Contact Us - 0532-246-5524,25 | 9335140296
Email - ssgcpl@gmail.com
|
|

Post at: Jul 29 2021

भारत और जापान सिंचाई एवं जल संसाधन प्रबंधन समझौता

वर्तमान संदर्भ-

  • 23 मार्च, 2021 को प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में केंद्रीय मंत्रिमंडल ने जल संसाधन के क्षेत्र में जल शक्ति मंत्रालय के जल संसाधन, नदी विकास और गंगा संरक्षण विभाग तथा जापान के भूमि, आधार- भूत संरचना, परिवहन और पर्यटन मंत्रालय के जल और आपदा प्रबंधन ब्यूरो के बीच हस्ताक्षरित सहयोग ज्ञापन (MoC) को मंजूरी प्रदान की।

भारत में जल संसाधन से सम्बधित समस्या

  • सीमित भू-जल संसाधन
  • वर्षा प्रतिरूप में अनियमितता
  • जल संसाधनों का खराब प्रबंधन
  • बाढ़ एवं सूखे की समस्या

महत्वपूर्ण बिंदु

(1) उद्देश्य : यह समझौता ज्ञापन (MoC), जल सुरक्षा, बेहतर सिंचाई सुविधा और जल संसाधन विकास में स्थायित्व का लक्ष्य हासिल करने में मदद करेगा

(2) लाभ :

(i) यह समझौता जल और डेल्टा प्रबंधन और जल प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में दीर्घकालिक सहयोग के लिए हस्ताक्षरित किया गया है।
(ii) यह सूचना, ज्ञान, प्रौद्योगिकी और वैज्ञानिक अनुभवों के आदान-प्रदान को बढ़ाएगा।
(iii) समझौते से दोनों देशों के बीच संयुक्त परियोजनाओं के कार्यान्वयन में भी आसानी होगी।

(3) भारत-जापान संबंध

  • जापान की संस्कृति पर भारत में जन्मे बौद्ध धर्म का स्पष्ट प्रभाव देखा जा सकता है।
  • भारत के स्वतंत्रता संघर्ष के दौरान भी जापान की शाही सेना ने सुभाष चंद्र बोस की आजाद हिंद फौज़ (वर्ष 1943, सिंगापुर, संस्थापक : सुभाष चंद्र बोस) को सहायता प्रदान की थी।
  • भारत-जापान एसोसिएशन की स्थापना वर्ष 1903 में की गई थी और वर्तमान में यह जापान का सबसे पुराना अंतरराष्ट्रीय मैत्री निकाय है।
  • भारत की स्वतंत्रता के पश्चात वर्ष 1957 में जापानी प्रधानमंत्री की भारत यात्रा और इसी वर्ष भारतीय प्रधानमंत्री की जापान यात्रा से द्विपक्षीय संबंधों को नई मजबूती प्रदान की गई।
  • वर्तमान में भारत और जापान के बीच विदेश मंत्री और रक्षा मंत्री स्तर की 2+2 बैठकों का आयोजन किया जाता है।
  • ‘‘भारत-जापान एक्‍ट ईस्ट फोरम’’ वर्ष 2017 में स्थापित किया गया था।
  • जिसका उद्देश्य भारत की ‘एक्‍ट ईस्ट पॉलिसी’ और जापान की ‘‘फ्री एंड ओपन इंडो-पैसिफिक रणनीति’’ के तहत भारत-जापान सहयोग हेतु एक मंच प्रदान करना है।
  • वित्तीय वर्ष 2019 में भारत के लिए जापान तीसरा सबसे बड़ा निवेशक देश था।
  • अगस्त, 2011 में भारत-जापान के बीच ‘व्यापक आर्थिक भागदीदारी’ समझौता (Comprehensive Economic Partnership) समझौते पर हस्ताक्षर किए गए।
  • मुंबई- अहमदाबाद हाई स्पीड रेल (MAHSR) परियोजना भारत-जापान संबंधों की मजबूती का एक उदारहण है।
  • भारत और जापान दोनों ही क्‍वाड (Quad) पहल का हिस्सा हैं।
  • चतुर्भुज सुरक्षा संवाद (Quadrilateral Security Dialogue) अर्थात क्‍वाड भारत, अमेरिका, जापान और आॅस्ट्रेलिया के बीच अनौपचारिक रणनीतिकवार्ता मंच है।

भारत-जापान के मध्य प्रमुख सैन्य अभ्यास-

(i) जिमैक्स (JIMEX)
(ii) शिन्यु मैत्री (SHINYU Maitri )
(iii) धर्म गार्जियन (Dharma Guardian) उक्त द्विपक्षीय सैन्य अभ्यास हैं।
(iv) मालाबार अभ्यास

  • भारत-अमेरिका के बीच वर्ष 1992 में एक द्विपक्षीय नौसैनिक अभ्यास के रूप में प्रारंभ।
  • वर्ष 2015 में जापान भी शामिल।
  • वर्ष 2020 में ऑस्ट्रेलिया भी शामिल।

आगे की राह-

एशिया एवं इंडो-पैसेफिक क्षेत्र में चीन की बढ़ती आक्रामकता से निपटने, नवाचार और प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में लाभ तथा वर्तमान की कोरोना वायरस महामारी से निपटने इत्यादि के लिए भारत और जापान दोनों के लिए एक दूसरे के साथ सहयोग करना आवश्यक है।

सं. शिशिर अशोक सिंह


Comments
List view
Grid view

Current News List