Contact Us - 0532-246-5524,25 | 9335140296
Email - ssgcpl@gmail.com
|
|

Post at: Aug 11 2021

आईएनएस राजपूत सेवामुक्त

वर्तमान परिप्रेक्ष्य

  • 21 मई, 2021 को भारतीय नौसेना ने अपने पहले विध्वंसक (Destroyer) जहाज, आईएनएस ‘राजपूत’ को कार्यमुक्त कर दिया।
  • आईएनएस राजपूत को विशाखापत्तनम के नौसेना डॉकयार्ड में कार्यमुक्त किया गया।

आईएनएस राजपूत : सेवा के 41 वर्ष

  • आईएनएस राजपूत का निर्माण तत्कालीन यूएसएसआर (वर्तमान में यूक्रेन)में किया गया था।
  • इसका मूल नाम ‘नादेजनी’ (Nadezhny) था, जिसका अर्थ है-‘होप (Hope)’।
  • 4 मई 1980 को इसे भारतीय नौसेना के राजपूत क्‍लास विध्वंसक श्रेणी के प्रमुख जहाज के रूप में कमीशन किया गया था।

कमांडिग ऑफिसर

  • आईएनएस राजपूत के पहले कमांडिंग आॅफिसर गुलाब मोहनलाल हीरानंदानी थे।

विशेषता

  • यह सतह से सतह और सतह से हवा में मार करने वाली मिसाइलों, विमानरोधी बंदूकों, तारपीडो और पनडुब्बी रोधी रॉकेट लांचर से सुसज्‍जित था।
  • वर्ष 2005 में राजपूत सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल व लंबी दूरी की ब्रह्मोस मिसाइल को दागने की क्षमता वाला पहला पोत बना।

राजपूत रेजिमेंट

  • आईएनएस राजपूत, भारतीय सेना की ‘राजपूत रेजिमेंट’ से संबद्ध होने वाला भारतीय नौसेना का पहला जहाज था।

आईएनएस राजपूत का ‘मोटो’

प्रमुख अभियान

आपरेशन अमन– श्रीलंका में भारतीय शांति सेना की सहायता हेतु
आपेरशन पवन– श्रीलंका तट पर गश्ती कर्तव्य हेतु
आपरेशन कैक्टस-मालदीव के बंधकों को छुड़ाने हेतु आपरेशन क्रॉसनेट- लक्षद्वीप

  • आईएनएस राजपूत का मोटो ‘राज करेगा राजपूत’ है।

विध्वंसक जहाज की श्रेणियां

  • वर्तमान मंंे भारतीय नौसेना में विध्वंसक की चार श्रेणियां हैं

  • वर्तमान में राजपूत श्रेणी में कुल तीन विध्वंसक कार्यरत हैं।
  • दिल्‍ली श्रेणी के विध्वंसकों को वर्ष 1997-2001 के मध्य लांच किया गया था ।
  • कोलकाता श्रेणी के विध्वंसक प्रोजेक्ट 15 के तहत निर्मित है। आईएनएस कोलकाता-2014, आईएनएस कोच्‍चि 2015 और आईएनएस चेन्‍नई- 2016 में शामिल है।
  • आगामी महीनों में विशाखापत्तनम श्रेणी के विध्वंसक जो कि प्रोजेक्ट 15B के तहत निर्माणाधीन है। नौसेना में शामिल किए जाएंगे।

विध्वंसक का कार्य

  • विध्वंसक जहाज का आकार ज्यादा बड़ा नहीं होता है।
  • वर्तमान में मुख्यत: इनका कार्य बड़े स्पेस क्राफ्ट कॅरियर को सुरक्षा प्रदान करना है।
  • इनका उपयोग कम दूरी के आक्रमण (Short Range Attack) के लिए भी किया जाता है।

संकलन-आदित्य भारद्वाज


Comments
List view
Grid view

Current News List