Contact Us - 0532-246-5524,25 | 9335140296
Email - ssgcpl@gmail.com
|
|

Post at: Aug 27 2021

उज्‍ज्‍वला 2.0

वर्तमान परिप्रेक्ष्य

 

  • 10 अगस्त, 2021 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उज्‍ज्‍वला 2.0  (प्रधानमंत्री उज्‍ज्‍वला योजना : पीएमयूवाई) का शुभारंभ किया।
    • 10 अगस्त को प्रतिवर्ष विश्व जैव ईंधन दिवस मनाया जाता है।
  • उज्‍ज्‍वला 2.0 का शुभारंभ उत्तर प्रदेश के महोबा जिले से आभासी माध्यम से किया गया।

पृष्ठभूमि

 

  • 1 मई, 2016 को ‘‘स्वच्‍छ ईंधन, बेहतर जीवन’’ के नारे के साथ  उज्‍जवला 1.0  का शुभारंभ बलिया, उत्तर प्रदेश से किया गया था।
  • उज्‍ज्‍वला 1.0 में गरीबी रेखा से नीचे जीवन-यापन करने वाले परिवारों की 5 करोड़ महिला सदस्यों को मुफ्‍त एलपीजी कनेक्शन उपलब्ध कराने का लक्ष्य रखा गया था।
  • वर्ष 2018 में इस योजना का विस्तार कर सात और श्रेणियों की महिला लाभार्थियों को शामिल किया गया।

  • इसके साथ ही लक्ष्य को संशोधित कर 8 करोड़ एलपीजी कनेक्‍शन कर दिया गया।
  • इस 8 करोड़ के लक्ष्य काे निर्धारित तिथि से सात माह पहले अगस्त, 2019 में ही हासिल कर लिया गया।
  • वित्तीय वर्ष 2021-22 के केंद्रीय बजट में पीएमयूवाई योजना के तहत एक करोड़ अतिरिक्त एलपीजी कनेक्शन वितरण की घोषणा की गई थी।

उज्‍ज्‍वला 2.0

 

  • कम आय वाले उन परिवारों को जमा-मुक्त एलपीजी कनेक्शन प्रदान करना है, जिन्हें पहले चरण के तहत शामिल नहीं किया गया था।
  • प्रवासियों को राशन कार्ड या निवास प्रमाण-पत्र प्रस्तुत करने की जरूरत नहीं होगी।
  • ‘पारिवारिक घोषणा’ और ‘निवास प्रमाण’ दोनों के लिए स्वयं द्वारा एक घोषणा पर्याप्त है।
  • लाभार्थियों को पहला रिफिल और चूल्हा नि:शुल्क प्रदान किया जाएगा।
  • सरकार ने 50 जिलों के 21 लाख घरों में पाइप से गैस पहुंचाने का भी लक्ष्य रखा है।

उद्देश्य

  • महिलाओं को सशक्त बनाना एवं उनके स्वास्थ्य की रक्षा करना।
  • जीवाश्म ईंधन जलाने से वायु प्रदूषण के कारण श्वास संबंधी गंभीर बीमारियों से बच्‍चों व बूढ़ों को बचाना।

निष्कर्ष

 

  • स्वस्थ भारत, सशक्त भारत की दिशा में उज्‍ज्‍वला योजना एक मील का पत्थर साबित हुई है।
  • इस योजना को शहरी और अर्द्ध-शहरी स्लम क्षेत्रों के गरीब परिवारों तक विस्तारित किया जाना चाहिए।

संकलन- आदित्य भारद्वाज


Comments
List view
Grid view

Current News List