Contact Us - 9792276999 | 9838932888
Timing : 12:00 Noon to 20:00 PM (Mon to Fri)
Email - ssgcpl@gmail.com
|
|

Post at: Jun 29 2022

लाइफ मूवमेंट

लाइफ मूवमेंट

  • पिछले वर्ष प्रधानमंत्री द्वारा ग्‍लासगो (Glasgow) में ‘यूनाइटेड नेशंस क्‍लाइमेंट चेंज कॉन्‍फ्रेंस ऑफ द पार्टीज’ (United Nations Climate Change Conference of the Parties) CoP-26 द्वारा विचार रखा गया।
  • यह विचार पर्यावरण-जागरूक जीवन शैली को बढ़ावा देता है।
  • यह नासमझ और विनाशकारी खपत के बदले ‘सचेत और सोच-समझकर उपयोग करने’ पर केंद्रित है।

वर्तमान परिप्रेक्ष्य

  • 5 जून, 2022 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वीडियो कॉन्‍फ्रेंसिंग के माध्यम से ‘लाइफ स्टाइल फॉर द एनवायरनमेंट (Life Style for the Environment)-लाइफ मूवमेंट’ का शुभारंभ किया।
  • इसका संचालन भारत सरकार के नीति आयोग ने किया।
  • इस मूवमेंट में पर्यावरण के प्रति जागरूक जीवन शैली को अपनाने पर जाेर दिया गया है।

उद्देश्य

  • इसमें मानव केंद्रित, सामूहिक प्रयास के माध्यम से पर्यावरण से उत्पन्‍न चुनौतियों का समाधान करने के लिए।
  • इस मिशन के द्वारा लोगों के लिए एक वैश्विक नेटवर्क का निर्माण किया जाएगा।
  • यह नेटवर्क (पी3) के आधार पर स्थापित होगा, जिसका अर्थ है ‘प्रो-प्‍लैनेट पीपल’ (Pro-Planet People) है।
  • यह (पी3) मिशन एक पारिस्थितिकीय तंत्र बनाने का प्रयास करता है।
  • व्यवहार वैज्ञानिकों के अनुसार, आज भारत पर्यावरण और जलवायु के संबंध में ‘ईस्ट फ्रेमवर्क’ (East Framework)  के तहत कार्य कर रहा है।

ईस्ट फ्रेमवर्क क्‍या है ?

  •  इस फ्रेमवर्क का उपयोग दुनियाभर के जलवायु और पर्यावरण के संबंध में व्यवहार परिवर्तन के लिए किया जा रहा है।

​​​​​​​

  • बता दें, कि ईस्ट फ्रेमवर्क (East Framework) में एक नया अक्षर F जोड़ा गया है, जिससे यह (FEAST) फीस्ट में परिवर्तित हो गया है।
  • फीस्ट (FEAST) में F से आशय 'FUN'  से है, जो पर्यावरणीय संदर्भ में लोगों के बेहतर जीवन शैली से है।
  • यह लोगों को खुशी प्रदान करता है, जैसा कि हाल के वर्षों में भारत में अक्सर देखा गया है।

अन्य महत्वपूर्ण तथ्य

  • ‘लाइफ मूवमेंट’ के साथ ही ‘लाइफ ग्‍लोबल कॉल फॉर आइडियाज एण्ड पेपर्स’ (LiFE Global Call for Ideas and Papers)  भी शुरू किया गया, जिसमें अनेक विद्वानों, विश्वविद्यालयों, थिंक टैंक और गैर-लाभकारी संस्था (N.G.O.) के लोगों को आमंत्रित किया गया।
  • जो समुदायों व संगठनों को जलवायु परिवर्तन व पर्यावरण के साथ सामंजस्य स्थापित करने के लिए समाधान प्रस्तुत करता है।

​​​​​​​पर्यावरण के क्षेत्र में भारत का योगदान

  • पर्यावरण के क्षेत्र में भारत ने अच्‍छा कार्य किया है, जिसके परिणामस्वरूप वन क्षेत्रों में बढ़ोत्तरी हुई है और शेरों, बाघों, तेंदुओं, हाथियों तथा गैण्डों की संख्या में वृद्धि हुई है।
  • गैर-जीवाश्म ईंधन आधारित स्रोतों से स्थापित विद्युत क्षमता के 40 प्रतिशत तक भारत की प्रतिबद्धता से 9 वर्ष पहले हासिल कर लिया।
  • पेट्रोल में 10 प्रतिशत एथेनाॅल ब्लेडिंग का लक्ष्य नवंबर, 2022 के लक्ष्य से 5 महीने पहले हासिल कर लिया।
  • यह एक बड़ी उपलब्धि है; क्योंकि वर्ष 2013-14 में सम्मिश्रण मुश्किल से 1.5 प्रतिशत और वर्ष 2019-20 में 5 प्रतिशत था।

निष्कर्ष

  • पर्यावरण के प्रति जागरूक जीवन शैली अपनाने के लिए ‘लाइफ मूवमेंट’ (LiFE Movement)  का शुभारंभ करना भारत सरकार का स्वागत योग्य कदम है, जिसके तहत हमारे देश में पर्यावरण के लिए जीवन के दृष्टिकोण के चिरस्थायी विकास काे आगे बढ़ाने में मदद मिलेगी।

संकलन-विश्व प्रकाश पाण्डेय
 


Comments
List view
Grid view

Current News List