Contact Us - 0532-246-5524,25 | 9335140296
Email - ssgcpl@gmail.com
|
|

Post at: Jul 02 2021

भारत की अग्रिम/अनुमानित वृद्धि दर-फिंच, मूडीज, स्टैंडर्ड एंड पुअर्स, IMF, WB के दृष्टिकोण से

वर्तमान संदर्भ

  • फिंच रेटिंग एजेंसी ने अगले वित्त वर्ष 2021-22 के लिए भारत की वृद्धि दर का अनुमान बढ़ाकर 12.8 प्रतिशत किया। पहले रेटिंग एजेंसी ने अगले वित्त वर्ष में वृद्धि दर 11 प्रतिशत रहने का अनुमान लगाया था।

मुख्य बिंदु

  • फिंच ने कहा, ‘‘मजबूत पूर्व प्रभाव, राजकोषीय रुख तथा संक्रमण पर बेहतर तरीके से रोक की वजह से उसने भारत की आर्थिक वृद्धि के अनुमान में संशोधन किया है।’’
  • दिसंबर में जीडीपी की वृद्धि दर महामारी पूर्व के स्तर को पार कर गई। तिमाही के दौरान सालाना आधार पर जीडीपी में 0.4 प्रतिशत की वृद्धि हुई।

अन्‍य रेटिंग एजेंसियो द्वारा अनुमानित वृद्धि दर
S:& P (स्टैंडर्ड एंड पुअर्स)

  • 17 फरवरी, 2021 को एसएंडपी द्वारा रिपोर्ट के अनुसार, भारत अगले वित्त वर्ष अर्थात 2021-22 में 10 प्रतिशत वृद्धि के साथ सबसे तेजी से उभरती अर्थव्यवस्थाओं में एक होगा।
  • उल्‍लेखनीय है कि मध्यम अवधि में भारत की वृद्धि दर 6 प्रतिशत या इससे कुछ अधिक रहने का अनुमान व्यक्त किया गया है। यह विश्व के उभरते बाजारों की तुलना में बेहतर है।
  • एसएंडपी ने अभी भारत को स्थिर परिदृश्य के साथ बीबीबी नकारात्‍मक की रेटिंग दिया है।

संस्था/रेटिंग एजेंसी

2021-22 में भारत की अनुमानित वृद्धि दर

फिंच

12.8 %

S & P

10%

IMF

11.5%

Moody’s

13.7%

World Bank

5.4%

ADB

8%

IMF (अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष)

  • IMF द्वारा जारी अद्यतित ‘वर्ल्ड इकोनॉमिक आउटलुक’ रिपोर्ट के अनुसार, भारत की वित्त वर्ष 2021-2022 मंे 11.5 प्रतिशत की दर से आर्थिक वृद्धि अनुमानित है।
  • वैश्विक अर्थव्यवस्था के वर्ष 2021 में 5.5 प्रतिशत और वर्ष 2022 में 4.2 प्रतिशत की दर से बढ़ने का अनुमान है।
  • इस वर्ष वैश्विक अर्थव्यवस्था पूर्व की तुलना में तीव्र दर से विस्तार करने के लिए तैयार है।
  • यह रिपोर्ट मजबूत, बहुपक्षीय सहयोग के लिए आह्ववान करती है।
  • भारत, विश्व की एकमात्र प्रमुख अर्थव्यवस्था है, जो 2021 में दोहरे अंकों की वृद्धि दर्ज करने के लिए तैयार है।

ADB (Asian Development Bank):

  • 15 सितंबर, 2020 को जारी अपनी रिपोर्ट में ADB ने वर्ष 2021-22 में भारत की आर्थिक विकास की दर 8 प्रतिशत रहने का अनुमान व्यक्त किया है।

मूडीज (Moody’s)

  • 25 फरवरी, 2021 को ‘ग्लोबल मैक्रो आउटलुक, 2021-22’ की रिपोर्ट में मूडीज ने भारतीय अर्थव्यवस्था के विकास के अनुमान को संशोधित कर 10.08 प्रतिशत से 13.7 प्रतिशत कर दिया।
  • मूडीज के अनुसार, भारत की अर्थव्यवस्था ने विश्व के सबसे लंबे और सबसे कड़े लॉकडाउन में से तेजी से वापसी की है।

विश्व बैंक (World Bank):

  • 9 अक्टूबर, 2020 को जारी अपनी रिपोर्ट में विश्व बैंक ने भारतीय अर्थव्यवस्था की वृद्धि दर 2021-22 में 5.4 % अनुमानित की है।

रेटिंग एजेंसी क्या है ?

  • क्रेडिट रेटिंग एजेंसी (CRA) एक कंपनी है, जो निश्चित प्रकार के ऋण भार निर्गमित करने वाली संस्थाओं की और स्वयं ़़ऋण उपकरणों की साख योग्यता का निर्धारण करती है।
  • सरल शब्दों में कहें तो यह ‘ऋण साधन पर ब्याज और मूलधन के समयबद्ध भुगतान से जुड़े जोखिम के सापेक्ष स्तर पर ’ किसी मान्‍यता प्राप्‍त एजेंसी द्वारा दी गई राय है।
  • CRA सामान्यत: विभिन्‍न मापदंडों के आधार पर रेटिंग देती है, जो कंपनियों और देशों के अनुरूप अलग-अलग होती है।
  • रेटिंग की विश्व में तीन बड़े नाम हैं- स्टैंडर्ड एंड पुअर, मूडीज और फिच। लगभग 95% बाजार पर इनका कब्जा है तथा ये रेटिंग एजेंसियां विस्तारवादी विपणन का उपयोग करती हैं।

मूडीज : 1909 में सर जॉन मूडी ने वित्तीय होल्‍डिंग कंपनी के रूप में मूडीज काॅर्पोरेशन की स्थापना की।

  • इसका मुख्यालय न्‍यूयाॅर्क में स्थित है।
  • मूडीज का परिचालन 1914 के बाद क्रेडिट रेटिंग एजेंसी के रूप में हुआ ।

एस एंड पी :

  • स्टैंडर्ड एंड पुअर्स कंपनी का विलय वर्ष 1941 मंे हुआ।
  • यह अमेरिका की रेटिंग एजेंसी है।
  • स्टैंडर्ड एंड पुअर्स की स्थापना हेनरी वर्नम पुअर ने अपने पुत्र हेनरी विलियम के साथ मिलकर किया।

फिंच रेटिंग एजेंसी :

  • इसकी स्थापना जॉन नोल्‍स फिंच ने फिच पब्लिशिंग कंपनी के रूप में वर्ष 1914 में न्‍यूयाॅर्क में किया।
  • इसका मुख्यालय न्‍यूयाॅर्क में है।
  • वर्ष 1975 में अमेरिकी प्रतिभूति और विनिमय आयोग द्वारा नामित तीन राष्ट्रीय मान्‍यता प्राप्‍त रेटिंग एजेंसी में से फिंच एक है।

आगे की राह : इस प्रकार कहा जा सकता है कि भारतीय अर्थव्यवस्था में कोविड से संक्रमण के मामलों में कमी और राज्य और संघ शासित प्रदेशों में अंकुशों में ढील के कारण तेजी से सुधार हो रहा है, जिससे भारत की विकास दर में तेजी से वृद्धि होने की संभावना है।

लेखक- विकास प्रताप सिंह


Comments
List view
Grid view

Current News List