Contact Us - 9792276999 | 9838932888
Timing : 12:00 Noon to 20:00 PM (Mon to Fri)
Email - ssgcpl@gmail.com
|
|

Post at: Jun 30 2022

उत्तर भारत का पहला औद्योगिक जैव प्रौद्योगिकी पार्क

भारत में जैव प्रौद्योगिकी परिदृश्य 

  • विश्व स्तर पर भारत जैव प्रौद्योगिकी (biotechnology) के शीर्ष 12 गंतव्यों (destinations) में से एक है।
  • साथ ही एशिया-प्रशांत क्षेत्र में भारत तीसरा सबसे बड़ा जैव प्रौद्योगिकी गंतव्य है।
  • वैश्विक जैव प्रौद्योगिकी बाजार में भारतीय जैव प्रौद्योगिकी उद्योग का योगदान वर्ष 2017 के 3 प्रतिशत से बढ़कर वर्ष 2025 तक 19 प्रतिशत हो जाने का अनुमान है।
  • राष्ट्रीय सकल घरेलू उत्पाद (GDP) में जैव अर्थव्यवस्था (Bio Economy) के योगदान में भी लगातार वृद्धि हो रही है।
  • यह वर्ष 2017 के 1.7 प्रतिशत से बढ़कर वर्ष 2020 में 2.7 प्रतिशत हो गया है।

राष्ट्रीय जैव प्रौद्योगिकी पार्क योजना

  • जैव प्रौद्योगिकी विभाग (विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्रालय‚ भारत सरकार) द्वारा देशभर में जैव प्रौद्योगिकी पार्कों/इंक्यूबेटर्स की स्थापना की गई है‚ ताकि अनुसंधान कार्य को उत्पादों एवं सेवाओं में परिवर्तित किया जा सके।
  • जैव प्रौद्योगिकी पार्क‚ जैव प्रौद्योगिकी के त्वरित व्यावसायिक विकास के लिए वैज्ञानिकों और लघु एवं मध्यम उद्यमों (SMEs) को प्रौद्योगिकी इंक्यूबेशन‚ प्रौद्योगिकी प्रदर्शन जैसी सुविधाएं प्रदान करते हैं।
  • जैव प्रौद्योगिकी विभाग के सहयोग से अब तक देश के विभिन्न राज्यों में 9 जैव प्रौद्योगिकी पार्कों की स्थापना की गई है‚ जिनका विवरण निम्नवत है :-

(i)    जैव प्रौद्योगिकी पार्क‚ लखनऊ‚ उत्तर प्रेदश
(ii)    जैव प्रौद्योगिकी इंक्यूबेशन केंद्र‚ हैदराबाद‚ तेलंगाना
(iii)    टिडको सेंटर फॉर लाइफ साइंसेज (TICEL : Tidco Centre for Life Sciences) जैव प्रौद्योगिकी पार्क‚ चेन्नई‚ तमिलनाडु 
(iv)    द गोल्डन जुबिली बायोटेक पार्क फॉर वुमेन‚ चेन्नई‚ तमिलनाडु
(v)    जैव प्रौद्योगिकी पार्क प्रौद्योगिकी इंक्यूबेशन केंद्र‚ गुवाहाटी‚ असम
(vi)    जैव प्रौद्योगिकी इंक्यूबेशन केंद्र‚ कोच्चि‚ केरल
(vii)    जैव प्रौद्योगिकी पार्क‚ बंगलुरू‚ कर्नाटक
(viii)    औद्योगिक जैव प्रौद्योगिकी पार्क्स (IBTPs)‚ जम्मू एवं कश्मीर (2)
(ix)    छत्तीसगढ़ जैव प्रौद्योगिकी पार्क‚ नया रायपुर‚ छत्तीसगढ़
 

वर्तमान परिप्रेक्ष्य

  • 28 मई‚ 2022 को केंद्रीय विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्रालय द्वारा ‘‘उत्तर भारत के प्रथम औद्योगिक जैव प्रौद्योगिकी पार्क’’ (North India's First Industrial Biotech Park) का उद्‌घाटन किया गया।
  • यह पार्क कठुआ जिला (जम्मू एवं कश्मीर) के घट्टी में स्थित है।

    विवरण

  • उल्लेखनीय है‚ कि जम्मू एवं कश्मीर में दो औद्योगिक जैव प्रौद्योगिकी पार्कों की स्थापना की जा रही है।
  • पहला पार्क कठुआ जिले स्थित घट्टी में स्थापित किया गया है‚ जबकि दूसरे पार्क की स्थापना कुपवाड़ा जिला स्थित हंदवाड़ा में की जाएगी।
  • इस परियोजना के कार्यान्वयन की जिम्मेदारी ‘CSIR - भारतीय एकीकृत चिकित्सा संस्थान’ (CSIR - IIIM : CSIR - Indian Institute of Integrative Medicine)‚ जम्मू को सौंपी गई है।
  • यह परियोजना जैव प्रौद्योगिकी विभाग‚ भारत सरकार और जम्मू एवं कश्मीर विज्ञान‚ प्रौद्योगिकी एवं नवाचार परिषद द्वारा संयुक्त रूप से वित्तपोषित है।

महत्व

  • कठुआ स्थित औद्योगिक जैव प्रौद्योगिकी पार्क नए विचारों के उद्‌भव के केंद्र के रूप में कार्य करेगा।
  • यह न केवल जम्मू एवं कश्मीर और लद्दाख के बल्कि निकटवर्तो राज्यों यथा- पंजाब‚ हरियाणा एवं हिमाचल प्रदेश के कृषि-उद्यमियों‚ स्टार्ट-अप्स‚ प्रगतिशील किसानों‚ वैज्ञानिकों एवं छात्रों आदि की सहायता हेतु एक सुदृढ़ मंच के रूप में कार्य करेगा।
  • यह जैव प्रौद्योगिकी पार्क जम्मू एवं कश्मीर और लद्दाख की जैव विविधता‚ औषधीय एवं सुगंधित पौधों (medicinal & aromatic Plants) पर शोध करेगा और ‘हरित श्रेणी’ (green category) के व्यवसायों को भी बढ़ावा देगा।
  • इस पार्क में हर्बल निष्कर्षण (herbal extraction)‚ किण्वन (fermentation)‚ विश्लेषणात्मक प्रयोगशाला (analytical lab)‚ आसवन (Distillation)‚ सूक्ष्म प्रसार (micro-propagation)‚ प्लांट टिशू कल्चर (plant tissue culture) जैसी सुविधाएं उपलब्ध होंगी।

संकलन-सौरभ मेहरोत्रा


Comments
List view
Grid view

Current News List