Contact Us - 9792276999 | 9838932888
Timing : 12:00 Noon to 20:00 PM (Mon to Fri)
Email - ssgcpl@gmail.com
|
|

Post at: Jul 22 2022

भारत में बुनियादी सड़क सांख्यिकी, 2018-19 रिपोर्ट

परिचय

  • भारत की ‘बुनियादी सड़क सांख्यिकी’ सड़क क्षेत्र पर एक वार्षिक प्रकाशन है, जिसे सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय के परिवहन अनुसंधान विंग द्वारा प्रकाशित किया जाता है।
  • 'भारत में बुनियादी सड़क सांख्यिकी, 2018-19' का वर्तमान खण्ड वर्ष 2018-19 के दौरान देश में सड़क सांख्यिकी के विभिन्‍न पहलुओं पर जानकारी प्रदान करता है।
  • इसमें आठ खण्ड हैं और इसमें सड़क की लंबाई, सामने की सड़क की लंबाई, सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय की प्रमुख पहलों से संबंधित जानकारी शामिल है। 
  • इस रिपोर्ट में प्रस्तुत डाटा/सूचना राज्यों/संघ राज्य क्षेत्रों के विभिन्‍न विभागों, जैसे राज्य लोक निर्माण विभागों, नगर पालिकाओं, पंचायत, रेलवे, वन आदि से प्राप्त की जाती है।

रिपोर्ट के प्रमुख निष्कर्ष

  • रिपोर्ट 'भारत में बुनियादी सड़क सांख्यिकी, 2018-19' के अनुसार, भारत में 31 मार्च, 2019 को 63,31,757 किलोमीटर से अधिक सड़कों का नेटवर्क है, जो दुनिया में दूसरा सबसे बड़ा है। 
  • वर्ष 1950-51 से 2018-19 की अवधि के दौरान विभिन्‍न श्रेणियों के तहत सड़कों के निर्माण में लगातार वृद्धि हुई है। 
  • वर्ष 2019 में निर्मित कुल सड़क 62, 15,797 किमी. से बढ़कर वर्ष 2019 में 63, 31,757 किमी. हो गई है और इसमें 1.9 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई है।
  • भारत के परिवहन क्षेत्र में सड़क परिवहन प्रमुख खण्ड है और इसने वर्ष 2019-20 के लिए कुल परिवहन क्षेत्र के 4.58 प्रतिशत के योगदान के मुकाबले सकल मूल्यवर्धन (Gross Value Added :GVA) में 3.06 प्रतिशत का योगदान दिया है। 
  • ध्यातव्य है, कि सकल मूल्यवर्धन किसी देश की अर्थव्यवस्था में सभी क्षेत्रों, यथा- प्राथमिक क्षेत्र, द्वितीयक क्षेत्रों; और तृतीयक क्षेत्र द्वारा किया गया कुल अंतिम वस्तुओं एवं सेवाओं के उत्पादन का मौद्रिक मूल्य होता है। 
  • जबकि, सकल मूल्यवर्धन में रेलवे की हिस्सेदारी ने 0.74 प्रतिशत, हवाई परिवहन ने 0.12 प्रतिशत का योगदान दिया है और जल परिवहन ने 0.08 प्रतिशत का। 
  • सड़क परिवहन रेलवे, शिपिंग और हवाई यातायात के लिए फीडर के रूप में भी कार्य करता है।

राष्ट्रीय राजमार्ग

  • रिपोर्ट से यह भी पता चलता है, कि राष्ट्रीय राजमार्ग देश में कुल सड़क नेटवर्क का 2.09 प्रतिशत है और 31 मार्च, 2019 को राष्ट्रीय राजमार्गों की कुल लंबाई 1,32,499 किमी. थी, जो पिछले वर्ष की तुलना में 4.9 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज करती है। 
  • 31 मार्च, 2019 तक महाराष्ट्र में राष्ट्रीय राजमार्गों का सबसे बड़ा नेटवर्क 17,757 किमी. (13.4%) है, इसके बाद उत्तर प्रदेश और राजस्थान क्रमशः 11,737 किमी. (8.9%) और 10,342 किमी. (7.8%) हैं ।

राज्य राजमार्ग

  • राज्य राजमार्ग देश में कुल सड़क नेटवर्क का 2.8 प्रतिशत है। 
  • 31 मार्च, 2019 को राज्य राजमार्गों की कुल लंबाई 1,79,535 थी। 
  • महाराष्ट्र में देश का सबसे बड़ा राज्य राजमार्ग नेटवर्क 17.83 प्रतिशत (32005 किमी.) है, इसके बाद कर्नाटक 10.85 प्रतिशत (19473 किमी.), गुजरात 9.33 प्रतिशत (16746 किमी.), राजस्थान 8.39 प्रतिशत (15061 किमी.) और आंध्र प्रदेश 7.52 प्रतिशत (13500 किमी.) है। .
  • इन पांच राज्यों का देश में कुल राज्य राजमार्ग नेटवर्क का 53.9 प्रतिशत हिस्सा है।

ग्रामीण सड़कें

  • ग्रामीण सड़कें (जेआरवाई सड़कों सहित) देश में कुल सड़क नेटवर्क का 71.4 प्रतिशत हैं और 31 मार्च, 2019 को इसकी लंबाई बढ़कर 45, 22,228 किमी. हो गई , जो पिछले वर्ष की तुलना में 2.5 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज करती है। 
  • महाराष्ट्र में 4,26,327 किमी. (11.7%) के साथ ग्रामीण सड़कों का सबसे बड़ा नेटवर्क है, इसके बाद असम 3,72,510 किमी. (10.2%), बिहार 2,59,507 किमी. (7.1%), उत्तर प्रदेश 2,55,576 किमी. (7.0%) और मध्य प्रदेश 2,32,344 किमी. (6.4%) है।
  • इन पांच राज्यों में  देश की कुल ग्रामीण सड़कों का 42.4 प्रतिशत हिस्सा है।

संकलन-मनीष प्रियदर्शी
 


Comments
List view
Grid view

Current News List