Contact Us - 9792276999 | 9838932888
Timing : 12:00 Noon to 20:00 PM (Mon to Fri)
Email - ssgcpl@gmail.com
|
|

Post at: Aug 01 2022

आईएनएस दूनागिरी

वर्तमान परिप्रेक्ष्य

  • 15 जुलाई‚ 2022 को प्रोजेक्ट 17A (P-17A) के युद्धपोत ‘दूनागिरी’ (Y-3023) का जलावतरण किया गया।

 परिचय

  • इसे नौसेना डिजाइन निदेशालय (DND) द्वारा डिजाइन किया गया है।
  • इस युद्धपोत का निर्माण कोलकाता में गार्डन रीच शिपबिल्डर्स एंड इंजीनियर्स लिमिटेड (Garden Reach Shipbuilders & Engineers Limited : GRSE) द्वारा किया गया है।
  • दूनागिरी (Dunagiri) P-17A का फ्रिगेट्‌स का चौथा पोत है।
  • इसका नाम उत्तराखण्ड राज्य में स्थित एक पर्वत शृंखला के नाम पर रखा गया है। 
  • गौरतलब है‚ कि ‘दूनागिरी’ पूर्ववर्ती ‘दूनागिरी’‚ लिएण्डर क्लास ASW फ्रिगेट का पुनर्निर्माण है।
  • P-17A फ्रिगेट्‌स P-17 फ्रिगेट्‌स (शिवालिक श्रेणी) के फॉलोऑन हैं।
  • सभी युद्धक नौकाओं में रडार से बचने में पहले से अधिक सक्षम प्रणाली‚ उन्नत हथियार सेंसर तथा प्लेटफॉर्म प्रबंधन प्रणालियां स्थापित की गई हैं।
  • उल्लेखनीय है‚ कि भारतीय नौसेना हेतु P-17A के तहत ‘सात’ युद्धपोत (Frigates) यथा- चार माझगांव डॉक शिपबिल्डर्स लिमिटेड (MDL) मुंबई में और तीन GRSE कोलकाता द्वारा निर्मित किए जा रहे हैं।

संबंधित तथ्य

  • P-17A पोतों के मुख्य हथियार और सेंसर सूट में ब्रह्मोस SSM, LRSAM के साथ MF स्टार रडार‚ स्वदेशी सोनार तथा ट्रिपल ट्‌यूब हैवी टॉरपीडो लांचर शामिल हैं।
  • P-17A के तहत अन्य तीन‚ जिनका जलावतरण किया जा चुका है-
  • नीलगिरी (Y-12651) (28 सितंबर‚ 2019)
  • हिमगिरी (Y-3022) (14 दिसंबर‚ 2020)
  • उदयगिरी (12652) (17 मई‚ 2022)

आईएनएस सिंधुध्वज सेवामुक्त

संकलन-आदित्य भारद्वाज


Comments
List view
Grid view

Current News List