Contact Us - 0532-246-5524,25 | 9335140296
Email - ssgcpl@gmail.com
|
|

Post at: Aug 19 2021

लैंडिंग क्राफ्ट युटिलिटीशिप भारतीय नौ सेना में शामिल

वर्तमान परिदृश्य– 18 मार्च, 2021 को एक लैंडिंग क्राफ्ट यूटिलिटी (एल सी यू-L 58) शिप को भारतीय सेना में शामिल किया गया ।

भारतीय नौसेना के अनुसार लैंडिंग क्राप्ट यूटिलिटी के आठवें और श्रेणी चार के अंतिम जहाज को फोर्ट ब्लेयर (अंडमान और निकोबार) में आयोजित एक कार्यक्रम में नौसेना में शामिल किया गया।

महत्वपूर्ण बिंदु

  • एल सी यू-L 58 को पोर्ट ब्लेयर में रखा जाएगा जो अंडमान और निकोबार द्वीप समूह, बंगाल की खाड़ी, तथा हिंद महासागर में खोज और बचाव, आपदा राहत, तटीय गस्ती और निगरानी अभियानों में महत्वपूर्ण भूमिका अदा करेगा।
  • एल सी यू-L58 एक उभयचर जहाज है, जिसका उपयोग उपकरणों और सैनिकों को तट तक पहुँचानें को लिए किया जाता है।
  • भारत में वर्तमान में 3 कुम्भिर वर्ग एल सी यू और 8 एम के चतुर्थ श्रेणी एल सी यू है।
  • एल सी यू के नौसेना में शामिल होने से देश की समुद्री सीमा की सुरक्षा और मजबूत होगी।
  • जहाज को गाॅर्डन रीच शिप बिल्डर्स एंड इंजीनियर्स लिमिटेड (जीआरएसई) कोलकाता द्वारा स्वदेशी रूप से डिजाइन और निर्मित किया गया है।
  • एल सी यू-L58 प्रधानमंत्री के मेक इन इंडिया तथा आत्म निर्भर भारत अभियान के अनुरूप है।
  • एल सी यू-L58 अपने चालक दल के अतिरिक्त, 160 सैनिकों को ले जाने में सक्षम है।
  • इस जहाज की भार वहन क्षमता 900 टन है, जो विभिन्‍न प्रकार के लड़ाकू वाहनों (युद्धक टैंक, बख्तरबंद वाहन, वीएमएसपी तथा ट्रकों) को ले जाने में सक्षम है।
  • इस जहाज की लंबाई 63 मीटर है जिसमें 2 एम टी ए 4000 सीरीज का इंजन है, जो जहाज को 15 नॉटिकल मील (28 किलोमीटर/घंटे) की गति से चलाने में सक्षम है।
  • एल सी यू-एल 58 में दुश्मन के रडार ट्रांसमिशन को भेदने में सक्षम अत्याधुनिक इलेक्ट्राॅनिक्स पोर्ट मेजर लगा है। एलसीयू में अत्‍याधुनिक एकीकृत ब्रिज प्रणाली (आई वी एस) और परिष्कृत एकीकृत प्‍लेटफार्म मैनेजमेंट सिस्टम (आईपीएमएस) लगा है जो जहाज के नौवहन व मशीनरी उपकरणों को एकल स्टेशन निगरानी की सुविधा प्रदान करता है।
  • जहाज के मुख्य आयुध में स्वदेश निर्मित 30 मिमी.सी. आर एन 91 गन शामिल है, जो भारत इलेक्ट्राॅनिक लिमिटेड (बी ई एल) द्वारा निर्मित एक इलेक्ट्राॅनिक डे-नाइट डायरेक्टर साइट है।
  • इस जहाज में सतह, हवा तथा अन्य पारंपरिक खतरों से निपटने हेतु 6 मशीनगन पोस्ट लगे हैं।

अन्‍य महत्वपूर्ण बिंदु

  1. मेक इन इंडिया कार्यक्रम-भारत में मैन्यू फैक्‍चरिंग को बढ़ावा देने तथा देश के आर्थिक संवर्धन के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 25 सितंबर 2014 को मेक इन इंडिया कार्यक्रम की शुरुआत की।
  2. आत्म निर्भर भारत अभियान-प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना संकट के दौर में भारत की अर्थव्यवस्था को सुधारने हेतु 20 लाख करोड़ रुपये का राहत पैकेज देने की घोषणा की। जिसे आत्मनिर्भर भारत अभियान नाम दिया गया।
  • इसका उद्देश्य भारत को अपनी जरूरत की चीजों (वस्तुओं) के लिए खुद पर निर्भर बनाना है।

Comments
List view
Grid view

Current News List