Contact Us - 9792276999 | 9838932888
Timing : 12:00 Noon to 20:00 PM (Mon to Fri)
Email - ssgcpl@gmail.com
|
|

Post at: Jun 28 2022

भारतीय रेलवे नवाचार नीति- रेलवे के लिए स्टार्ट-अप्स

वर्तमान परिप्रेक्ष्य

  • 13 जून, 2022 को रेल, संचार और इलेक्ट्रॉनिक्स एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री अश्विनी वैष्णव ने रेल भवन (नई दिल्‍ली) में भारतीय रेलवे नवाचार नीति -‘‘रेलवे के लिए स्टार्ट-अप्स’’ पॉलिसी को लांच किया।

भारतीय रेलवे नवाचार नीति की मुख्य विशेषताएं

  • इस नीति के अंतर्गत नवोन्मेषकों को भारतीय रेलवे में तकनीकी समाधान के लिए 1.5 करोड़ रुपये तक की अनुदान राशि समान साझेदारी के आधार पर मुहैया कराई जाएगी।
  • समस्याओं के समाधान के लिए अस्थायी से लेकर प्रोटोटाइप के विकास तक की पूरी प्रक्रिया पारदर्शी और उद्देश्यपूर्ण बनाने के लिए परिभाषित समय रेखा के साथ ऑनलाइन है।
  • इसके अंतर्गत भारतीय रेलवे में प्रोटोटाइप का ट्रायल किया जाएगा। ट्रायल के बाद प्रोटोटाइप के सफल प्रदर्शन पर उसे आगे बढ़ाने के लिए आगे की धनराशि दी जाएगी।
  • ऑनलाइन पोर्टल के माध्यम से नवोन्मेषकों का चयन एक पारदर्शी और निष्पक्ष प्रणाली द्वारा किया जाएगा।
  • विकसित बौद्धिक संपदा अधिकार (IPR) केवल नवोन्मेषकों (नवप्रवर्तकों) के पास ही रहेंगे।
  • नवप्रवर्तकों (नवोन्मेषकों) को विकासात्मक प्रणाली का आश्वासन दिया गया है।
  • इस नीति के अंतर्गत्‍ा किसी भी प्रकार के विलंब से बचने के लिए संभागीय स्तर पर संपूर्ण उत्पाद विकास प्रक्रिया का विकेंद्रीकरण किया जाएगा।

लाभ

  • यह पॉलिसी बहुत व्यापक और इस्तेमाल नहीं किए गए र्स्टाटअप इकोसिस्टम की भागीदारी के माध्यम से रेलवे के संचालन, रख-रखाव और आधारभूत ढांचे के निर्माण के क्षेत्र में बड़े पैमाने पर दक्षता लाने में मदद करेगी।
  • भारतीय रेलवे की परिचालन दक्षता और सुरक्षा के लिए भारतीय स्टार्ट-अप्स/MSME (सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम) अन्वेषक/उद्यमियों द्वारा विकसित नवीन तकनीकों का लाभ उठाना भी है।
  • सह-निर्माण और सह-नवाचार के लिए यह पॉलिसी देश में ‘‘नवाचार संस्कृति’’ को बढ़ावा देगी।

समस्या समाधान के लिए पहचाने गए मुद्दे

  • इस पॉलिसी के चरण-I के अंतर्गत भारतीय रेलवे के विभिन्‍न मण्डलों, क्षेत्रीय कार्यालयों या जोनों से प्राप्त 100 से अधिक समस्याओं में से 11 समस्याओं (जैसे-रेल फ्रैक्‍चर, हेडवे रिडक्शन इत्यादि) को लिया गया है।
  • प्रारंभ में, नई नवाचार नीति के माध्यम से निपटने के लिए 11 समस्याओं की पहचान की गई है और उसे पोर्टल पर अपलोड किया गया है, जों निम्नवत हैं :-

(i) ब्रोकेन रेल डिटेक्शन सिस्टम।
(ii) रेल स्टेट्‍स निगरानी प्रणाली।
(iii) भारतीय रेलवे राष्ट्रीय एटीपी प्रणाली के साथ उपनगरीय खण्ड इंटर ऑपरेबल के लिए हेडवे सुधार प्रणाली।
(iv)  ट्रैक निरीक्षण गतिविधियों का स्वचालन।
(v) भारी समान ढोने वाले डिब्बों के लिए बेहतर इलास्टोमेरिक पैड (ईएमपैड) का डिजाइन।
(vi)  3-फेज इलेक्ट्राॅनिक्स इंजनों के ट्रैक्शन मोटर्स के लिए ऑनलाइन कण्डीशन मॉनिटरिंग सिस्टम का विकास।
(vii) नमक जैसी वस्तुओं के परिवहन के लिए हल्के वैगन।
(viii) यात्री सेवाओं में सुधार के लिए डिजिटल डाटा का उपयोग करके विश्लेषणात्मक उपकरण का विकास।
(ix) रेलवे ट्रैक सफाई मशीन।
(x) प्रशिक्षण के बाद संशोधन और रिफ्रेशन कोर्स के लिए ऐप।
(xi) पुल निरीक्षण के लिए रिमोट सेंसिंग, जियोमैटिक्स और जीआईएस का उपयोग।
भारतीय रेलवे-महत्वपूर्ण तथ्य

  • भारतीय रेलवे का शुभारंभ 1853 ई. में हुआ।
  • पहली रेल लाइन का निर्माण बॉम्बे से ठाणे के बीच (34किमी.) किया गया।
  • भारतीय रेलवे का नेटवर्क एशिया में प्रथम स्थान तथा विश्व में द्वितीय स्थान पर है।
  • देश का सबसे बड़ा सरकारी उपक्रम, भारतीय रेलवे ही है। 
  • भारतीय रेल प्रणाली को 16 जोनों में बांटा गया है-

संकलन-रमेश चौधरी


 


 


Comments
List view
Grid view

Current News List