Contact Us - 9792276999 | 9838932888
Timing : 12:00 Noon to 20:00 PM (Mon to Fri)
Email - ssgcpl@gmail.com
|
|

Post at: Aug 08 2022

वित्तीय समावेशन सूचकांक

वित्तीय समावेशन

  • यह कम आय वाले लोग और समाज के वंचित वर्ग को वहनीय कीमत पर भुगतान‚ बचत‚ ऋण आदि वित्तीय सेवाएं पहुंचाने का प्रयास है। 
  • इसे ’समावेशी वित्तपोषण’ भी कहा जाता है।
  • इसके साथ ही यह बैंक खाते तक पहुंच प्राप्त करना व्यापक वित्तीय समावेशन की दिशा में पहला कदम है; क्योंकि एक लेन-देन खाता लोगों को पैसे जमा करने‚ भुगतान करने और धन प्राप्त करने की अनुमति देता है।

  परिचय

  • 17 अगस्त‚ 2021 को भारतीय रिजर्व बैंक ने देशभर में वित्तीय समावेशन की मात्रा को मापने के लिए ’वित्तीय समावेशन सूचकांक’ (Financial Inclusion Index : FII) की शुरुआत की थी।
  • उल्लेखनीय है‚ कि इससे पहले 7 अप्रैल‚ 2021 को वर्ष 2021-22 हेतु पहले द्विमासिक मौद्रिक नीति वक्तव्य (First Bi-Monthly Monetary Policy Statement for 2021-22) के विकासात्मक और विनियामक नीतियों पर वक्तव्य (Statement on Development and Regulatory Policies) के अनुरूप इसकी शुरुआत हुई।
  • इस सूचकांक को सरकार और संबंधित क्षेत्र के विनियामकों के परामर्श से बनाया गया है।
  • जिसमें बैंकिंग‚ निवेश‚ बीमा‚ डाक के साथ-साथ पेंशन क्षेत्र के विवरण शामिल करते हुए एक व्यापक सूचकांक के रूप में संकलित किया गया है।
  • इस सूचकांक का निर्माण बिना किसी ’आधार वर्ष’ (Base Year) के किया गया है।

मापदण्ड

  • यह सूचकांक 0 (शून्य) और 100 के बीच एकल संख्या में वित्तीय समावेशन के विभिन्न पहलुओं पर जानकारी प्राप्त करता है।
  • जहां 0 पूर्ण वित्तीय अपवर्जन (Complete Financial Exclusion) का प्रतिनिधित्व करता है‚ वहीं 100 पूर्ण वित्तीय समावेशन (Full Financial Inclusion) को दर्शाता है।
  • सूचकांक में निम्नलिखित तीन व्यापक पैरामीटर (भार सहित) शामिल हैं—

  • यह सूचकांक सेवाओं की पहुंच‚ उपलब्धता एवं उपयोग तथा सेवाओं की गुणवत्ता में आसानी हेतु अनुक्रियाशील (Responsive) है‚ जिसमें सभी 97 संकेतक शामिल हैं।

वर्तमान परिप्रेक्ष्य

  • 2 अगस्त‚ 2022 को भारतीय रिजर्व बैंक ने 31 मार्च‚ 2022 को समाप्त हुए वित्तीय वर्ष हेतु समग्र वित्तीय समावेशन सूचकांक (Financial Inclusion Index : FII) जारी किया है।
  • मार्च‚ 2021 में 53.9 की तुलना में मार्च‚ 2022 के लिए वित्तीय समावेशन सूचकांक 56.4 है।
  • इसके सभी उप-सूचकांकों में सुधार देखा गया है।

FII का महत्व

  • यह सूचकांक वित्तीय समावेशन के स्तर के बारे में जानकारी प्रदान करता है।
  • इसके साथ ही आंतरिक नीति-निर्माण में उपयोग के लिए वित्तीय सेवाओं का आकलन प्रस्तुत करता है।
  • इसका उपयोग प्रत्यक्ष विकास संकेतकों में एक समग्र उपाय के रूप में किया जा सकता है।
  • यह G20 वित्तीय समावेशन संकेतक आवश्यकताओं को पूरा करने में सक्षम है।
  • G20 संकेतक राष्ट्रीय और वैश्विक स्तर पर वित्तीय समावेशन एवं डिजिटल वित्तीय सेवाओं की स्थिति का आकलन करते हैं।

 

संकलन - आदित्य भारद्वाज


Comments
List view
Grid view

Current News List