Contact Us - 9792276999 | 9838932888
Timing : 12:00 Noon to 20:00 PM (Mon to Fri)
Email - ssgcpl@gmail.com
|
|

Post at: Jun 30 2022

भारत-इण्डोनेशिया समन्वित गश्त (CORPAT)

वर्तमान परिप्रेक्ष्य

  • 13-24 जून‚ 2022 तक भारतीय नौसेना और इण्डोनेशिया नौसेना के बीच भारत-इण्डोनेशिया समन्वित गश्ती (IND-INDO CORPAT) का आयोजन किया गया।
  • यह गश्त अण्डमान सागर एवं मलक्का जलडमरूमध्य में आयोजित हुआ।
  • यह भारत-इण्डोनेशिया समन्वित गश्ती दल का 38वां संस्करण रहा।

उद्देश्य

  • हिंद महासागर क्षेत्र को वाणिज्यिक नौवहन‚ अंतरराष्ट्रीय व्यापार और वैध समुद्री गतिविधियों के संचालन को सुरक्षित रखने के लिए।
  • दोनों देशों की नौसेनाओं के बीच आपसी समझ व अंत: क्रियाशीलता बढ़ाने के लिए।

अभ्यास में प्रतिभाग किया 

  • स्वदेश निर्मित भारतीय नौसेना का पोत आईएनएस कर्मुक (INS Karmuk) एक डोर्नियर समुद्री विमान के साथ।
  • इण्डोनेशिया की ओर से केआरआई कट न्याक दीएन (KRI Cut Nyak Dien), एक कपिटन पट्टीमुरा (PARCHIM-1)) श्रेणी कॉर्वेट ने भाग लिया।

समन्वित गश्त (CORPAT) की मुख्य बातें

  • यह दोनों देशों की नौसेनाओं के मध्य 12 दिवसीय गश्त थी।
  • दोनों नौसेनाएं वर्ष 2002 से अंतरराष्ट्रीय समुद्री रेखा के साथ कॉरपेट का संचालन कर रही हैं।
  • भारत सरकार के सागर क्षेत्र में सभी के लिए सुरक्षा और विकास (Security and Growth for All in the Region: SAGAR) दृष्टिकोण के अनुसार‚ एएनसी मुख्यालय के तत्वावधान में नौसेना घटक अण्डमान सागर के तटीय देशों के साथ समन्वित गश्त (CORPAT) का आयोजन करते हैं।

अभ्यास के चरण

  • भारत-इण्डोनेशिया समन्वित गश्त तीन चरणों में किया गया—

1.    प्रथम चरण - 13-15 जून‚ 2022 तक पोर्ट ब्लेयर में इण्डोनेशियाई नौसेना की यात्रा।

  • उद्‌घाटन समारोह 14 जून को अण्डमान और निकोबार कमाण्ड के तत्वावधान में पोर्ट ब्लेयर में किया गया। 

2.    द्वितीय चरण - 20 एवं 21 जून‚ 2022 को समुद्री चरण अण्डमान सागर में किया गया।
3.    तृतीय चरण - 23-24 जून‚ 2022 तक सबांग (इण्डोनेशिया) की भारतीय नौसेना इकाइयों ने यात्रा की।

  • समापन समारोह सबांग (इण्डोनेशिया) में आयोजित किया गया।

समन्वित गश्त का महत्व

  • समन्वित गश्त दोनों देशों की नौसेनाओं के बीच सहयोग बढ़ाने में मदद करता है।
  • यह अवैध और अनियमित मछली पकड़ने से रोकने‚ मादक द्रव्यों की तस्करी रोकने‚ समुद्री आतंकवाद रोकने‚ डकैती तथा समुद्री डकैती रोकने में सहायक होता है।

निष्कर्ष

  • भारत-इण्डोनेशिया समन्वित गश्त दोनों देशों के बीच संबंध मजबूत करने तथा आपसी समझ बढ़ाने में सहयोग करेगा।

संकलन - संतोष कुमार पाण्डेय

 


 

 


Comments
List view
Grid view

Current News List