Contact Us - 9792276999 | 9838932888
Timing : 12:00 Noon to 20:00 PM (Mon to Fri)
Email - ssgcpl@gmail.com
|
|

Post at: Jun 28 2022

डिजिटल न्यूज रिपोर्ट‚ 2022

रिपोर्ट के बारे में

  • यह रिपोर्ट ’रायटर्स इंस्टीट्‌यूट ऑफ द स्टडी ऑफ जर्नलिज्म’ द्वारा तैयार की गई एक वार्षिक रिपोर्ट है।
  • यह रिपोर्ट विभिन्न देशों में समाचारों को ग्रहण करने की प्रवृत्ति पर नजर रखती है। सरल शब्दों में कहें‚ तो यह रिपोर्ट इस बात का पता लगाती है‚ कि अमुक देश में समाचारों को किस तरह लिया जा रहा है।
  • वर्ष 2022 की रिपोर्ट ब्रिटिश मार्केट रिसर्च एवं डाटा एनालिटिक्स फर्म YouGov द्वारा जनवरी/फरवरी‚ 2022 में किए गए ऑनलाइन सर्वे पर आधारित है।
  • इस रिपोर्ट में छह महाद्वीपों के 46 देश को शामिल किया गया हैं।
  • ये 46 देश विश्व की लगभग आधी आबादी को समाहित करते हैं।

वर्तमान संदर्भ

  • जून‚ 2022 में रायटर्स इंस्टीट्‌यूट ऑफ द स्टडी ऑफ जर्नलिज्म ने डिजिटल न्यूज रिपोर्ट‚ 2022 जारी की।
  • ध्यातव्य है‚ कि ’रायटर्स इंस्टीट्‌यूट ऑफ द स्टडी ऑफ जर्नलिज्म’ यूनाइटेड किंगडम में स्थित एक अनुसंधान केंद्र है। इसकी स्थापना वर्ष 2006 में की गई थी।
  • यह संस्था परिचर्चा‚ जुड़ाव एवं शोध के माध्यम से दुनियाभर में पत्रकारिता की स्थिति पर नजर रखती है। 

रिपोर्ट से संबंधित महत्वपूर्ण निष्कर्ष

  • यह रिपोर्ट यह बताती है‚ कि पिछले वर्ष की तुलना में पत्रकारिता की स्थिति थोड़ी निराशाजनक (Less Optimistic) है।
  • वर्ष 2021 की रिपोर्ट के अनुसार‚ कई पारंपरिक समाचार ब्राण्ड न केवल वित्तीय रूप से लाभ की स्थिति में थे; वरन उन पर लोगों का भरोसा भी बढ़ा था।
  • परंतु इस वर्ष यानी वर्ष 2022 में स्थिति बदली नजर आ रही है।
  • वर्ष 2022 की रिपोर्ट के अनुसार‚ कई देशों में समाचार खपत में गिरावट दर्ज की गई है।
  • इस वर्ष खबरों/समाचारों के प्रति लोगों के विश्वास में भी गिरावट दर्ज की गई है।
  • रिपोर्ट यह इंगित करती है‚ कि फिनलैण्ड में (69%) सर्वाधिक समाचारों पर भरोसा किया जाता है‚ जबकि अमेरिका में खबरों के प्रति सबसे कम (26%) भरोसा किया जाता है। ध्यातव्य है‚ कि संयुक्त राज्य अमेरिका में समाचारों के प्रति विश्वास में तीन प्रतिशत की गिरावट आई है।
  • रिपोर्ट यह बताती है‚ कि ऑनलाइन समाचारों (ज्यादातर समृद्ध देश) के लिए भुगतान करने के इच्छुक लोगों के अनुपात में अल्प वृद्धि हुई है।
  • हालांकि‚ समाचार सामग्री हेतु डिजिटल सदस्यता में वृद्धि का स्तर कम होता दिख रहा है।
  • ऑनलाइन समाचारों हेतु भुगतान करने के इच्छुक लोगों की संख्या अल्पमात्र इन देशों में बढ़ी है- ऑस्ट्रेलिया‚ जर्मनी एवं स्वीडन।
  • रिपोर्ट बताती है‚ कि सर्वे में उपयोग किए गए पूरे नमूने में लगभग एक-तिहाई (32%) का कहना है‚ कि वे समाचार वेबसाइट्‌स पर भरोसा करते हैं।
  • रिपोर्ट के अनुसार‚ फेसबुक सर्वाधिक उपयोग किया जाने वाला सोशल साइट है।
  • रिपोर्ट के अनुसार‚ टिकटॉक (Tik Tok) इस वर्ष के सर्वेक्षण में सबसे तेजी से आगे बढ़ने वाला नेटवर्क बन गया है।
  • रिपोर्ट के अनुसार‚ स्मार्ट फोन समाचारों को प्राप्त करने का सबसे प्रमुख साधन बन गया है।

समाचारों के पसंदीदा तरीके

  • टेक्स्ट या पठनीय समाचार
  • भारत में 58 प्रतिशत लोग समाचार पढ़ते हैं‚ जबकि 17 प्रतिशत इसे देखते हैं।
  • फिनलैण्ड में 85 प्रतिशत लोग समाचार पढ़ते हैं‚ जबकि 3 प्रतिशत देखते हैं।

पांच ऐसे देश जहां समाचार सर्वाधिक पढ़े जाते हैं

भारत के संदर्भ में विशिष्ट तथ्य

  • भारत‚ मोबाइल केंद्रित देश है। यहां डिजिटल मीडिया के लिए लोग अधिकतर मोबाइल फोन का इस्तेमाल करते हैं।
  • रिपोर्ट के अनुसार‚ भारत की कुल आबादी में से 54 प्रतिशत आबादी तक इंटरनेट की पहुंच है।
  • 72 प्रतिशत लोग मोबाइल फोन से‚ जबकि 35 प्रतिशत लोग कंप्यूटर से समाचार पढ़ते हैं।
  • समाचार के स्रोत के रूप में सर्वाधिक 63 प्रतिशत लोग सोशल मीडिया का सहारा लेते हैं‚ जबकि 59 प्रतिशत टेलीविजन तथा 49 प्रतिशत लोग प्रिंट मीडिया के माध्यम से समाचार प्राप्त करते हैं।
  • खबरों की विश्वसनीयता के संदर्भ में देखा जाए‚ तो भारत ने 46 देशों में 20वां स्थान प्राप्त किया है। जबकि लोगों की खबरों के प्रति लोगों की विश्वसनीयता 45 प्रतिशत (पिछले वर्ष 38 प्रतिशत) है।
  • भारत में लोग समाचार प्राप्त करने के लिए सर्वाधिक यूट्‌यूब (53%), ह्वाट्‌स ऐप (51%) तथा फेसबुक (43%) बहुधा इस्तेमाल करते हैं।

संकलन - आलोक त्रिपाठी


Comments
List view
Grid view

Current News List