Contact Us - 9792276999 | 9838932888
Timing : 12:00 Noon to 20:00 PM (Mon to Fri)
Email - ssgcpl@gmail.com
|
|

Post at: Sep 10 2022

’स्वच्छ सागर‚ सुरक्षित सागर अभियान’

परिचय

  • भारत एक विशाल महासागरीय संसाधनों वाला देश है‚ जिसका प्रमाण इसकी 7500 किमी. से अधिक लंबी तट रेखा प्रदान करती है। 
  • साथ ही विश्व में भारत ही एक मात्र देश है‚ जिसके नाम पर किसी महासागर (हिंद महासागर) का नामकरण हुआ है।
  • मानव समाज इस विशाल महासागरीय संपदा से निरंतर लाभान्वित होता रहा है। 
  • परंतु हाल के दिनों में प्लास्टिक अपशिष्ट‚ पर्यटन‚ मत्स्यन आदि ’समुद्री पारिस्थितिकी तंत्र’ के लिए एक गंभीर खतरा पैदा करते हैं।
  • समुद्री स्वच्छता को ध्यान में रखते हुए प्रतिवर्ष सितंबर माह के तीसरे शनिवार को ’अंतरराष्ट्रीय समुद्र तटीय सफाई दिवस’ मनाया जाता है।
  • ध्यातव्य है‚ कि ’अंतरराष्ट्रीय समुद्र तटीय सफाई दिवस’ की शुरुआत वर्ष 1986 से मानी जाती है।

वर्तमान परिप्रेक्ष्य

  • 3 जुलाई‚ 2022 को ’स्वच्छ सागर‚ सुरक्षित सागर अभियान’ की शुरुआत हुई
  • यह अभियान 17 सितंबर‚ 2022 को ’अंतरराष्ट्रीय तटीय सफाई दिवस’ तक चलेगा‚ जिसकी कुल अवधि 75 दिनों की होगी।
  • इस अभियान की शुरुआत ’पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय’ द्वारा की गई।
  • यह दुनिया में अपनी तरह का पहला और सबसे लंबे समय तक चलने वाला तटीय सफाई अभियान है।
  • इस अभियान का उद्देश्य समुद्री जीवन पर प्लास्टिक के उपयोग के ’हानिकारक प्रभाव’ के संदर्भ में लोगों को जागरूक करना तथा उनके व्यवहार में परिवर्तन लाना है।
  • यह अभियान भारत द्वारा संयुक्त राष्ट्र के ’समुद्री तटीय स्वच्छता’ (Coastal Clean Seas) अभियान के हस्ताक्षरकर्ता तथा ’स्वच्छ भारत’ दृष्टिकोण के साथ सार्थकता को सिद्ध करता है।

महत्वपूर्ण बिंदु

  • यह अभियान देश की आजादी के 75 वर्षों के उपलक्ष्य में मनाए जा रहे ’अमृत महोत्सव’ के साथ संबद्ध है।
  • यह अभियान देश के 75 समुद्र तटों की सफाई हेतु 75 स्वयंसेवकों के माध्यम से चलाया जा रहा है।
  • ये स्वयंसेवक प्रति एक किलोमीटर समुद्र तट को आच्छादित (Cover) करेंगे।
  • इस अभियान में 3 रणनीतिक अंतर्निहित लक्ष्य समाहित हैं‚ जो व्यवहार परिवर्तन के माध्यम से पर्यावरण संरक्षण को लक्षित करते हैं।
  • अभियान के तीन अंतर्निहित लक्ष्य हैं—

1.    जिम्मेदारी से उपभोग करना (Consume Responsibly)
2.    घर में कचरे को अलग करना (Segregate Waste at Home)
3.    जिम्मेदारी से निपटान करना (Dispose Responsibly)

अभियान में भागीदार संस्थाएं

  • इस अभियान में पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय (MoES); पर्यावरण‚ वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय (MoEFCC); राष्ट्रीय सेवा योजना (NSS); भारतीय तटरक्षक बल; राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (NDMA); सीमा जागरण मंच तथा अन्य सामाजिक संगठन और शैक्षणिक संस्थान शामिल हैं।
  • इस अभियान का लक्ष्य लगभग 1500 टन समुद्री अपशिष्ट को समुद्र तटों से हटाना है‚ जिससे इस क्षेत्र में रहने वाले समुद्री जीवों और लोगों को काफी राहत मिलेगी।
  • इस अभियान हेतु 10 करोड़ रुपये का खर्च अनुमानित है।
  • अभियान में कुल 9 राज्यों एवं 4 केंद्रशासित प्रदेशों के 75 समुद्र तटों को शामिल किया गया है‚ जिनमें सर्वाधिक दस (10) समुद्र तट गुजरात और अण्डमान एवं निकोबार द्वीपसमूह के हैं।

अन्य तथ्य

  • अभियान के बारे में आम लोगों में जागरूकता फैलाने तथा समुद्र तट की सफाई गतिविधि के लिए स्वैच्छिक पंजीकरण के लिए ’इकोमित्रम’ (Eco Mitram) नामक मोबाइल ऐप लांच किया गया है।
  • ध्यातव्य है‚ कि भारत सरकार ने 1 जुलाई‚ 2022 से संपूर्ण भारत में एकल उपभोग प्लास्टिक पर प्रतिबंध लागू कर दिया है।
  • यह अभियान सतत विकास लक्ष्य 14 और इसके उपलक्ष्य 14.1 के अनुरूप भूमि आधारित और अपतटीय गतिविधियों दोनों से प्रदूषण को रोकने का व्यापक दृष्टिकोण है‚ जो वर्ष 2025 तक ’’सभी प्रकार के समुद्री प्रदूषण को रोकने और महत्वपूर्ण रूप से काम करने’’ का प्रयास करता है।

संकलन - मनीष प्रियदर्शी


Comments
List view
Grid view

Current News List