Contact Us - 9792276999 | 9838932888
Timing : 12:00 Noon to 20:00 PM (Mon to Fri)
Email - ssgcpl@gmail.com
|
|

Post at: Sep 16 2022

फलों एवं सब्जियों के संरक्षण हेतु एडिबल (Edible) कोटिंग का विकास

 पृष्ठभूमि

  • भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद के अनुसार, समुचित भण्डारण एवं रख-रखाव की कमी के कारण देश में प्रतिवर्ष 4.6 प्रतिशत से 15.9 प्रतिशत तक फल एवं सब्जियां फसलोत्पादन के पश्चात नष्ट हो जाती हैं। 
  • वास्तव में कुछ उत्पादों, जिनमें टमाटर, आलू और प्याज शामिल हैं कि दशा में यह हानि 19 प्रतिशत से अधिक हाे जाती है। इसके कारण अधिक मांग वाली वस्तुओं की कीमत अधिक बढ़ जाती है।

 वर्तमान परिप्रेक्ष्य

  • हाल ही में भारतीय तकनीकी संस्थान गुवाहाटी के शोधकर्ताओं ने फलों एवं सब्जियों को शीघ्र क्षति होने से बचाने के लिए खाने योग्य पदार्थों का एक लेप तैयार किया है।
  • इस लेप को फलों एवं सब्जियों पर लगाने से यह 1-2 महीने तक संरक्षित किए जा सकते हैं।
  • यह खाने योग्य लेप सूक्ष्म शैवालों के अर्क तथा पॉलीसेक्राइड्‍स के मिश्रण से तैयार किया गया है।
  • इसके अतिरिक्त कैरोटे नायड्‍स प्रोटीन ओर पाॅलीसेक्राइड्‍स सहित विभिन्‍न प्रकार के बायोएक्टिव पदार्थों की उपस्थिति के कारण समुद्री शैवाल ‘डुनालिएला टर्शिओलेक्टा’ अपने विषाक्तता रहित गुणों के लिए भी जाना जाता है।
  • इससे उत्पादित शैवाल तेल, ओमेगा-3 फैटी एसिड के गैर -पशु स्रोत के साथ-साथ जैव ईंधन के संभावित स्रोत के रूप में भी उपयोगी माना जाता है।
  • उत्पादन एवं आपूर्ति श्रृंखला के बीच में होने वाली क्षति को कम करना, जिसमें फसल उत्पादन के बाद होने वाली क्षति भी शामिल है।

लाभ

  •  वैज्ञानिकों द्वारा विकसित यह खाद्य लेप किसानों को उत्पादन पश्चात अपनी फसलों में होने वाली क्षति को कम करने में सहायक होगा।
  • इससे फलों एवं सब्जियों के मूल्य में होने वाली वृद्धि में भी कमी आएगी।
  • विभिन्‍न उत्पादों की मांग एवं पूर्ति के अंतर को कम करने में मदद मिलेगी।
  • खाने योग्य कोटिंग के प्रयोग से देश को फलों एवं सब्जियों की उत्पादन पश्चात होने वाली क्षति को कम करने से संबंधित सतत विकास लक्ष्य (SDG) 12.3 को प्राप्त करने में मदद मिलेगी, जिसकी समय-सीमा वर्ष 2030 है।
  • प्राथमिक एवं द्वितीय लेपन (Coating)  के लिए डिपिंग तकनीक का प्रयोग करके यह खाद्य लेप टमाटर, आलू, प्याज एवं हरी मिर्च के संरक्षण में भी सहायक होगा।

 

संकलन-अतुल शुक्‍ला
 

 


Comments
List view
Grid view

Current News List