Contact Us - 9792276999 | 9838932888
Timing : 12:00 Noon to 20:00 PM (Mon to Fri)
Email - ssgcpl@gmail.com
|
|

Post at: Aug 29 2022

भारत की पहली शिक्षा टाउनशिप

शिक्षा टाउनशिप क्या है? 

  •  शिक्षा टाउनशिप की अवधारणा विदेशों में काफी प्रचलित है; जैसे संयुक्त राज्य अमेरिका एवं यूरोपीय देशों में। 
  • शिक्षा टाउनशिप में एक ही स्थान पर युवाओं को उच्च गुणवत्ता वाली शिक्षा और विभिन्न प्रकार के पेशेवर कौशल प्रदान कराए जाते हैं।
  • शिक्षा टाउनशिप‚ सरकारी व निजी दोनों शिक्षण संस्थान की महत्वपूर्ण भूमिका होती है।
  • विश्व के प्रतिष्ठित सरकारी और निजी शिक्षण संस्थान शिक्षा टाउनशिप में अपना कैंपस उपलब्ध कराते हैं।
  • यहां हर तरह की शिक्षा; जैसे  प्रबंधन‚ इंजीनियरिंग‚ विधि और चिकित्सा एवं प्रशिक्षण‚ कौशल विकास से जुड़े पाठ्‌यक्रमों की पढ़ाई व शोध उपलब्ध होते हैं। 

भारत में शिक्षा टाउनशिप की आवश्यकता क्यों?

  • उच्च शिक्षा पर अखिल भारतीय सर्वेक्षण‚ 2019-20 की रिपोर्ट के अनुसार‚ उच्च शिक्षा में सकल नामांकन दर 27.1 प्रतिशत है।
  • भारत का उच्च शिक्षा में सकल नामांकन दर‚ चीन (57.8%) और इण्डोनेशिया (36.3%) जैसे विकासशील देशों की तुलना में कम है।
  • वर्ष 2019-20 के अनुसार भारत में उच्च शिक्षा में छात्र-शिक्षक अनुपात 26 है।
  • वर्ष 2019-20 में उच्च शिक्षा में विश्वविद्यालयों की भागीदारी केवल 2 प्रतिशत थी।
  • क्यूएस वर्ल्ड यूनिवर्सिटी रैंकिंग‚ 2022 में शीर्ष 100 शिक्षण संस्थानों में कोई भारतीय संस्थान शामिल नहीं है।
  • अधिकांश प्रमुख विश्वविद्यालय और कॉलेज एक महानगरीय और शहरी केंद्र तक सीमित हैं‚ जिससे उच्च शिक्षा तक पहुंच में क्षेत्रीय असमानता है।
  • इण्डिया स्किल रिपोर्ट‚ 2022 के अनुसार‚ आईटी में और एमबीए में क्रमश: केवल 55.15 प्रतिशत और 55.09 प्रतिशत छात्र ही रोजगार के योग्य हैं।

वर्तमान परिप्रेक्ष्य

  • 22 अगस्त‚ 2022 को उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा राज्य में एक शिक्षा टाउनशिप स्थापित करने की योजना को मंजूरी प्रदान की गई है।
  • यूपी की अर्थव्यवस्था को वन ’’ट्रिलियन डॉलर’’ बनाने के लिए चुनी गई सलाहकार कंपनी ’डेलॉइट इण्डिया’’ के साथ बैठक में मुख्यमंत्री द्वारा कार्ययोजना के निर्माण के निर्देश दिए गए।

मुख्य बिंदु

  • शिक्षा टाउनशिप कार्ययोजना बनाने का निर्देश ’डेलॉयट इंण्डिया’ Deloitte India) को दिया गया है।
  • कार्ययोजना के अंतर्गत पांच शिक्षा टाउनशिप स्थापित किए जाएंगे।
  • शिक्षा टाउनशिप का विकास ’सिंगल एंट्री‚ मल्टीपल एग्जिट‚ (एकल प्रवेश‚ बहु निकास) के विचार पर होगा। 
  • देश और दुनिया के सबसे प्रतिष्ठित विश्वविद्यालय टाउनशिप के भीतर कैंपस की स्थापना कर सकेंगे।
  • इसमें अटल आवासीय विद्यालय होंगे‚ जो प्राथमिक और माध्यमिक दोनों विद्यालयों के रूप में कार्य करेंगे।
  • शिक्षा टाउनशिप में छात्रों और शिक्षकों दोनों के लिए पर्याप्त अवासीय सुविधा उपलब्ध होंगे।
  • स्नातक और स्नातकोत्तर अध्ययन के विश्वविद्यालयों और कॉलेजों को अनुमति मिलेगी।
  • शिक्षा टाउनशिप में कौशल विकास विश्वविद्यालय भी होंगे‚ जहां युवाओं को विभिन्न प्रकार के कौशल का प्रशिक्षण दिया जाएगा।
  • शिक्षा टाउनशिप में अभ्युदय आधारित कई अन्य कोचिंग संस्थान शुरू किए जाएंगे‚ ताकि अधिक-से-अधिक छात्र नीट‚ आईआईटी‚ संघ लोक सेवा आयोग आदि प्रतियोगी परीक्षाओं में सफल हो सकें।

 

अन्य बिंदु  

  • उच्च शिक्षा में सुधार के लिए किए गए प्रयास
  • राष्ट्रीय संस्थागत रैंकिंग फ्रेमवर्क‚ 2015 
  • उच्च शिक्षा पर अखिल भारतीय सर्वेक्षण
  • यूजीसी (University Grants Commission) का शिक्षण आउटकम आधारित करिकुलम फ्रेमवर्क‚ 2018
  • उच्च शिक्षा संस्थाओं के वित्तपोषण के लिए उच्च शिक्षा वित्तपोषण एजेंसी का गठन किया गया।
  • शिक्षा गुणवत्ता उन्नयन और समावेश कार्यक्रम (EQUIP), 2019-2024
  • उच्च शिक्षा की गुणवत्ता और पहुंच में सुधार के लिए एक पंचवर्षीय योजना है।
  • नई शिक्षा नीति‚ 2020 में उच्च शिक्षा में वर्ष 2030 तक सफल नामांकन अनुपात को मौजूदा 27 प्रतिशत से बढ़ाकर 50 प्रतिशत करने की कल्पना की गई है।
  • देश में अनुसंधान को बढ़ावा देने के लिए राष्ट्रीय अनुसंधान फाउण्डेशन की स्थापना की जाएगी।

संकलन - पंकज तिवारी

 


Comments
List view
Grid view

Current News List