Contact Us - 0532-246-5524,25 | 9335140296
Email - ssgcpl@gmail.com
|
|

Post at: Jul 19 2021

तुर्की में सी स्नॉट (Sea-Snot) का प्रकोप

वर्तमान परिदृश्य

  • हाल ही में, काला सागर (Black Sea) को एजियन सागर (Aegean Sea) से जोड़ने वाले तुर्की के मरमारा सागर (Marmara Sea) में सी स्नॉट (Sea Snot) का प्रकोप देखा गया है।
  • तुर्की में यह पहली बार वर्ष 2007 में देखा गया था, लेकिन अब यह ग्रीस के पास एजियन सागर में भी देखा गया है।

महत्‍वपूर्ण बिंदु
(1) सी स्नॉट (Sea Snot) क्‍या है?

  • सी-स्नॉट (Sea-Snot) या समुद्री लासा प्राकृतिक तौर पर बनने वाला धूसर या हरे रंग का कीचड़/पंक जैसा चिपचिपा पदार्थ होता है, जो कि समुद्री श्लेष्म (Marine Mucilage) है जो शैवालों में पोषक तत्वों की अति प्रचुरता के कारण मुख्यत: वैश्विक उष्मन, जल-प्रदूषण, घरेलू और औद्योगिक कचरे के समुद्र में अनियंत्रित निर्मोचन आदि की वजह से होने वाला गर्म मौसम होता है।

नोट:- वह प्रक्रिया जिसमें बहुत सारे पोषक तत्‍व मुख्यत: नाइट्रोजन और फास्फोरस, पानी के स्रोत में मिल जाते हैं,जिसकी वजह से शैवालों की अत्‍यधिक वृद्धि होने लगती है,यूट्रोफिकेशन (Eutrophication) कहलाती है।

(2) प्रभाव एवं चिंताएं

(i) यह समुद्री पारिस्थितिकी तंत्र के लिए एक गंभीर संकट उत्‍पन्‍न कर रहा है।

  • यह समुद्र की सतह के साथ-साथ सतह से 80-100 फीट नीचे की ओर भी प्रसारित हो गया है, जो और भी नीचे पहुंचकर समुद्र तल को ढक सकता है।

(ii) सी-स्नॉट की वजह से बड़े पैमाने पर मछलियों, कोरल (मूंगा) तथा स्पंज जैसे जलीय जीवों की मौत हुई है।
(iii) समय के साथ यह मछलियों, केकड़ों, सीप, कौड़ी या मसल्‍स (Mussels) और समुद्री सितारा मछलियों सहित सभी जलीय जीवों को विषाक्‍त कर सकती है।
(iv) सी-स्नॉट का प्रकोप मछुआरों की आजीविका को दुष्प्रभावित कर रही है।

  • मछुआरों के जाल में यह कीचड़ फंस जाता है, जिसकी वजह से जाल भारी होकर टूट जाता है।
  • कीचड़ युक्‍त जाल मछलियों को दिखाई पड़ जाता है, जिससे वे दूर भाग जाती हैं।

(v) सी-स्नॉट का प्रकोप इस्तांबुल जैसे शहरों में हैजा जैसी जल जनित बीमारियों के प्रसार का कारण बन सकता है।
(vi) यह समुद्री पारिस्थितिकी तंत्र को काफी नुकसान पहुंचा सकता है, जिसकी प्रतिपूर्ति करना कठिन होगा।

(3) सी-स्नॉट (Sea-Snot) के प्रसार को रोकने के लिए उठाए गए कदम

(i) तुर्की ने संपूर्ण मरमारा सागर को संरक्षित घोषित करने का निर्णय लिया है।
(ii) तटीय शहरों और जहाजों से होने वाले जलीय प्रदूषण (जैसे- समुद्र मंे गंदा पानी छोड़ना) को कम करने के लिए तथा साथ ही अपशिष्ट जल-उपचार में सुधार करने के लिए कदम उठाए जा रहे हैं।
(iii) तुर्की के द्वारा वृहद स्तर पर समुद्री सफाई अभियान शुरू किया जा रहा है, जिसमें स्थानीय निवासियों, कलाकारों तथा गैर-सरकारी संगठनों (NGO) से इस अभियान में शामिल होने का आह्‍वान किया गया है।

  • साथ ही प्रदूषण के संभावित स्रोत का पता लगाने का प्रयास किया जाएगा।

(iv) इसके अतिरिक्‍त आपदा प्रबंधन योजना तैयार की जा रही है।

नोट-विश्व महासागर दिवस (World Ocean Day): 8 जून वर्ष 2021 की थीम : ‘द ओशन : लाइफ एंड लाइवलीहुड’ (The Ocean : Life and Livelihood)

सं. शिशिर अशोक सिंह


Comments
List view
Grid view

Current News List