Contact Us - 9792276999 | 9838932888
Timing : 12:00 Noon to 20:00 PM (Mon to Fri)
Email - ssgcpl@gmail.com
|
|

Post at: Aug 29 2022

एचपीसीएल की पहली बायोगैस परियोजना

वर्तमान परिप्रेक्ष्य

  • 23 अगस्त, 2022 को ‘‘गोबर से संपीडित बायोगैस परियोजना’’ (Cowdung to compressed Biogas Project)  की शुरुआत की गई।
  • इस परियोजना का शिलान्‍यास राजस्थान के जालौर जिला स्थित सांचौर तहसील के पथमेड़ा ग्राम में किया गया।
  • यह अपशिष्ट से ऊर्जा पोर्टफोलियो (Waste to Energy Portfolio), हिंदुस्तान पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड (HPCL)  के तहत परियोजना होगी।

विवरण

  • परियोजना को हरित ऊर्जा और पर्यावरण प्रबंधन (Green Energy and Environmental Stewardship) के लिए प्रतिबद्धता की दिशा में एक उत्कृष्ट कदम के तहत शुरू किया गया है।
  • इस परियोजना का विकास ‘गोबर-धन योजना’ के तहत किया जा रहा है।
  • इस परियोजना को एक वर्ष की अवधि में शुरू करने का प्रस्ताव है।
  • बायोगैस का उत्पादन करने हेतु इस संयंत्र में प्रतिदिन 100 टन गोबर का उपयोग करने की योजना है।

जिसका उपयोग ऑटोमोबाइल ईंधन के रूप में किया जा सकता है।

  • इस संयंत्र के माध्यम से स्वच्‍छता पर सकारात्मक प्रभाव पड़ेगा एवं गोबर व जैविक कचरे (Organic Waste) से धन और ऊर्जा को सृजित किया जा सकेगा।

संकलन-आदित्य भारद्वाज

 

 


 


Comments
List view
Grid view

Current News List