीकाकरण अभियान का शुभारंभ किया गया।
  • मिशन इंद्रधनुष का उद्देश्य देश के सभी बच्चों (2 वर्ष की आयु तक के) एवं गर्भवती महिलाओं का तीव्र गति से शत-प्रतिशत टीकाकरण करना था।
  • चरण-I में यह कार्यक्रम उच्च जोखिम वाले 201 जिलों तक सीमित था‚ जहां आंशिक प्रतिरक्षित एवं अप्रतिरक्षित बच्चों की संख्या अधिक थी।
  • मिशन के अंतर्गत टीके से रोकी जाने वाली 12 बीमारियों के नि:शुल्क टीकाकरण व्ाâा सार्वभौमिक लक्ष्य रखा गया।
  • ये बीमारियां हैं : डिप्थीरिया‚ पट्‌र्यूसिस‚ टिटेनस‚ रोटावायरस डायरिया‚ रुबेला‚ हिमोफिलस इन्फ्युएंजा टाइप बी‚ पोलियो‚ मीजल्स‚ ट्‌यूबरक्यूलोसिस‚ हेपेटाइटिस बी‚ जापानी इन्सेफेलाइटिस तथा न्यूमोकॉकल निमोनिया।
  • अगस्त‚ 2017 तक मिशन इंद्रधनुष के चार चरणों का सफल संचालन किया गया।
  • इस दौरान कुल 528 जिलों में 2.53 करोड़ से अधिक बच्चों और 68 लाख से अधिक गर्भवती महिलाओं का टीकाकरण किया गया।

सघन मिशन इंद्रधनुष (IMI)

 

  • टीकाकरण कार्यक्रम को अधिक सघन और घनीभूत बनाने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा 8 अक्टूबर‚ 2017 को ‘सघन मिशन इंद्रधनुष’ (IMI : Intensified Mission Indradhanush) लांच किया गया।
  • इस कार्यक्रम का लक्ष्य था -
  • 2 वर्ष तक की आयु वाले प्रत्येक बच्चे का टीकाकरण करना।
  • नियमित टीकाकरण कार्यक्रम/UIP के अंतर्गत छूट गई गर्भवती महिलाओं (वंचित महिलाओं) का टीकाकरण करना।
  • चिह्नित जिलों व शहरों में टीकाकरण कवरेज में सुधार लाते हुए दिसंबर‚ 2018 तक 90 प्रतिशत से भी अधिक सार्वभौमिक टीकाकरण को सुनिश्चित करना।
  • इसके अंतर्गत अक्टूबर‚ 2017 से जनवरी‚ 2018 के मध्य 173 जिलों को शामिल किया गया।

सघन मिशन इंद्रधनुष 2.0 (IMI 2.0)

  • देश में नियमित टीकाकरण कवरेज को बढ़ावा देने के लिए IMI 2.0 को दिसंबर‚ 2019 से मार्च‚ 2020 के मध्य संचालित किया गया।
  • इस मिशन द्वारा 27 राज्यों/केंद्रशासित प्रदेशों के 272 जिलों में पूर्ण टीकाकरण कवरेज का लक्ष्य प्राप्त करना था।
  • इस मिशन के अंतर्गत उत्तर प्रदेश और बिहार के सुदूर क्षेत्रों और जनजातीय आबादी वाले 652 ब्लॉकों में पूर्ण टीकाकरण करने का लक्ष्य भी शामिल था।

वर्तमान परिप्रेक्ष्य

  • 19 फरवरी‚ 2021 को केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री ने ‘सघन मिशन इंद्रधनुष 3.0’ (IMI 3.0) का शुभारंभ किया।
  • इस अवसर पर IMI 3.0 पोर्टल और इस मिशन के परिचालन के लिए दिशा-निर्देश भी जारी किए गए।
  • इस मिशन को 22 फरवरी‚ 2021 से 22 मार्च‚ 2021 के मध्य 15-15 दिनों के दो दौर (Two rounds) में संचालित किया गया।

मिशन का विवरण

  • IMI 3.0 को 29 राज्यों/केंद्रशासित प्रदेशों में पूर्व-चिह्नित 250 जिलों/ शहरी क्षेत्रों में संचालित किया गया।
  • IMI 3.0 का फोकस मुख्यत: ऐसे बच्चों और गर्भवती महिलाओं पर था‚ जो कोविड-19 महामारी के कारण टीकाकरण से वंचित रह गए।
  • इस मिशन के अंतर्गत प्रवासन स्थलों से पलायन करने वाले लाभार्थियों और सुदूर क्षेत्रों के लोगों को लक्षित किया गया।
  • मिशन के तहत देश के सभी जिलों में 90 प्रतिशत तक पूर्ण टीकाकरण कवरेज प्राप्त करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया।
  • गौरतलब है कि मिशन इंद्रधनुष के प्रथम चरण से लेकर अभी तक 690 जिलों को आच्छादित किया गया है।

 


Comments
List view
Grid view

Current News List