Contact Us - 0532-246-5524,25 | 9335140296
Email - ssgcpl@gmail.com
|
|

Post at: Aug 17 2021

वन स्टॉप सेंटर योजना (One Stop Centre Scheme)

वर्तमान संदर्भ

  • महिला और बाल विकास मंत्रालय (WCD), भारत सरकार ने 26 मई, 2021 को यह घोषणा की, कि सार्वजनिक या निजी स्थानों पर लिंग अाधारित हिंसा से पीड़ित भारतीय महिलाओं को समर्थन और सहायता प्रदान करने के लिए ‘‘महिला और बाल विकास मंत्रालय’’तथा विदेश मंत्रालय (MEA) के सहयोग से 09 देशों में 10 ‘वन स्टॉप संेटर’ स्थापित किए जाएंगे।
  • जिन 9 देशों में ‘वन स्टॉप सेंटर’ (OSC) स्थापित किए जाएंगे वे हैं- आॅस्ट्रेलिया, बहरीन, कनाडा, कुवैत, ओमान, कतर , सिंगापुर, सऊदी अरब और संयुक्त अरब अमीरात (UAE)
  • सऊदी अरब में दो केंद्र स्थापित किए जाएंगे।

महत्वपूर्ण बिंदु-
(1) वन स्टॉप सेंटर योजना (OSC) के बारे में

  • यह योजना निजी एवं सार्वजनिक दोनो स्थानों पर महिलाओं के खिलाफ हिंसा की समस्या के एकीकृत समाधान हेतु महिला एवं बाल विकास मंत्रालय (WCD) द्वारा 1 अप्रैल, 2015 से लागू की गई। यह निर्भया फंड के माध्यम से वित्त पोषित एक केंद्र प्रायोजित योजना है।
  • दिसंबर, 2012 में निर्भया गैंगरेप के बाद ऊषा मेहरा आयोग ने फरवरी, 2013 में वन स्टॉप सेंटर की सिफारिश की थी।
  • ‘सरवी’ नाम से लोकप्रिय यह योजना ‘इंदिरा गांधी मातृत्व सहयोग योजना’ सहित ‘‘राष्ट्रीय महिला सशक्तिकरण मिशन’’ के लिए अंब्रेला योजना की एक उप-योजना है। लक्षित समूह :- वन स्टॉप सेंटर (OSC) जाति, वर्ग, धर्म, क्षेत्र, यौन-अभिरुचि या वैवाहिक स्थिति को ध्यान में रखे बगैर, हिंसा से प्रभावित 18 वर्ष से कम उम्र की लड़कियों सहित सभी महिलाओं को सहायता प्रदान करेंगे।

उद्देश्य

  • परिवार के भीतर या कार्यस्थल पर या समुदाय के भीतर, निजी या सार्वजनिक स्थानों पर होने वाली हिंसा से प्रभावित महिलाओं को सहायता एवं सहयोग प्रदान करते हुए उनका समर्थन करना।

विशेषत:

  • उन महिलाओं को जो अपनी जाति, पंथ, नस्ल वर्ग, शिक्षा की स्थिति, उम्र, संस्कृति या वैवाहिक स्थिति के बावजूद यौन, शारीरिक मनोवैज्ञानिक भावात्मक और आर्थिक शोषण का सामना करती हैं।
  • एक ही छत (OSC) के नीचे हिंसा से पीड़ित महिलाओं एवं बालिकाओं को एकीकृत रूप से सहायता एवं सहयोग प्रदान करने के लिए देश भर में वन स्टॉप सेंटर (OSC) और विश्व भर में प्रत्येक देश के लिए कम से कम एक ‘‘वन स्टॉप सेंटर (OSC) स्थापित किए जाएंगे।

वित्तीयन :

  • यह योजना ‘‘निर्भया फंड’’ के माध्यम से वित्त पोषित की जाएगी।

निर्भया कोष

  • बलात्कार पीडितों की सहायता करने और उनके पुनर्वास को सुनिश्चित करने के उद्देश्य से निर्भया फंड की स्थापना वर्ष 2013 में की गई थी।
  • यह एक गैर व्यपगत कोष है।
  • यह भारत सरकार के वित्त मंत्रालय के ‘‘आर्थिक मामलों के विभाग’’ द्वारा प्रशासित है।
  • इसका उपयोग महिला सुरक्षा से संबंधित परियोजनाओं और पहलों को सहायता प्रदान करने के लिए किया जा सकता है।
  • वर्ष 2012 की दिल्‍ली ‘‘निर्भया सामूहिक बलात्कार’’घटना के बाद महिलाओं की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए केंद्र सरकार द्वारा वर्ष 2013 में निर्भया फंड की स्थापन की गई।
  • केंद्र सरकार, इस योजना के तहत राज्य सरकारों/संघ राज्य क्षेत्र प्रशासनों के लिए 100 % वित्तीय सहायता प्रदान करेगी।

सेवाएं (Services) :

  • निम्नलिखित सेवाओं तक पहुंच प्रदान करने के लिए वन स्टॉप सेंटर (OSC) को महिला हेल्पलाइन के साथ एकीकृत किया जाएगा :-

(i) आपातकालीन प्रतिक्रिया और बचाव सेवाएं।
(ii) चिकित्सा सहायता।
(iii) प्राथमिकी दर्ज करने में महिलाओं की सहायता।
(iv) मनो-सामाजिक समर्थन और परामर्श।
(v) कानूनी सहायता और परामर्श।
(vi) आश्रय।
(vii) वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग की सुविधा।

  • इन केंद्रों के सुचारू संचालन के लिए पैनल में शामिल एजेंसियों/व्यक्तियों की नियुक्ति आदि की जिम्मेदारी संबंधित राज्यों/केंद्र-शासित प्रदेशों के जिला प्रशासन के पास है।

लेखा परीक्षा

  • लेखा परीक्षा भारत के नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (CAG) के मानदंडों के अनुरूप की जाएगी।
  • सामाजिक लेखा परीक्षा नागरिक समाज समूहों द्वारा की जाएगी।

महिलाओं की सुरक्षा के लिए भारतीय विधिक प्रावधान-

(i) कार्यस्थल पर महिलाओं के साथ यौन उत्पीड़न (रोकथाम, निषेध और निवारण) अधिनियम, 2013
(ii) यौन अपराधों से बच्‍चों का संरक्षण (POCSO),2012

  • इस अधिनियम में लैंगिक भेदभाव (Gender Discrimination) नहीं है।

(iii) यौन अपराध से बच्‍चों का संरक्षण नियम,2020
(iv) घरेलू हिंसा से महिलाओं का संरक्षण अधिनियम, 2005
(v) दहेज निषेध अधिनियम, 1961

महिलाओं से संबंधित प्रमुख पहलें

(i) शी-बाक्स पोर्टल (जुलाई, 2017)
(ii) प्रधानमंत्री उज्‍ज्‍वला योजना (मई, 2016)
(iii) सुकन्या समृद्धि योजना (वर्ष 2015)
(iv) राष्ट्रीय शिशुगृह (क्रेच) योजना (जनवरी, 2017)
(v) बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ (जनवरी, 2015)

संकलन- शिशिर अशोक सिंह


Comments
List view
Grid view

Current News List