Contact Us - 0532-246-5524,25 | 9335140296
Email - ssgcpl@gmail.com
|
|

Post at: Aug 02 2021

अंतरराष्ट्रीय प्रवासी कामगारों पर आईएलओ वैश्विक अनुमान

वर्तमान परिप्रेक्ष्य

  • 30 जून, 2021 को अंतरराष्ट्रीय श्रम संगठन के द्वारा ‘अंतरराष्ट्रीय प्रवासी कामगारों पर आईएलओ वैश्विक अनुमान’ (ILO Global Estimates on International Migrant workers) नामक शीर्षक से एक रिपोर्ट जारी की गई।
  • यह अंतरराष्ट्रीय श्रम संगठन के द्वारा जारी की जाने वाली इस रिपोर्ट का तीसरा संस्करण है।
  • इस रिपोर्ट के तहत वर्ष 2019 के लिए अंतरराष्ट्रीय प्रवासी श्रमिकों के वैश्विक अनुमान को प्रस्तुत किया गया है।

रिपोर्ट से संबंधित महत्वपूर्ण बिंदु-
वैश्विक अनुमान-

  • संयुक्त राष्ट्र के आर्थिक एवं सामाजिक मामलों के विभाग (UNDESA) का अनुमान है कि वर्ष 2019 में दुनिया भर में अंतरराष्ट्रीय प्रवासियों की संख्या 272 मिलियन थी, जिनमें से 15 वर्ष तथा उससे अधिक उम्र के व्यक्तियों की संख्या 245 मिलियन है।
  • इस रिपोर्ट के अनुसार, वर्ष 2019 में वैश्विक स्तर पर अंतरराष्ट्रीय प्रवासी श्रमिकों की संख्या 169 मिलियन थी, जो 2017 के अनुमान से 5 मिलियन (3 प्रतिशत की वृद्धि) तथा 2013 के अनुमान की तुलना में 19 मिलियन (12.7 प्रतिशत की वृद्धि) अधिक है।

वर्ष 2019 में अंतरराष्ट्रीय प्रवासियों तथा प्रवासी श्रमिकों का अनुमान

  • वर्ष 2019 में वैश्विक स्तर पर कुल अंतरराष्ट्रीय प्रवासी श्रमिक की संख्या में 99 मिलियन (58.5 प्रतिशत) पुरुष प्रवासी श्रमिक थे, जबकि महिला प्रवासी श्रमिकों की संख्या 70 मिलियन (41.5 प्रतिशत) थी।
  • रिपोर्ट में अंतरराष्ट्रीय प्रवासी श्रमिक कुल वैश्विक श्रम शक्ति के 4.9 प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करते हैं। जिनमें अरब देशों मंे यह अनुपात बढ़कर 41.4 प्रतिशत हो जाता है।

  • वर्ष 2019 में अंतरराष्ट्रीय प्रवासी श्रमिकों की कुल संख्या में प्राइम आयु के वयस्कों (25-64) की संख्या 146.2 मिलियन, युवा श्रमिकों (15-24 आयु वर्ग) की संख्या 16.8 मिलियन तथा 65 एवं 65 + उम्र के श्रमिकों की संख्या 6 मिलियन थी।

  • वर्ष 2019 में अंतरराष्ट्रीय प्रवासी श्रमिकों की कुल संख्या का 7.1 प्रतिशत व्यक्ति कृषि क्षेत्र में, 26.7 प्रतिशत व्यक्ति उद्योग क्षेत्र में तथा 66.2 प्रतिशत व्यक्ति सेवा क्षेत्र में नियोजित थे।
  • ध्यातव्य है कि इस दौरान सेवा क्षेत्र में महिलाओं की भागीदारी (79.9 प्रतिशत) पुरुषों (56.4 प्रतिशत) की तुलना में अधिक रही है।
  • कुल अंतरराष्ट्रीय प्रवासी श्रमिकों में से 67.4 प्रतिशत (113.9 मिलियन) उच्‍च आय वाले देशों में, 19.5 प्रतिशत (33 मिलियन) उच्‍च-मध्यम आय वाले देशों में, 9.5 प्रतिशत (16 मिलियन) निम्न मध्यम आय वाले देशों में तथा 3.6 प्रतिशत (6.1 मिलियन) निम्न आय वाले देशों में नियोजित थे।

वर्ष 2019 में अंतरराष्ट्रीय प्रवासी श्रमिकों का लिंग एवं आय के अनुसार वितरण

क्षेत्रीय अनुमान

  • कुल 169 मिलियन अंतरराष्ट्रीय प्रवासी श्रमिकों में से 63.8 (37.7 प्रतिशत) मिलियन प्रवासी श्रमिक यूरोप एवं मध्य एशिया में तथा 43.3 (25.6 प्रतिशत) मिलियन प्रवासी श्रमिक अमेरिकी देशों में केंद्रित थे।
  • ध्यातव्य है कि यूरोप एवं मध्य एशिया तथा अमेरिकी देशों में केंद्रित प्रवासी श्रमिक कुल अंतरराष्ट्रीय प्रवासी श्रमिकों की संख्या का 63.3 प्रतिशत हैं।

  • इन आंकड़ों के अनुसार, अंतरराष्ट्रीय प्रवासी श्रमिकों की सबसे कम जनसंख्या अफ्रीकी देशों (13.7 मिलियन) में केंद्रित थी।
  • इस रिपोर्ट के तहत अंतरराष्ट्रीय प्रवासी श्रमिकों की जनसंख्या को 11 भौगोलिक उपक्षेत्रों में बांटा गया है।
  • अंतरराष्ट्रीय प्रवासी श्रमिकों की सर्वाधिक संख्या उत्तरी, दक्षिणी तथा पश्चिमी यूरोप (24.2 प्रतिशत), उत्तरी अमेरिका (22.1 प्रतिशत) तथा अरब देशों (14.3 प्रतिशत) में केंद्रित है।
  • जबकि अंतरराष्ट्रीय प्रवासी श्रमिकों की सबसे कम संख्या उत्तरी अफ्रीकी (0.7 प्रतिशत) तथा पूर्वी एशियाई (2.8 प्रतिशत) देशों में केंद्रित है। निष्कर्ष
  • अंतरराष्ट्रीय प्रवासी श्रमिकों पर आईएलओ के वैश्विक अनुमान का यह तीसरा संस्करण आयु, लिंग, देश-आय समूह तथा क्षेत्र के आधार पर अंतरराष्ट्रीय प्रवासी श्रमिकों की स्थिति पर सबसे हालिया अनुमान प्रस्तुत करती है।
  • इस रिपोर्ट के आंकड़े कोविड-19 महामारी के प्रारंभ के पहले के हैं, जिसने अंतरराष्ट्रीय श्रम प्रवास के परिमाण एवं विशेषताओं को प्रभावित किया है।
  • अंतरराष्ट्रीय श्रम संगठन द्वारा प्रस्तुत यह अनुमान भविष्य में कोविड-19 के खिलाफ संचालित परिवर्तनों का विश्लेषण करने हेतु एक बेंचमार्क प्रदान करते हैं।
  • इस रिपोर्ट का आवधिक प्रकाशन श्रम प्रवास के संबंध में हालिया रूझानों की जानकारी प्रदान करता है, जिसके आधार पर वैश्विक, राष्ट्रीय एवं क्षेत्रीय स्तर पर नीति-निर्माण का समर्थन करने एवं सतत विकास लक्ष्यों को प्राप्त करने में योगदान दिया जा सकता है।

संकलन-आलोक कुमार पांडेय


Comments
List view
Grid view

Current News List