Contact Us - 9792276999 | 9838932888
Timing : 12:00 Noon to 20:00 PM (Mon to Fri)
Email - ssgcpl@gmail.com
|
|

Post at: Sep 21 2022

प्रधानमंत्री टीबी मुक्त भारत अभियान

टीबी मुक्त भारत की परिकल्‍पना

  • भारत में क्षय रोग (Tuberculosis:TB) अन्य सभी संक्रामक रोगों में सबसे अधिक मौतों का कारण बनता है, खासकर समाज के गरीब वर्ग में।
  • भारत में ‘टीबी के मरीजों की संख्या’ दुनिया के कुल टीबी मरीजों की संख्या के 25 प्रतिशत से अधिक है, जबकि भारत की पूरी आबादी, दुनिया की आबादी के 20 प्रतिशत से कम है।
  • राष्ट्रीय क्षय रोग उन्मूलन कार्यक्रम के अनुसार, वर्ष 2021 में अधिसूचित टीबी मरीजों की संख्या 19,33,381थी।
  • जो वर्ष 2020 के अधिसूचित मरीजों की संख्या से 19 प्रतिशत अधिक है।
  • ग्‍लोबल टीबी रिपोर्ट, 2021 के अनुसार, भारत में सभी प्रारूपों की अनुमानित टीबी मरीजों की दर वर्ष 2020 में एक लाख की जनसंख्या पर 188 थी। 
  • विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार, दुनियाभर में, टीबी मौत का 13वां प्रमुख कारण है और कोविड-19 के बाद दूसरा प्रमुख संक्रामक हत्यारा (Infectious Killer) है।

क्षय रोग (टीबी) क्‍या है ?

  • क्षय रोग या तपेदिक (टीबी) जीवाणु (माइकोबैक्‍टीरियम ट्‍यूबफ्‍लोसिस) के कारण होने वाला संक्रामक रोग है, जो अक्‍सर फेफड़ों को प्रभावित करता है।
  • यह शरीर के अन्य हिस्सों को भी प्रभावित कर सकता है।
  • यह एक इलाज योग्य बीमारी है।

संचरण

  • टीबी हवा के माध्यम से एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैलती है।
  • जब फेफड़े की टीबी से पीड़ित व्यक्ति खांसता, छींकता और थूकता है, तो वह टीबी के जीवाणुओं को हवा में फैला देता है। 

वैक्‍सीन

  • टीबी रोग के निवारण के लिए बैसिल-कैलमेट-गुएटिन (बीसीजी) टीका उपलब्ध है।

वर्तमान परिप्रेक्ष्य

  • 9 सितंबर, 2022 को भारत के राष्ट्रपति द्वारा ‘प्रधानमंत्री टीबी मुक्त भारत अभियान’ की शुरुआत की गई।
  • जिसका उद्देश्य वर्ष 2025 तक देश में क्षय रोग (टीबी) उन्मूलन मिशन को मजबूत करना है।
  • आयोजन के दौरान ही, राष्ट्रपति द्वारा टीबी पीड़ित व्यक्तियों को सामुदायिक सहायता प्रदान करने के लिए ‘‘निक्षय 2.0  पहल’’ की शुरुआत की गई ।

प्रमुख बिंदु

  • राष्ट्रीय क्षय रोग उन्‍मूलन कार्यक्रम (National Tuberculosis Elimination Programme :NTEP), जिसे पहले संशोधित राष्ट्रीय क्षय रोग नियंत्रण कार्यक्रम (Revised National Tuberculosis Control Programme : RNTCP)  के रूप में जाना जाता था, का लक्ष्य भारत में टीबी के बोझ को सतत विकास लक्ष्याें (वर्ष 2030) से पांच साल पहले वर्ष 2025 तक रणनीतिक रूप से कम करना है।
  • भारत से वर्ष 2025 तक टीबी उन्‍मूलन करने के भारत सरकार के उद्देश्य को ध्यान में रखते हुए RNTCP का नाम बदलकर NTEP  कर दिया गया ।
  • वर्ष 2025 तक टीबी उन्‍मूलन के इसी मिशन को मजबूत करने के लिए ‘प्रधानमंत्री टीबी मुक्त भारत अभियान’ की शुरुआत की गई।
  • यह वर्ष 2025 तक टीबी उन्‍मूलन की दिशा में देश की प्रगति में तेजी लाने के लिए स्वास्थ्य और परिवार कल्‍याण मंत्रालय की एक पहल है।

निक्षय 2.0 पहल

  • यह डिजिटल पोर्टल टीबी से पीड़ित व्यक्तियों के लिए सामुदायिक सहायता के लिए एक मंच प्रदान करेगा।
  • निक्षय पोर्टल में लगभग 13.5 लाख टीबी मरीज पंजीकृत हैं, जिनमें से 8.9 लाख सक्रिय टीबी मरीजों ने गोद लेने (Adoption) के लिए अपनी सहमति दी है।

निक्षय मित्र पहल

  • नि-क्षय मित्र बनने के लिए, संरक्षक को पंजीकरण करना होगा, जिसमें वे पोषण, नैदानिक, व्यावसायिक और अतिरिक्त पोषण संबंधी पूरक सहायता कर सकते हैं।
  • निक्षय मित्र समर्थन की अवधि (1 वर्ष से 3 वर्ष तक) चुन सकते हैं और राज्य, जिला, ब्‍लॉक और स्वास्थ्य सुविधाओं का भी चयन कर सकते हैं।

उद्देश्य
प्रधानमंत्री टीबी मुक्त भारत अभियान का उद्देश्य :

  • टीबी रोगियों के उपचार परिणामों में सुधार के लिए अतिरिक्त सहायता प्रदान करना है।
  • वर्ष 2025 तक टीबी को समाप्त करने के लिए सभी हितधारकों को एक साथ लाना।
  • काॅर्पोरेट सामाजिक उत्तरदायित्व (CSR)  गतिविधियों का लाभ उठाना है।

राष्ट्रीय क्षय रोग उन्‍मूलन कार्यक्रम

  • यह एक बहुआयामी दृष्टिकोण है, जिसका उद्देश्य निजी प्रदाताओं से देखभाल की मांग करने वाले टीबी रोगियों और उच्‍च जोखिम वाली आबादी में न पता लगने वाले टीबी के मामलों तक पहंुच कायम करने पर बल देते हुए सभी रोगियों का पता लगाना है।
  • यह 632 जिलों/रिर्पोटिंग इकाइयों में से एक बिलियन से अधिक लोगों तक पहुंच बना चुका है।
  • यह राज्यों/केंद्रशासित प्रदेशों के साथ मिलकर टीबी उन्मूलन के लिए भारत सरकार की पंचवर्षीय राष्ट्रीय रणनीतियों, योजनाओं को संचालित करने के लिए उत्तरदायी है।

टीबी का वैश्विक प्रभाव

  • टीबी दुनिया के हर हिस्से में होता है, WHO  के अनुसार, वर्ष 2020 में दक्षिण-पूर्व एशियाई क्षेत्र में सबसे अधिक नए टीबी के मामले दर्ज किए गए।
  • इसके बाद अफ्रीका क्षेत्र तथा पश्चिमी प्रशांत क्षेत्र थे।
  • टीबी के नए मामलों के दो-तिहाई मामलों में आठ देशों का योगदान है- भारत, चीन, इण्डोनेशिया, पाकिस्तान, नाइजीरिया, बांग्‍लादेश और दक्षिण अफ्रीका एक देश कम है।

भारत के टीबी उन्‍मूलन के लिए किए गए प्रयास

  • भारत के टीबी उन्‍मूलन कार्यक्रम को वर्ष 2030 तक सतत् विकास लक्ष्यों (एसडीजी) से 5 साल पहले ही वर्ष 2025 तक टीबी उन्‍मूलन का लक्ष्य करना।
  • भारत सरकार द्वारा निम्नलिखित रणनीतियां और अभियान शुरू किए गए हैं-
  • क्षय रोग उन्‍मूलन रणनीति (2017-25)
  • नि-क्षय पारिस्थितिकी तंत्र (राष्ट्रीय टीबी सूचना प्रणाली)
  • टीबी हारेगा, देश जीतेगा’ अभियान के लिए राष्ट्रीय रणनीतिक योजना। 
  • नि-क्षय पोषण योजना-इसके अंतर्गत टीबी रोगियों को प्रत्यक्ष लाभ हस्तांतरण के माध्यम से 500 रुपये की सहायता प्रदान की जाती है।

आयुष्मान भारत डिजिटल स्वास्थ्य मिशन  

  • इसके अंतर्गत टीबी रोगियों के लिए डिजिटल स्वास्थ्य आईडी बनाने पर ध्यान केंद्रित किया जा रहा है, ताकि प्रभावी उपचार प्रदान किया जा सके।

संकलन-पंकज तिवारी
 

 


Comments
List view
Grid view

Current News List