Contact Us - 9792276999 | 9838932888
Timing : 12:00 Noon to 20:00 PM (Mon to Fri)
Email - ssgcpl@gmail.com
|
|

Post at: Aug 31 2022

एसआई का स्वीडन के साथ समझौता

वर्तमान परिप्रेक्ष्य

  • 26 अगस्त, 2022 को भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण (Airports Authority of India: AAI) ने स्वीडन के साथ समझौता-ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए।
  • समझौता-ज्ञापन पर हस्ताक्षर नई दिल्‍ली स्थित प्राधिकरण के कॉरपोरेट मुख्यालय में किया था।

विवरण

  • समझौते के तहत अगली पीढ़ी वाली सतत विमानन प्रौद्योगिकी (Sustainble aviation technology) को तैयार करना और उसे संचालित करना।
  • अगली पीढ़ी के स्मार्ट अड्डों (Next-Generation smart airports) के तेज विकास और सतत यातायात प्रणालियों (Sustainable transport systems) के निर्माण की आवश्यकता को ध्यान में रखते हुए दोनों पक्षों ने समझौता-ज्ञापन के तहत निम्नलिखित तत्वों (Elements)  पर सहमति व्यक्त की है।
  • विमानन ज्ञान और तकनीकी स्थनांतरण कार्यक्रम का आदान-प्रदान।
  • दोनों एजेंसियों के बीच करीबी और मैत्रीपूर्ण रिश्तों को प्रोत्साहित करना।
  • हवाई अड्‍डों पर तकनीकी सहयोग को बढ़ाने का लक्ष्य।
  • सुरक्षित, संरक्षित, सतत औश्र कारगर विमानन सेक्टर के विकास को समर्थन।
  • द्विपक्षीय और अंतरराष्ट्रीय व्यापार को प्रोत्साहित करने में रचनात्मक सहयोग।

सहयोग क्षेत्र और गतिविधि की योजना

  • भारत और स्वीडन की दोनों एजेंसियां एएआई (AAI) और एलएफवी (LFV) निम्नलिखित क्षेत्रों में संयुक्त रूप से सहयोग करेंगी।
  • हवाई यातायात प्रबंधन (Air Traffic Management)
  • हवाइ्र यातायात नियंत्रण (Air Traffic Control)
  • स्थानीय नियंत्रण कक्ष के अलावा अन्य स्थान से विमानपत्तन प्रबंधन और यातायात नियंत्रण (Remote Airport Management and Traffic Control)
  • एयरस्पेस की डिजाइन और योजना (Airspace Design and Planning)
  • हवाई अड्‍डे की डिजाइन और अवसंरचना (Airport Design and Infrastructure)
  •  डिजिटलीकरण किए हुए हवाई अड्‍डे और विमानन (Digitalized Airport and Aviation)
  • क्षमता और प्रशिक्षण (Capability and Training)
  • चिरस्थायी हवाई अड्‍डे और विमानन (Sustainable Airport and Aviation)
  • पायलटो के लिए प्रक्रियायें (Processes for Pilots)
  • उन्नयन के लिए प्रक्रियायें (Processes for scale-up)
  • इसके साथ ही दोनों साथ ही दोनों देशों के बीच सहयोग में तेजी लाने और आपसी हितों वाले क्षेत्रों की प्राथमिकता तय करने के लिए एक संयुक्त कार्य समूह गठित (Joint Working Group: JWG) किया जाएगा।

निष्कर्ष

  • यह समझौता-ज्ञापन भारत और स्वीडन के बीच निरतंरता (Sustainability), स्वास्थ्य सुविधा (Healthcare), नवाचार (Innovation), ऊर्जा (Energy) और अवसंरचना (infrastructure) आदि क्षेत्रों में मौजूदा सहयोग के अलावा विमानन सेक्टर (Aviation Sector) में दोनों सरकारों के बीच सहयोग में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा।

संकलन-आदित्य भारद्वाज
 

 


Comments
List view
Grid view

Current News List