Contact Us - 9792276999 | 9838932888
Timing : 12:00 Noon to 20:00 PM (Mon to Fri)
Email - ssgcpl@gmail.com
|
|

Post at: Jun 15 2022

लीडर्स इन क्‍लाइमेट चेंज मैनेजमेंट प्रोग्राम

परिचय

  • लीडर्स इन क्‍लाइमेट चेंज मैनेजमेंट (Leaders in Climate Change Management:LCCM) एक क्षमता निर्माण प्रोग्राम है, जो सभी सेक्टरों तथा भौगोलिक क्षेत्रों में जलवायु कार्रवाई के ध्येय को आगे बढ़ाने तथा नेतृत्व करने के लिए नेताओं के एक समूह का निर्माण करने का प्रयास करता है। 
  • इस प्रोग्राम की रूपरेखा तथा कार्यान्वयन मूल साझीदारों राष्ट्रीय शहरी कार्य संस्थान (एनआईयूए); विश्व संसाधन संस्थान (डब्‍ल्‍यूआरआई)-इण्डिया; संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम (यूएनईपी) तथा इण्डियन स्कूल आॅफ बिजनेस (आईएसबी) द्वारा किया गया है। 

वर्तमान परिप्रेक्ष्य

  • 5 जून, 2022 को केंद्रीय आवासन तथा शहरी मामलों के मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने भारतीय नगरों में क्‍लाइमेट लीडर्स के बीच क्षमता निर्माण के लिए लर्निंग प्रोग्राम लांच किया।
  • इस अवसर पर हरदीप सिंह पुरी ने शहरी पर्यावरण सेक्टर में एनयूआईए द्वारा अर्जित एक और ऐतिहासिक उपलब्धि का समारोह मनाने के लिए क्‍लाइमेट डाटा ऑब्जरवेटरी 2.0 वेबसाइट; नाॅलेज प्रोडक्ट ऑन पब्लिक स्पेसेज; अर्बन आउटकम फ्रेमवर्क, 2022; डाटा कलेक्शन पोर्टल तथा सिटीजेन इंगेजमेंट फॉर अर्बन ट्रांसपोर्ट कंपेण्डियम भी लांच किया। 
  • ट्रांसपोर्ट 4 ऑल इनोवेशन चैलेंज के लिए नेशनल क्‍लाइमेट फोटोग्राफी अवाॅर्ड तथा स्टेज वन क्‍वालिफाइंग सिटीज की भी घोषणा की गई।

प्रोग्राम की विशेषता

  • इसका लक्ष्य भारत में विभिन्‍न सेक्टरों तथा भौगोलिक स्थानों पर जलवायु कार्रवाई में अग्रणी भूमिका निभाने के लिए शहरी पेशेवरों के बीच क्षमता निर्माण करना है। 
  • LCCM में भारत की जलवायु प्रतिबद्धताओं को अर्जित करने के लिए एक समन्वित प्रयास की दिशा में मध्य से कनिष्ठ स्तर के सरकारी अधिकारियों तथा अग्रिम पंक्ति के कार्यकर्ताओं सहित 5,000 पेशेवरों को सक्षम बनाने तथा उन्हें जलवायु परिवर्तन अनुकूलन एवं शमन समाधानों के लिए तैयार करने की कल्पना की गई है।
  • LCCM प्रभावी जलवायु कार्रवाई प्रदान करने के लिए खुद को कुशल बनाने तथा तैयार करने में लगे शहरी प्रैक्टिशनरों के लिए एक ब्‍लेण्डेड यानी मिश्रित लर्निंग प्रोग्राम है। 
  • इस प्रोग्राम के चार चरण हैं: 
    • पहला चरण एक ऑनलाइन लर्निंग मॉड्‍यूल है, जिसे आठ सप्ताह में पूरा किया जा सकता है, 
    • दूसरा चरण चार से छह दिनों तक चलने वाला आमने-सामने का यानी फेस-टू-फेस सत्र है, 
    • तीसरा चरण सहभागियों को छह से आठ महीनों में एक परियोजना को पूरा करने तथा ज्ञानवर्धक दौरों के लिए अधिदेशित करता है तथा 
    • अंतिम चरण में नेटवर्किंग एक कम्युनिटी आॅफ प्रैक्टिस की स्थापना करना शामिल है।
  • आॅनलाइन लर्निंग को एनयूआईए की क्षमता निर्माण शाखा नेशनल अर्बन लर्निंग प्‍लेटफॉर्म (एनयूएलपी) पर मेजबानी की जाएगी। 
  • इस फेस-टू-फेस लर्निंग मॉड्‍यूल को सुगम बनाने के लिए मैसूर के प्रशासनिक प्रशिक्षण संस्थान (एटीआई) ने एनआईयूए तथा डब्ल्यूआरआई-इण्डिया के साथ एक त्रिपक्षीय समझौता-ज्ञापन (एमओयू) पर भी हस्ताक्षर किया और इस प्रकार LCCM प्रोग्राम का पहला डिलीवरी पार्टनर बन गया।
  • इस प्रोग्राम का उद्देश्य अगले कुछ महीनों के दौरान पूरे भारत में एटीआई के साथ समान प्रकार का एमओयू करना है।

राष्ट्रीय शहरी कार्य संस्थान के बारे में

  • वर्ष 1976 में स्थापित राष्ट्रीय शहरी कार्य संस्थान (एनआईयूए) शहरी नियोजन तथा विकास पर भारत का प्रमुख राष्ट्रीय थिंक टैंक है। 
  • अर्बन सेक्टर में अत्याधुनिक अनुसंधान के सृजन एवं प्रसार के लिए एक हब के रूप में एनआईयूए तेजी से शहरीकरण वाले भारत की चुनौतियों का समाधान करने के लिए नवोन्मेषी समाधान और अधिक समावेशी तथा स्थायी शहरों के लिए मार्ग प्रशस्त करना चाहता है।

विश्व संसाधन संस्थान-इण्डिया के बारे में

  • डब्ल्यूआरआई-इण्डिया एक स्वतंत्र धर्मार्थ संस्था है, जो कानूनी रूप से इण्डिया रिसोर्स ट्रस्ट के रूप में पंजीकृत है।
    • यह पर्यावरण की दृष्टि से स्वस्थ तथा सामाजिक रूप से न्यायसंगत विकास को बढ़ावा देने के लिए वस्तुनिष्ठ जानकारी और व्यावहारिक प्रस्ताव उपलब्ध कराता है। 
  • इसका काम टिकाऊ तथा रहने योग्य शहरों के निर्माण और निम्न कार्बन वाली अर्थव्यवस्था की दिशा में काम करने की दिशा में केंद्रित है। 
  • अनुसंधान, विश्लेषण तथा अनुशंसाओं के माध्यम से, डब्ल्यूआरआई-इण्डिया पृथ्वी की रक्षा करने, आजीविका को बढ़ावा देने तथा मानव कल्याण को बढ़ावा देने के लिए रूपांतरकारी समाधान का निर्माण करने के लिए विचारों को कार्यान्वित करता है। 
  • यह एक वैश्विक अनुसंधान संगठन ‘विश्व संसाधन संस्थान’ (डब्ल्यूआरआई) से प्रेिरत तथा जुड़ा हुआ है।

संकलन-मनीष प्रियदर्शी


Comments
List view
Grid view

Current News List