Contact Us - 0532-246-5524,25 | 9335140296
Email - ssgcpl@gmail.com
|
|

Post at: Aug 24 2021

बोइंग ऑर्बिटल फ्‍लाइट ‘स्टारलाइनर’

वर्तमान परिप्रेक्ष्य

  • 3 अगस्त,2021 को चालक रहित बोइंग के स्टारलाइनर ऑर्बिटल फ्‍लाइट परीक्षण-2[OFT-2] की लांचिंग को पुन: एक बार फिर टाल दिया गया। 

प्रमुख बिन्‍दु

  • यह मानव रहित परीक्षण उड़ान का हिस्सा है, जिसे अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन हेतु उड़ान भरना था।
  • स्टारलाइनर को फ्‍लोरिडा स्थित ‘‘केप केनेवरल एयर फोर्स स्टेशन’ के स्पेस लांच काॅम्प्‍लेक्‍स-41 से लांच किया जाना था।
  • इस मिशन को यूनाइटेड लांच एलायंस एटलस वी (V) रॉकेट से लांच किया जाना था।
  • इस अंतरिक्षयान को क्रू स्पेस ट्रांसपोर्ट्रेशन-100 (CST-100)  कहा जाता है।
  • यह मिशन नासा के वाणिज्‍यिक क्रू कार्यक्रम का  हिस्सा है।
  • स्टारलाइन अंतरिक्षयान 400 पाउंड से ज्‍यादा वजन के कार्गो और चालक दल को अंतरिक्ष स्टेशन पर ले जाएगा। 
  • इसके बाद यह 550 पाउंड से अधिक कार्गो के साथ पृथ्वी पर वापस आएगा।
  • इसमें पुन: उपयोग में लाए जाने वाले नाइट्रोजन, आॅक्‍सीजन रिचार्ज सिस्टम टैंक भी शामिल हैं, जो स्टेशन पर क्रू मेंबर (सदस्य) के लिए सांस लेने योग्‍य वायु प्रदान करते हैं।
  • इस अंतरिक्षयान को पृथ्वी की निचली कक्षा (Low-Earth Orbit) में अभियान (मिशन) के लिए सात यात्रियों या चालक दल और कार्गो के मिश्रण को समायोजित करने के लिए निर्मित (डिजाइन) किया गया है।
  • यह नासा के द्वारा प्रयोजित मिशन है, जिसे अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन पर भेजने के लिए डिजाइन किया गया है।
  • यह चार चालक दल के सदस्यों के साथ कम समय में महत्‍वपूर्ण वैज्ञानिक शोध करेगा।
  • इसमें एक नई वेल्‍डनेस संरचना विद्यमान है, जिसे 6 महीने के समय में 10 बार पुन: प्रयोग किया जा सकता है।

उद्देश्य

  • अपनी परीक्षण उड़ान के दौरान यह अंतरिक्षयान की लांचिंग, डॉकिंग, वायुमंडलीय पुन: प्रवेश और अमेरिका में एक रेगिस्तान में लैंडिंग की क्षमताओं की जांच करेगा।
  • भविष्य में अंतरिक्ष यात्रियों को अंतरिक्ष स्टेशन पर ले जाने के लिए परिवहन प्रणालियों का पता लगाना और इसे प्रमाणित करने में नासा की मदद करना।

नासा का वाणिज्‍यिक क्रू कार्यक्रम

  • इसका मुख्य उद्देश्य अंतरिक्षयान को लागत प्रभावी बनाकर अंतरिक्ष तक पहुंच को आसान बनाना।
  • जिससे कार्गो एवं चालक दल को आईएसएस (ISS)  पर आसानी से ले जाया जा सके और अधिक से अधिक वैज्ञानिक अनुसंधान को बढ़ावा दिया जा सके।
  • इस कार्यक्रम के माध्यम से नासा ने बाेइंग और स्पेस एक्‍स जैसे वाणिज्‍यिक भागीदारों के साथ साझेदारी करके लागत कम करने की योजना बनाई है।
  • इसने कंपनियों को वाणिज्‍यिक कक्षीय परिवहन सेवाओं (COTS) के डिजाइन और निर्माण के लिए प्रोत्‍साहन भी दिया है।

- सीओटीएस (COTS)- यह नासा का एक कार्यक्रम है, जिसे वर्ष 2006 में निजी कंपनियों द्वारा अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन में चालक दल एवं कार्गो के वितरण में समन्‍वय हेतु संचालित किया गया था।

  • बोइंग और स्पेस एक्‍स जैसी कंपनियों को पृथ्वी की निचली कक्षा (Low-Earth Orbit) के लिए चालक दल व परिवहन सेवाएं प्रदान करने के लिए प्रोत्‍साहित करके नासा गहरे अंतरिक्ष अन्‍वेषण मिशनों के लिए अंतरिक्षयान एवं रॉकेट बनाने पर ध्यान केंद्रित कर सकेगा। 
  • बोइंग आर्बिटल फ्‍लाइट स्टारलाइनर का प्रथम परीक्षण
  • बोइंग स्टारलाइन ऑर्बिटल फ्‍लाइट परीक्षण (Beo-OFT) सीएसटी-100(CST-100) स्टारलाइनर  अंतरिक्षयान का पहला कक्षीय मिशन था, जिसे नासा के वाणिज्‍यिक क्रू कार्यक्रम के हिस्से के रूप में बोइंग द्वारा संचालित किया गया था।
  • मिशन को अंतरिक्षयान के आठ दिवसीय परीक्षण के बाद अंतरराष्ट्रीय स्टेशन पर भेजने की योजना थी।
  • मिशन 20 दिसंबर, 2019 को लांच किया गया, जिसमें तकनीकी समस्या की वजह से विसंगति आ गई थीं।
  • इस विसंगति के कारण अंतरिक्षयान दूसरी कक्षा में प्रवेश कर गया, जिसके फलस्वरूप वह जल गया।
  • 22 दिसंबर, 2019 को व्हाइट सैंड्स स्पेस हार्बर पर सफलतापूर्वक उतरने वाले अंतरिक्षयान के साथ मिशन को केवल दो दिनों तक सीमित कर दिया गया था।

सं. अशोक कुमार .ितवारी


Comments
List view
Grid view

Current News List