Contact Us - 9792276999 | 9838932888
Timing : 12:00 Noon to 20:00 PM (Mon to Fri)
Email - ssgcpl@gmail.com
|
|

Post at: Sep 09 2022

भारत का पहला यात्री ड्रोन- ‘‘वरुण’’

वर्तमान परिप्रेक्ष्य

  • 18 जुलाई‚ 2022 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारत के पहले स्वदेशी यात्री ड्रोन ‘‘वरुण’’ (Varuna) का अनावरण किया। 
  • इसका अनावरण ‘डॉ. अंबेडकर इंटरनेशनल सेंटर’ (Dr. Ambedkar International Centre), नई दिल्ली में ‘नौसेना नवाचार और स्वदेशीकरण संगठन’ (Naval Innovation and Indigenisation Organisation : NIIO) द्वारा आयोजित संगोष्ठी ‘स्वालंबन’ (Swavlamban) के कार्यक्रम में किया गया।
  • ध्यातव्य है कि 18-19 जुलाई 2022 को नई दिल्ली में नौसेना नवाचार और स्वदेशीकरण संगठन की पहली संगोष्ठी ‘स्वावलंबन’ का आयोजन किया गया था। 
  • यह भारतीय नौसेना के लिए विकसित किया गया पायलट रहित ड्रोन है। 

विनिर्माण

  • इसको पुणे‚ महाराष्ट्र की एक ‘स्टार्टअप सागर डिफेंस इंजीनियरिंग’ (Sagar Defence Engineering) ने नौसेना के ‘डीएसआर’ (DSR) एवं ‘नेवल टेक्नोलॉजी डेवलपमेंट एक्सिलेरेशन सेल’ (Naval Technology Development Acceleration Cell : NTDAC) के साथ मिलकर विकसित किया है।  

मुख्य विशेषताएं

  • यह एक पायलट रहित ड्रोन है। 
  • इसका संचालन रिमोट से किया जाता है।
  • इसमें एक व्यक्ति को अंदर ले जाने की क्षमता है। 
  • यह अपने साथ 130 किग्रा. तक पेलोड ले जा सकता है।  
  • यह 25 किमी. तक की दूरी तय कर सकता है।  
  • इसे लगभग 25-33 मिनट तक उड़ाया जा सकता है।
  • ड्रोन तकनीकी खराबी के बाद भी सुरक्षित लैण्डिंग में सक्षम है। 
  • आपात स्थिति में इसका पैराशूट अपने आप खुल जाएगा‚ जो इसे सुरक्षित रूप में लैण्ड कराएगा। 
  • इसमें चार ऑटो पायलट मोड हैं‚ जो कुछ गड़बड़ी होने की स्थिति में भी इसके लगातार उड़ने की क्षमता को बरकार रखेंगे।  

अनुप्रयोग

  • एयर एंबुलेंस एवं दूर-दराज के इलाकों में माल परिवहन के लिए इसका प्रयोग किया जा सकेगा। 
  • यह नौसेना की जंगी जहाजों पर भी लैण्डिंग एवं टेक ऑफ कर सकेगा। 
  • यह नौसेना की कई अन्य आवश्यकताओं को पूरा करेगा। 
  • कृषि क्षेत्र‚ रक्षा‚ आपदा प्रबंधन एवं हेल्थ केयर डिलीवरी के लिए भी इसका उपयोग किया जा सकेगा। 

अन्य महत्वपूर्ण तथ्य

  • 15 सितंबर‚ 2021 को केंद्र सरकार ने ड्रोन उद्योग के विनिर्माण और सेवाओं को बढ़ावा देने के लिए ‘प्रोडक्शन लिंक्ड इंसेंटिव’ (Production Linked Incentive : PLI ) योजना की शुरुआत की। 
  • 9 फरवरी‚ 2022 को ड्रोन के घरेलू निर्माण को बढ़ावा देने के लिए‚ केंद्र सरकार ने भारत में ड्रोन के आयात पर तत्काल प्रभाव से प्रतिबंध लगा दिया है। 
  • मार्च‚ 2022 में मध्य प्रदेश के ग्वालियर में देश का पहला ड्रोन स्कूल खोला गया। 
  • इसके साथ ही चार अन्य स्थानों पर भी ड्रोन स्कूल खोले जाने की घोषणा की गई है। 
  • ये चार अन्य शहर हैं— भोपाल‚ इंदौर‚ जबलपुर एवं सतना। 
  • 27 मई‚ 2022 को नई दिल्ली के प्रगति मैदान में ‘भारत ड्रोन महोत्सव’ (Bharat Drone Mahotasav) 2022 का आयोजन किया गया
  • मई‚ 2022 में डाक विभाग द्वारा पहली बार गुजरात के कच्छ जिले में एक ड्रोन का उपयोग करके पार्सल भेजा गया। 

संकलन : संतोष कुमार पाण्डेय

 


Comments
List view
Grid view

Current News List