Contact Us - 9792276999 | 9838932888
Timing : 12:00 Noon to 20:00 PM (Mon to Fri)
Email - ssgcpl@gmail.com
|
|

Post at: Sep 06 2022

जर्मनी : दुनिया का पहला हाइड्रोजन से चलने वाला ट्रेन बेड़ा

पृष्ठभूमि

  • वर्ष 2018 में जर्मनी ने हाइड्रोजन से चलने वाली ट्रेन सेवा शुरू की थी। 
  • यह उपलब्धि हासिल करने वाला वह विश्व का पहला देश था।
  • इसी प्रगति को आगे बढ़ाते हुए जर्मनी ने हाइड्रोजन द्वारा संचालित 14 ट्रेनों का एक बेड़ा (Fleet) शुरू किया है।
  • जो विश्व में हाइड्रोजन द्वारा संचालित पहला बेड़ा है।

हाइड्रोजन ट्रेन

  • हाइड्रोजन ट्रेन फ्यूल सेल का उपयोग करती है‚ जो ऑक्सीजन के साथ हाइड्रोजन को मिलाकर बिजली पैदा करती है।
  • इस प्रक्रिया में केवल भाप और पानी का ही उत्सर्जन होता है‚ जो इसे ’शून्य उत्सर्जन’ प्रणाली बनाती है।
  • विद्युत उत्पादन के दौरान अतिरिक्त ऊर्जा को ट्रेन में आयन - लीथियम बैटरी में संगृहित कर ली जाती है।

वर्तमान परिप्रेक्ष्य

  • 24 अगस्त‚ 2022 को जर्मनी ने दुनिया के पहले हाइड्रोजन संचालित ट्रेन बेड़े का उद्‌घाटन किया।
  • इन ट्रेनों का संचालन जर्मनी के लोअर सैक्सोनी राज्य में गैर-विद्युतीकृत पटरियों पर चलने वाली डीजल ट्रेनों को बदलने के लिए किया जाएगा।

प्रमुख बिंदु

  • नए हाइड्रोजन ट्रेन बेड़े का निर्माण फ्रांसीसी कंपनी एल्सटॉम द्वारा किया गया है।
  • जिसका संचालन क्षेत्रीय रेल कंपनी लोअर सैक्सनी ट्रांसपोर्ट     अथॉरिटी द्वारा किया जाएगा।
  • जिसमें 14 कोराडिया आईलिंट (Coradia iLint) हाइड्रोजन ट्रेनें शामिल की गई हैं।
  • अपनी अर्थव्यवस्था को हरित बनाने के लिए लोअर सैक्सोनी राज्य ने इस परियोजना के लिए 92 मिलियन अमेरिकी   डॉलर का निवेश किया है।

हाइड्रोजन ट्रेनों का महत्व

  • ये ट्रेनें बहुत कम आवाज सृजित करती हैं‚ जिससे ध्वनि प्रदूषण कम होता है।
  • रेलवे स्टेशनों पर इन ट्रेनों में ईंधन भरने के बुनियादी ढांचे (अवसंरचना) का निर्माण आसानी से किया जा सकता है।
  • ये ट्रेनें वायु प्रदूषण से निपटने के लिए संधारणीय विकल्प प्रदान करती हैं।

अन्य बिंदु : एल्सटॉम

  • एल्सटॉम (Alstom) एक फ्रांसीसी बहुराष्ट्रीय रोलिंग स्टॉक निर्माता है‚ जो रेल परिवहन बाजारों से जुड़ा हुआ है। 
  • इसकी स्थापना वर्ष 1928 में की गई थी।
  • एल्सटॉम ने जर्मनी‚ फ्रांस और इटली में हाइड्रोजन ट्रेनों के संचालन के लिए अनुबंधों पर हस्ताक्षर किए हैं।

संकलन - पंकज तिवारी


Comments
List view
Grid view

Current News List