Contact Us - 9792276999 | 9838932888
Timing : 12:00 Noon to 20:00 PM (Mon to Fri)
Email - ssgcpl@gmail.com
|
|

Post at: Jul 25 2022

सांस्कृतिक और पर्यटन राजधानी-वाराणसी

वर्तमान परिप्रेक्ष्य—

  • 15 जुलाई‚ 2022 को शंघाई सहयोग संगठन (Shanghai Cooperation Organisation : SCO) ने वाराणसी को पहली सांस्कृतिक एवं पर्यटन राजधानी‚ 2022-23 (Cultural and Tourism Capital) घोषित किया। 
  • प्रत्येक वर्ष चक्रानुसार SCO के सदस्य देशों के किसी सांस्कृतिक विरासत वाले शहरों को SCO की सांस्कृतिक एवं पर्यटन राजधानी के रूप में नामित किया जाएगा। 
  • उस देश के शहर को नामित किया जाएगा‚ जो SCO की अध्यक्षता करेगा।
  • ध्यातव्य है कि SCO के सरकार के प्रमुखों की अंतिम बैठक वर्ष 2020 में आयोजित की गई थी‚ जिसकी अध्यक्षता भारत ने की थी। 

उद्देश्य—

  • सांस्कृतिक और पर्यटन राजधानी SCO की एक पहल है‚ जिसका उद्देश्य सदस्य देशों के बीच लोगों से लोगों के संबंधों एवं पर्यटन को बढ़ावा देना। 

इस पहल की शुरुआत—

  • शंघाई सहयोग संगठन के द्वारा इस पहल की शुरुआत वर्ष 2022 में की गई।
  • इस वर्ष SCO का समरकंद शिखर सम्मेलन 15-16 सितंबर‚ 2022, को समरकंद (उज्बेकिस्तान) में आयोजित किया जाएगा।
  • इस पहल के बाद भारत SCO की अध्यक्षता संभालेगा और राष्ट्राध्यक्षों के अगले शिखर सम्मेलन की मेजबानी करेगा। 
  • इसी पहल के तहत‚ वाराणसी को यह दर्जा प्रदान किया गया।

शंघाई सहयोग संगठन

  • यह एक यूरेशियाई राजनीतिक‚ आर्थिक और सुरक्षा संगठन है।
  • यह शंघाई-5 का उत्तराधिकारी है‚ जिसकी स्थापना वर्ष 1996 में हुई थी। 
  • SCO का गठन 15 जून‚ 2001 को किया गया। 
  • SCO में वर्तमान में 8 सदस्य देश हैं। 
  • भारत इस संगठन का सदस्य वर्ष 2017 में बना

वाराणसी

  • यह विश्व के सबसे प्राचीन जीवित शहरों में से एक है।
  • वाराणसी के अन्य नाम काशी एवं बनारस भी है।
  • यह गंगा नदी के बाएं किनारे पर स्थित है।
  • यह हिंदुओं का पवित्र तीर्थ स्थल है। 
  • इसका जुड़ाव बौद्ध तथा जैन धर्म से भी है। 
  • महात्मा बुद्ध ने अपना प्रथम उपदेश सारनाथ‚ वाराणसी में ही दिया। 
  • 23वें तीर्थंकर पार्श्वनाथ का जन्म बनारस में हुआ।
  • इसे वैष्णववाद तथा शैववाद का सहस्थल कहा जाता है।
  • यह अध्यात्मवाद‚ रहस्यवाद‚ संस्कृत‚ योग तथा हिंदी भाषा के प्रचार-प्रसार का प्रमुख केंद्र है।
  • अंतरराष्ट्रीय सितार वादक पं. रविशंकर प्रसाद का संबंध बनारस से रहा है। 
  • विश्व प्रसिद्ध शहनाई वादक उस्ताद बिस्मिल्हा खान का संबंध बनारस से है।

संकलन : संतोष कुमार पाण्डेय

 


Comments
List view
Grid view

Current News List