Contact Us - 9792276999 | 9838932888
Timing : 12:00 Noon to 20:00 PM (Mon to Fri)
Email - ssgcpl@gmail.com
|
|

Post at: Nov 24 2022

मथुरा-वृंदावन ‘शुद्ध शून्य कार्बन उत्सर्जन ’ पर्यटन स्थल

वर्तमान परिप्रेक्ष्य

  • नवंबर, 2022 में उत्तर प्रदेश सरकार ने मथुरा-वृंदावन को वर्ष 2041 तक ‘शुद्ध शून्य कार्बन उत्सर्जन’ (Net Zero Carbon Emission) वाला पर्यटन स्थल बनाने की घोषणा की।
  • यह देश में किसी पर्यटन स्थल के लिए निर्धारित इस तरह का पहला कार्बन न्यूट्रल (Corbon Neutral)  मास्टर प्‍लान है।

शुद्ध शून्य कार्बन उत्सर्जन

  • इसे कार्बन तटस्थता के रूप में जाना जाता है।
  • इसका अर्थ यह नहीं है कि, कोई देश अपने कार्बन उत्सर्जन को शून्य पर लाएगा, बल्कि यह ऐसी प्रक्रिया है, जिसमें किसी देश या स्थान कार्बन के उत्सर्जन की भरपाई वातावरण से ग्रीन हाउस गैसों (GHG) के अवशोषण और हटाने से होती है।

योजना के प्रमुख बिंदु

  • मथुरा-वृंदावन को शुद्ध शून्य कार्बन उत्सर्जन पर्यटन स्थल बनाने के लिए संपूर्ण क्षेत्र को 4 समूहों मे विभाजित किया जाएगा।
  • जिनमें प्रत्येक समूह में आठ प्रमुख स्थलों में से दो स्थलों काे सम्मिलित किया जाएगा।
  • योजना में ‘परिक्रमा पथ’ नामक छोटे सर्किट बनाने का प्रस्ताव है, जिस पर तीर्थ यात्री पैदल या इलेक्ट्रिक वाहनों का उपयोग करके चल सकते हैं।
  • कार्बन उत्सर्जन कम करने के लिए सरकार पूरे ब्रज क्षेत्र में निजी पर्यटक वाहनों के उपयोग को प्रतिबंधित कर सकती है।
  • चिह्नित क्षेत्रों में केवल इलेक्ट्रिक पब्लिक परिवहन ही चलाए जाएंगे।
  • क्षेत्र के सभी 252 जल निकायों और 24 वनों को पुनर्जीवित किया जाएगा ताकि वे कार्बन सिंक के रूप में कार्य कर सकें।
  • वृंदावन-मथुरा और गोकुल को जोड़ने वाले मौजूदा 24 किमी. के राष्ट्रीय जलमार्ग को भी विकसित किया जाएगा।
  • उ. प्र. ब्रज तीर्थ विकास परिषद (UP Braj Teerth viskas Parisad : UPBTVP), इस योजना को क्रियान्वित करने के लिए नोडल एजेंसी के रूप में कार्य करेगी।
  • उल्‍लेखनीय है, कि ‘यूपी ब्रज तीर्थ विकास परिषद’ का गठन उत्तर प्रदेश ब्रज नियोजन और विकास बोर्ड (संशोधन) अधिनियम, 2017 के अधीन किया गया है।
  • इसका गठन, ब्रज विरासत की सौंदर्य गुणवत्ता के संरक्षण, विकास और रख-रखाव के लिए योजना तैयार करने के लिए किया गया है।
  • UPBTVP  का अध्यक्ष मुख्यमंत्री है।

मथुरा-वृंदावन क्षेत्र और इसका महत्व

  • मथुरा और वृंदावन दोनों यमुना नदी के किनारे पर स्थित हैं।
  • मथुरा, भगवान कृष्ण के जन्म और वृंदावन उनके बचपन से जुड़ा है।
  • यहां कुछ प्रसिद्ब मंदिर हैं :  गोविंद देव मंदिर, कृष्ण जन्म भूमि, रंगाजी मंदिर, द्वारिकाधीश मंदिर, बांके बिहारी मंदिर और इस्कॉन मंदिर आदि।
  • लट्ठमार होली यहां की विश्व प्रसिद्ध है।
  • चरकुला तथा रासलीला यहां का प्रमुख लोक नृत्य है।
  • रसिया इस क्षेत्र का प्रमुख लोक गीत है।

अन्य महत्वपूर्ण तथ्य

  • भारत ने CoP-26 शिखर सम्मेलन में वर्ष 2070 तक अपने ग्रीन हाउस गैस (GHG) उत्सर्जन को शुद्ध शून्य (Net Zero) करने का लक्ष्य निर्धारित किया है।
  • उत्सर्जन अंतराल रिपोर्ट, 2022 के अनुसार, विश्व के शीर्ष 5 ग्रीन हाउस गैस उत्सर्जन वाले देश क्रमश: हैं-

1. चीन
2. सं. राज्य अमेरिका
3. भारत    
4.यूरोपीय संघ 27
5. इण्डोनेशिया

संकलन-संतोष पाण्डेय
 


Comments
List view
Grid view

Current News List