Contact Us - 0532-246-5524,25 | 9335140296
Email - ssgcpl@gmail.com
|
|

Post at: Aug 09 2021

सरकार ने स्वेज नहर अवरुद्ध होने से निपटने के लिए चार सूत्रीय योजना बनाई

वर्तमान संदर्भ

  • मार्च, 2021 में स्वेज नहर की समस्या से निपटने के लिए भारत ने चार सूत्रीय योजना बनाई है।
  • इसमें केप ऑफ गुड होप के जरिए जहाजों को गंतव्य तक भेजा जाना शामिल है।
  • 23 मार्च, 2021 को सुबह 2,24,000 टन का कंटेनर जहाज स्वेज नहर में फंस गया था, जिससे जलमार्ग पर यातायात पूरी तरह से अवरुद्ध हो गया।

पृष्ठभूमि

  • स्वेज नहर भूमध्य सागर को लाल सागर से जोड़ती है।
  • इस मार्ग के जरिए एशिया से यूरोप जाने वाले जहाजों को अफ्रीका घूमकर नहीं जाना पड़ता है।
  • स्वेज नहर विश्व का सबसे व्यस्ततम जलगार्ग है। यूरोप मंे हो सकता है तेल का संकट
  • यदि स्वेज मार्ग अवरुद्ध रहा तो एशिया से यूरोप जाने वाले जहाजों को अफ्रीका होकर जाना पड़ेगा।
  • लंबी यात्रा से ईंधन के दामों में वृद्धि हो सकती है।
  • अत: यूरोप के देशों को ऊर्जा संकट का सामना करना पड़ सकता है।

एवर गिवेन

  • ‘एवर गिवेन’ जहाज चीन से माल लादने के बाद नीदरलैंड्स के पोर्ट रॉटरडैम जा रहा था।
  • यह शिप स्वेज न्‍ाहर की तेज व धूल भरी हवा की वजह से नहर में ही फंस गया था।
  • 400 मीटर लंबे इस जहाज में 2 लाख टन से भी ज्‍यादा का माल लदा था।
  • इस शिप के चालक दल में 25 भारतीय भी शामिल थे।

भारत की चार सूत्रीय योजना

1. कार्गो की प्राथमिकता तय करना

  • एफआईईओ, एमपीडा और एपीडा संयुक्त रूप से जल्‍द खराब होने वाले कार्गो की (खासकर) पहचान करेंगे।

2. माल भाड़े की दरें

  • सीएसएलए ने यह आश्वासन दिया है कि मौजूदा अनुबंधों के अनुरूप ही माल भाड़े की दरों को मान्‍य किया जाएगा।

3. बंदरगाहों को परामर्श

  • अवरोध के खत्‍म होते ही खासतौर पर जेएनपीटी, मुंद्रा और हजीरा के बंदरगाहों पर कुछ बंचिंग का अनुमान है।

4. मार्गों की री-रूटिंग से संबंधित फैसला

  • केप आॅफ गुड होप के रास्ते जहाजों के मार्गों के पुनर्निर्धारण (री-रूटिंग) के विकल्‍प का पता लगाया जाएगा।

निष्कर्ष

  • स्वेज नहर का अवरुद्ध होना वैश्विक व्यापार के समक्ष एक बड़ा संकट बन गया है। यदि यह मार्ग जल्‍द से जल्‍द अवरोध-मुक्त नहीं हुआ, तो दुनिया के समक्ष ऊर्जा, खाद्यान्‍न, जैसी वस्तुओं की मांग-आपूर्ति बाधित हो जाएगी।
  • वैश्वीकरण के इस युग में स्वेज नहर विश्व व्यापार का प्रमुख मार्ग माना जाता है।

सं.दीपक पांडेय


Comments
List view
Grid view

Current News List