Contact Us - 9792276999 | 9838932888
Timing : 12:00 Noon to 20:00 PM (Mon to Fri)
Email - ssgcpl@gmail.com
|
|

Post at: Sep 07 2022

चीन : भारत सीमा के पास वायु रक्षा मिसाइल प्रणाली का परीक्षण

वर्तमान परिप्रेक्ष्य

  • 15 अगस्त‚ 2022 को चीन में भारत-चीन सीमा के पास काराकोरम पठारी क्षेत्र में सतह से हवा में मार करने वाली रक्षा मिसाइल प्रणाली का परीक्षण किया गया।
  • यह परीक्षण झिंजियांग सैन्य कमान द्वारा किया गया‚ जो भारत के साथ चीन की सीमा की देखरेख करती है।

प्रमुख बिंदु

  • झिंजियांग कमाण्ड द्वारा परीक्षण किए गए वायु रक्षा प्रणाली का नाम HQ-17A है।
  • इस वायु रक्षा प्रणाली को वर्ष 2021 में झिंजियांग कमाण्ड द्वारा कमीशन किया गया था।
  • यह एक कम दूरी को लक्षित करने वाली वायु रक्षा प्रणाली है।
  • HQ-17A एकीकृत प्रणाली का हिस्सा है‚ जो वाहन में लगाया जा सकता है।
  • यह प्रणाली लक्ष्य को तीव्र गति एवं सटीकता से भेदने में सक्षम है।
  • इसमें रडार और मिसाइल दोनों होते हैं।
  • HQ-17A वायु रक्षा प्रणाली विमान‚ हेलीकॉप्टर‚ यूएवी (UAV), क्रूज मिसाइल और सटीक निर्देशित युद्ध सामग्री सहित सभी प्रकार के आधुनिक हवाई लक्ष्यों को निशाना बना सकती है।

वायु रक्षाप्रणाली के परीक्षण का प्रभाव

  • मिसाइल परीक्षण पूर्वी लद्दाख क्षेत्र में भारत-चीन के बीच सैन्य तनाव की पृष्ठभूमि में किया गया है।
  • जो दोनों देशों की सैन्य तैयारियों को बढ़ावा देने पर जोर देने का कार्य करेगी। 
  • भारत और चीन के बीच वास्तविक नियंत्रण रेखा (Line of Actual Control : LAC) के दोनों ओर हजारों सैनिकों को तैनात किया गया है‚ जिसमें कई दौर की कूटनीतिक और सैन्य वार्ता विफल रही है।
  • ऐसे में वायु रक्षा प्रणाली का LAC के पास परीक्षण कूटनीतिक वार्ता में अविश्वास को पैदा करेगा।
  • ध्यातव्य है‚ कि वर्ष 2018 में दोनों देशों के बीच डोकलाम सीमा- विवाद और वर्ष 2022 में गलवान घाटी-विवाद दोनों देशों के बीच सैन्य वार्ता की विफलता के परिणाम रहे हैं।

अन्य बिंदु

  • मार्च‚ 2022 में डीआरडीओ (DRDO) ने मध्यम श्रेणी की सतह से हवा मिसाइल (Medium Range Surface to Air Missile : MRSAM) प्रणाली का परीक्षण किया था।
  • यह परीक्षण ओडिशा तट स्थित चांदीपुर में एकीकृत परीक्षण  रेंज से किया गया था।

संकलन - पंकज तिवारी


Comments
List view
Grid view

Current News List