Contact Us - 9792276999 | 9838932888
Timing : 12:00 Noon to 20:00 PM (Mon to Fri)
Email - ssgcpl@gmail.com
|
|

Post at: Nov 22 2022

देश का 53वां बाघ अभयारण्य

प्रोजेक्ट टाइगर

  • प्रोजेक्ट टाइगर पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय की एक केंद्र प्रायोजित योजना है।
  • जिसे राष्ट्रीय पशु ‘बाघ’ (Tiger) को संरक्षित करने हेतु महत्वपूर्ण पहल के अंतर्गत भारत सरकार द्वारा वर्ष 1973 में लांच किया गया था।
  • प्रोजेक्ट टाइगर दुनिया में अपनी तरह की सबसे बड़ी प्रजाति संरक्षण पहल रही है। जहां गठन के शुरुआती वर्षों में 9 बाघ अभयारण्यों (Tiger Reserved) से बढ़कर आज प्रोजेक्ट टाइगर का दायरा 53 तक पहुंच गया है।
  • ये 53 बाघ अभयारण्य देश के 18 राज्यों में विस्तृत हैं।
  • इसका उद्देश्य निर्दिष्ट बाघ अभयारण्यों में बाघ संरक्षण हेतु बाघ राज्यों (Tiger States) को केंद्रीय सहायता उपलब्ध कराना है।
  • नोट- तात्कालिक परिस्थितियों के दृष्टिगत वर्ष 2006 में वन्यजीव (संरक्षण) अधिनियम, 1972 में संशोधन कर ‘प्रोजेक्ट टाइगर’ का प्रबंधन राष्ट्रीय बाघ संरक्षण प्राधिकरण (National Tiger Conservation Authority: NTCA) को सौंप दिया गया।
  • ज्ञातव्य है, कि एनटीसीए (NTCA) का गठन संशोधित वर्ष 2006 में वैधानिक निकाय के रूप में वन्यजीव (संरक्षण) अधिनियम, 1972 के प्रावधानों के अंतर्गत किया गया था। 

बाघ अभयारण्य

  • बाघ अभयारण्यों का गठन कोर/बफर (Core buffer) परिदृश्य के आधार पर किया जाता है।
  • कोर क्षेत्रों को एक राष्ट्रीय उद्यान (National Park) या एक सैंक्चुयरी (Sanctuary) का विधिक दर्जा (Legal Status) प्राप्त होता है।
  • जबकि बफर या परिधीय क्षेत्र (Buffer or peripheral)  वन एवं गैर-वन (Non-forest )  भूमि का मिला-जुला रूप है, जो बहुप्रयोग क्षेत्र (Multiple Use area) के रूप में प्रबंधित होता है।
  • प्रोजेक्ट टाइगर बाघ अभयारण्यों के कोर या क्रांतिक क्षेत्र में, ‘अनन्य बाघ एजेण्डा’ (Exclusive Tiger Agenda) को, जबकि बफर क्षेत्र में ‘समावेशी जन उन्‍मुख’ एजेण्डा (Exclusive Tiger Agenda) को प्रोत्साहन देता है।

बाघ अभयारण्य : अधिसूचित किए जाने की प्रक्रिया

  • बाघ अभयारण्यों को संबंधित राज्य सरकारों द्वारा राष्ट्रीय बाघ संरक्षण प्राधिकरण’ (NTCA) की सलाह पर अधिसूचित (Notified) किया जाता है।
  • यह अधिसूचना वन्‍यजीव (संरक्षण) आधिनियम, 1972 की धारा 38V के प्रावधानों के तहत जारी की जाती है।

 

भारत में बाघ परिदृश्य 

  • भारत में बाघ आवासित वनों को निम्नलिखित परिदृश्यों में वर्गीकृत किया गया है-

(i)  शिवालिक की पहाड़ियां एवं गंगा का मैदान क्षेत्र
(ii) मध्य भारतीय क्षेत्र
(iii)  पूर्वी घाट
(iv) पश्चिमी घाट
(v)  उत्तर-पूर्वी पहाड़ियां एवं ब्रह्मपुत्र का मैदान
(vi)  सुंदरवन
 

वर्तमान परिप्रेक्ष्य

  • 19 अक्टूबर, 2022 को उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा रानीपुर बाघ अभयारण्य के गठन की अधिसूचना जारी की गई।
  • ‘रानीपुर बाघ अभयारण्य’ उत्तर प्रदेश के चित्रकूट जिले में विस्तृत है।
  • यह देश का 53वां बाघ अभयारण्य है।

 

प्रमुख बिंदु

  • राज्य सरकार द्वारा रानीपुर बाघ अभयारण्य की अधिसूचना से पूर्व इस क्षेत्र को वर्ष 1977 में रानीपुर वन्‍यजीव विहार के रूप में मंजूरी दी गई थी।

सीमाओं का विवरण

  • उत्तरी सीमा: वन क्षेत्र की उत्तरी सीमा (जिला-चित्रकूट) 
  • पूर्वी सीमा: मध्य प्रदेश राज्य की सीमा (जिला -रीवा)
  • दक्षिणी सीमा: मध्य प्रदेश राज्य की सीमा (सतना एवं रीवा जिला)
  • पश्चिमी सीमा: मध्य प्रदेश की सीमा (मारकुण्डी रेंज, कुसमी वन खण्ड, गुरसराय वन खण्ड की पश्चिमी सीमा)
  • रानीपुर बाघ अभयारण्य, उष्णकटिबंधीय पर्णपाती वन क्षेत्र है, जिसमें बाघ, तेंदुए, भालू, चित्तीदार हिरण, सांभर और चिंकारा जैसे जीवों का वास है।
  • इसमें कई प्रकार के पक्षियों और सरीसृप की प्रजातियों की विविधता भी पाई जाती है।
  • पन्‍ना टाइगर रिजर्व और रानीपुर बाघ अभयारण्य एक-दूसरे के करीब स्थित हैं, जो बाघों के आवाजाही के लिए एक महत्वपूर्ण गलियारा है।

  • यह बुंदेलखण्ड क्षेत्र का पहला बाघ अभयारण्य है, जो उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश की सीमायी क्षेत्रों में विस्तृत है। 

अन्य महत्वपूर्ण तथ्य

  • बाघ (पैंथेरा टाइग्रिस टाइग्रिस) भारत का राष्ट्रीय पशु है।
  • मलेशिया एवं बांग्‍लादेश का राष्ट्रीय पशु बाघ ही है।
  • ध्यातव्य है, कि ‘विश्व बाघ दिवस’ प्रतिवर्ष 29 जुलाई को मनाया जाता है।
  • नवीनतम बाघ गणना वर्ष 2018 के अनुसार, भारत में बाघों की कुल संख्या 2967 दर्ज की गई है।
  • भारत में बाघों की सर्वाधिक संख्या वाला राज्य मध्य प्रदेश (526 बाघ) है।
  • सर्वाधिक ‘बाघ अभयारण्य’ मध्य प्रदेश और महाराष्ट्र में हैं, जिनकी संख्या 6 है। 
  • उत्तर प्रदेश में 173 बाघ हैं, जिसमें राज्य में दुधवा राष्ट्रीय उद्यान सबसे अधिक  बाघ आबादी वाला क्षेत्र है।

 

संकलन-पंकज तिवारी


Comments
List view
Grid view

Current News List