Contact Us - 9792276999 | 9838932888
Timing : 12:00 Noon to 20:00 PM (Mon to Fri)
Email - ssgcpl@gmail.com
|
|

Post at: Aug 30 2022

आवधिक श्रम बल सर्वेक्षण : वार्षिक रिपोर्ट (जुलाई‚ 2020-जून‚ 2021)

पृष्ठभूमि

  • अपेक्षाकृत अधिक नियमित समय अंतराल पर श्रम बल के आंकड़ों की उपलब्धता की अहमियत को ध्यान में रखते हुए ‘राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय’ (NSO) द्वारा अप्रैल‚ 2017 से ‘आवधिक श्रम बल सर्वेक्षण’ (Periodic Labour Force Survey) का शुभारंभ किया गया।

 उद्देश्य 

  • ‘आवधिक श्रम बल सर्वेक्षण’ (PLFS) के मुख्यत: दो उद्देश्य हैं-

(i)    वर्तमान साप्ताहिक स्थिति (Current Weekly Status) में शहरी क्षेत्रों के लिए तीन माह के अल्पकालिक अंतराल पर प्रमुख रोजगार एवं बेरोजगारी संकेतकों (अर्थात श्रमिक जनसंख्या अनुपात‚ श्रम बल भागीदारी दर‚ बेरोजगारी दर) का अनुमान लगाना। 
(ii)प्रतिवर्ष ग्रामीण और शहरी दोनों ही क्षेत्रों में सामान्य स्थिति (PS+SS) तथा वर्तमान साप्ताहिक स्थिति (CWS) दोनों में रोजगार और बेरोजगारी संकेतकों का अनुमान लगाना।

  • राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय (NSO) द्वारा अब तक ग्रामीण एवं शहरी दोनों ही क्षेत्रों को आच्छादित (Cover) करने वाली तीन वार्षिक रिपोर्ट जारी की गई।
  • चौथी वार्षिक रिपोर्ट ‘राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय’ (NSO) द्वारा जुलाई‚ 2020 - जून‚ 2021 के दौरान किए गए आवधिक श्रम बल सर्वेक्षण के आधार पर जारी किया गया है।
  • महत्वपूर्ण रोजगार एवं बेरोजगारी संकेतकों की अवधारणात्मक रूपरेखा : - आवधिक श्रम बल सर्वेक्षण (PLFS) में महत्वपूर्ण रोजगार एवं बेरोजगारी संकेतकों; जैसे कि श्रम बल भागीदारी दर (LFPR), कामगार-जनसंख्या अनुपात (WPR)‚ बेरोजगारी दर (UR) आदि के अनुमान दिए जाते हैं‚ जो निम्न हैं-

A. श्रम बल भागीदारी दर (Labour Force Participation Rate: LFPR) : श्रम बल भागीदारी दर (LFPR) को कुल आबादी में श्रम बल के अंतर्गत आने वाले व्यक्तियों (अर्थात कहीं कार्यरत या काम की तलाश में या काम के लिए उपलब्ध) के प्रतिशत के रूप में परिभाषित किया जाता है।
B.  कामगार - जनसंख्या अनुपात (Worker Population Ratio: WPR) :- कामगार-जनसंख्या अनुपात को कुल आबादी में रोजगार प्राप्त व्यक्तियों के प्रतिशत के रूप में परिभाषित किया जाता है।
C. बेरेाजगादी दर (Unemployment Rate : UR) :- बेरोजगारी दर को श्रम बल में शामिल कुल लोगों में बेरोजगार व्यक्तियों के प्रतिशत के रूप में परिभाषित किया जाता है।
D. कार्यकलाप की स्थिति : सामान्य (Activity Status : Usual) :- किसी भी व्यक्ति के कार्यकलाप की स्थिति का निर्धारण निर्दिष्ट संदर्भ अवधि के दौरान उस व्यक्ति द्वारा किए गए कार्यों के आधार पर किया जाता है।

  • जब सर्वेक्षण की तारीख से ठीक पहले के 365 दिनों की संदर्भ अवधि के आधार पर कार्यकलाप की स्थिति का निर्धारण किया जाता है‚ तो इसे उस व्यक्ति के सामान्य कार्यकलाप की स्थिति (Usual Activity Status) के तौर पर जाना जाता है। 

E. कार्यकलाप की स्थिति : वर्तमान साप्ताहिक (Activity Status : Current Weekly) :- जब सर्वेक्षण की तारीख से ठीक पहले के सात दिनों की संदर्भ अवधि के आधार पर कार्यकलाप की स्थिति का निर्धारण किया जाता है‚ तो इसे उस व्यक्ति की वर्तमान साप्ताहिक स्थिति (Current Weekly Status) के रूप में जाना जाता है।

  • आवधिक श्रम बल सर्वेक्षण (PLFS), 2020-21 के मुख्य निष्कर्ष :- 
    • सभी उम्र के व्यक्तियों के लिए आवधिक श्रम बल सर्वेक्षण (PLFS), 2020-21 तथा 2019-20 के दौरान सामान्य स्थिति (प्रमुख तथा सहायक कार्यकलाप की स्थिति) में श्रम बल भागीदारी दर‚ कामगार-जनसंख्या अनुपात तथा बेरोजगारी दर प्रतिशत में - 

 

  • प्रमुख कार्यकलाप की स्थिति- ऐसे कार्यकलाप की स्थिति‚ जिस पर किसी व्यक्ति ने सर्वेक्षण की तिथि से ठीक पहले 365 दिनों के दौरान अपेक्षाकृत लंबा समय (अवधि संबंधी प्रमुख पैमाना) व्यतीत किया था‚ उसे उस व्यक्ति के सामान्य प्रमुख कार्यकलाप की स्थिति माना गया।
  • सहायक आर्थिक कार्यकलाप की स्थिति- ऐसे कार्यकलाप की स्थिति‚ जिसमें किसी व्यक्ति ने अपने सामान्य प्रमुख कार्यकलाप के अलावा सर्वेक्षण की तिथि से ठीक पहले 365 दिनों की संदर्भ अवधि के दौरान 30 दिन या उससे अधिक समय तक कुछ आर्थिक गतिविधि की थी‚ उसे उस व्यक्ति के सहायक आर्थिक कार्यकलाप की स्थिति माना गया।

संकलन-शिवशंकर तिवारी
 


Comments
List view
Grid view

Current News List