Contact Us - 0532-246-5524,25 | 9335140296
Email - ssgcpl@gmail.com
|
|

Post at: Jul 02 2021

भारत म्यांमार के बीच मुक्त संचरण व्यवस्था

 

वर्तमान संदर्भ

  • म्यांमार से आने वाले अवैध शरणार्थियों को रोकने के लिए हाल ही में गृह मंत्रालय, भारत सरकार ने नगालैंड, मणिपुर, मिजोरम और अरुणाचल प्रदेश को म्यांमार से भारत में अवैध अंतर्वाह (Illegal Inflow) की जांच करने का निर्देश दिया है।

कारण

  • म्यांमार की सीमा से सटे भारतीय राज्यों में पहले से ही रोहिंग्या शरणार्थी रह रहे हैं।
  • वर्ष 2020 म्यांमार द्वारा निष्कासित रोहिंग्या शरणार्थी पूर्वोत्तर के राज्यों में अवैध रूप से शरण ली है।
  • पूर्वोत्तर के विभिन्‍न राज्यों में इनकी संख्या 40,000 से अधिक का अनुमान है।

पृष्ठभूमि

  • भारत और म्यांमार के बीच चार राज्यों (मिजोरम, मणिपुर, अरुणाचल प्रदेश व नगालैंड) की सीमाएं हैं।
  • इस तरह के निर्देश अगस्त, 2017 और फरवरी, 2018 में जारी किए गए थे।

महत्वपूर्ण बिंदु

  • राज्य सरकारों के पास ‘‘ किसी भी विदेशी को शरणार्थी का दर्जा ’’ देने की शक्ति नहीं है।
  • वर्ष 1951 के संयुक्त राष्ट्र शरणार्थी सम्मेलन में भारत ने हस्ताक्षर करने से इंकार कर दिया था।
  • 1967 के प्रोटोकॉल, जो संयुक्त राष्ट्र शरणार्थी सम्मेलन का हिस्सा है, से भी हस्ताक्षर करने से इंकार कर दिया था।

निष्कर्ष

  • भारत का पूर्वोत्तर भाग पहले से ही सुरक्षा की दृष्टि से संवेदनशील है। ऐसे में बाह्य शरणार्थियों के आने से उपद्रवी संगठनों को और अधिक ऊर्जा मिल सकती है, जो भारत की आंतरिक सुरक्षा को खतरे मंे डाल सकती है, अत: सरकार द्वारा उठाया गया यह कदम राष्ट्र के हित के दृष्टिकोण से बेहद अहम व सराहनीय है।
  • भारत और म्यांमार के बीच 1643 किमी. की सीमा है।
  • म्यांमार की सेना ने फरवरी, 2021 में तख्तापलट करके देश पर कब्जा कर लिया।
  • तख्तापलट के बाद सैन्‍य कार्रवाई के बाद कई लोग भारत में घुस आए।
  • पूर्वोत्तर राज्यों का म्यांमार के साथ सांस्कृतिक व भावनात्‍मक लगाव है, साथ ही पारिवारिक संबंध भी है। अत: शरणार्थियों को आसानी से आश्रयस्थल मिल जाता है।

मुक्त संचरण की व्यवस्था (Free Movement Regime):

  • यह व्यवस्था भौगोलिक सीमा से प्रेरित है।
  • इस व्यवस्था के अंतर्गत पहाड़ी जनजातियों के प्रत्‍येक सदस्य, जो भारत या म्यांमार के नागरिक हैं, भारत म्यांमार सीमा (आईबीएम) के दोनों ओर 16 किमी. की परिधि में निवास करते हैं, एक सक्षम प्राधिकारी द्वारा जारी सीमा पास (Border Pass) से सीमा पार कर सकते हैं।
  • इस सीमा पास की वैधता एक वर्ष तक मान्‍य है।
  •  

लेखक- दीपक पाण्डेय


Comments

Amir

6 Jul 2021

घर बमबम थथमगण

List view
Grid view

Current News List