Contact Us - 9792276999 | 9838932888
Timing : 12:00 Noon to 20:00 PM (Mon to Fri)
Email - ssgcpl@gmail.com
|
|

Post at: Jun 30 2022

भारत में स्कूली शिक्षा में आईसीटी के उपयोग को यूनेस्को की मान्यता

आईसीटी

  • इनफॉर्मेशन एण्ड कम्युनिकेशन टेक्नोलॉजी (I.C.T) कंप्यूटर पर आधारित सूचना प्रणाली का एक आधार है‚ जिसके अंतर्गत सूचना संग्रह‚ सूचनाओं का आदान-प्रदान एवं परिवर्तन करना‚ दूरभाषा संचार‚ प्रसारण मीडिया तथा सभी प्रकार के ऑडियो व वीडियो प्रक्रमण (Processing) प्रेषण भी शामिल हैं।
  • गौरतलब हो‚ कि कोविड-19 महामारी के दौरान अनेक स्कूल एवं विश्वविद्यालयों के बंद होने की वजह से आईसीटी का प्रयोग सबसे अधिक देखने को मिला।
  • जिसमें‚ इंटरनेट के माध्यम से लोगों तक शिक्षा को पहुंचाया गया। 

वर्तमान परिप्रेक्ष्य

  • 19 जून‚ 2022 को भारत को स्कूली शिक्षा में आईसीटी के प्रयोग के लिए यूनेस्को की मान्यता मिली है।
  • ज्ञात हो‚ कि भारत को ’आईसीटी का शिक्षा में प्रयोग’ के लिए वैश्विक संगठन यूनेस्को से अभी तक मान्यता नहीं मिली थी।
  • साथ ही भारत को यूनेस्को द्वारा वर्ष 2021 के लिए किंग अहमद बिन इसा अल खलीफा पुरस्कार से भी पुरस्कृत किया गया।
  • यह पुरस्कार भारत के साथ-साथ दक्षिण अफ्रीकी देश तंजानिया को भी दिया गया है।

PM e-Vidya

  • गौरतलब हो‚ कि कोविड-19 महामारी के दौरान 17 मई‚ 2020 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पीएम ई-विद्या (PM e-Vidya) योजना का शुभारंभ किया था।
  • इस योजना के तहत‚ छात्रों को ई-पाठशाला के माध्यम से      ऑनलाइन शिक्षा प्रदान करने के लिए एक अलग चैनल बनाया गया है।
  • जिसे ’वन क्लास वन चैनल’ भी कहा गया है।
  • ये चैनल कक्षा 1 से कक्षा 12 तक के बच्चों को शिक्षित करने के लिए बनाया गया है।
  • जिसमें‚ 12 PM e-Vidya डीटीएच टेलीविजन चैनलों और लगभग 397 रेडियो स्टेशनों को जोड़ा गया है।

किंग अहमद बिन इसा अल खलीफा पुरस्कार 

  • बहरीन साम्राज्य के समर्थन में वर्ष 2005 में स्थापित यह पुरस्कार उन व्यक्तियों और संगठनों को पुरस्कृत करता है‚ जो उत्कृष्ट परियोजनाओं को लागू कर रहें है और डिजिटल युग में सीखने‚ शिक्षण और समग्र शैक्षिक प्रदर्शन को बढ़ाने के लिए प्रौद्योगिकियों के रचनात्मक उपयोग को बढ़ावा दे रहे हैं।
  • प्रत्येक पुरस्कार विजेता को पेरिस के यूनेस्को मुख्यालय में एक समारोह के दौरान 25,000 अमेरिकी डॉलर‚ एक पदक और एक डिप्लोमा प्रदान किया जाता है।
  • यह पुरस्कार सतत विकास के लिए 2030 एजेण्डा और शिक्षा पर इसके लक्ष्य-4 के अनुरूप‚ नवीन तकनीकों का उपयोग करने वाले देशों को दिया जाता है।
  • यह पुरस्कार भारत के केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय के स्कूली शिक्षा विभाग द्वारा चलाए जा रहे पीएम ई-विद्या (PM e-Vidya) नामक योजना को प्रदान किया गया है।
  • साथ ही आईसीटी के उपयोग के लिए निम्न शिक्षा संस्थानों को भी इस पुरस्कार से पुरस्कृत किया है‚ जिसमें
  • केंद्रीय शिक्षा प्रौद्योगिकी संस्थान (Central Institute of Educational Technology : CIET) 
  • स्कूली शिक्षा और साक्षरता विभाग (Department of School Education and Literacy : DSET)
  • राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद (N.C.E.R.T.) शामिल है।

संकलन - प्रवीन


 


Comments
List view
Grid view

Current News List