Contact Us - 0532-246-5524,25 | 9335140296
Email - ssgcpl@gmail.com
|
|

Post at: Aug 19 2021

आगरा और प्रयागराज में औद्योगिक क्‍लस्टर को मंजूरी

वर्तमान परिदृश्य

  • 1 अगस्त, 2021 को केंद्र सरकार ने उत्तर प्रदेश सरकार को आगरा एवं प्रयागराज में दो औद्योगिक विनिर्माण क्‍लस्टर विकसित करने की अनुमति प्रदान की।
  • ध्यातव्य है कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने केंद्र सरकार से अमृतसर-कोलकाता औद्योगिक गलियारे (एकेआईसी) में दो एकीकृत विनिर्माण क्‍लस्टर (आईएमसी) के विकास की अनुमति देने का आग्रह किया था।

प्रमुख बिंदु

  • उत्तर प्रदेश राज्य औद्योगिक विकास प्राधिकरण (यूपीएसआईडीए) प्रयागराज में सरस्वती हाई-टेक सिटी के पास और आगरा में एक्सप्रेस-वे के पास, एक ग्रीनफील्ड साइट पर दो आईएमसी विकसित करेगा।
  • ये क्‍लस्टर 1,839 किलोमीटर लंबे अमृतसर-कोलकाता औद्योगिक गलियारे (AKIC) के साथ विकसित होंगे, जिसका 57 प्रतिशत भाग उत्तर प्रदेश की सीमा में पड़ता है।
  • आगरा में प्रस्तावित आईएमसी लगभग 1,050 एकड़ में होगा।
  • इसी तरह सरस्वती हाई टेक सिटी, प्रयागराज में यह क्‍लस्टर 1,139 एकड़ भूमि पर होगा।
  • इन समूहों के समग्र विकास को सुनिश्चित करने के लिए राज्य सरकार ने इन दोनों आईएमसी को एकीकृत टाउनशिप परियोजनाओं के रूप में विकसित करने की योजना बनाई है।
  • यूपीएसआईडीए ने इन आईएमसी को स्मार्ट शहरों की तर्ज पर विकसित करने की योजना बनाई है।
  • क्‍लस्टर के निर्माण के लिए बनाए जाने वाले विशेष प्रयोजन वाहन (SPV) में केंद्र की इक्‍विटी हिस्सेदारी होगी, जबकि क्‍लस्टरों को विश्वस्तरीय स्वरूप देने के लिए अंतरराष्ट्रीय ख्याति के मास्टर प्‍लानर की नियुक्ति की जाएगी
  • अमृतसर-कोलकाता औद्योगिक गलियारे (AKIC) का लक्ष्य सात राज्यों में से प्रत्येक में एक औद्योगिक क्‍लस्टर विकसित करना है। केवल उत्तर प्रदेश में दो आईएमसी होंगे।
  • राष्ट्रीय औद्योगिक गलियारा कार्यक्रम के हिस्से के रूप में इन आईएमसी का विकास औद्योगिक कॉरिडोर परियोजनाओं के उद्देश्यों के अनुरूप होगा।


Comments
List view
Grid view

Current News List