Contact Us - 9792276999 | 9838932888
Timing : 12:00 Noon to 20:00 PM (Mon to Fri)
Email - ssgcpl@gmail.com
|
|

Post at: Jun 14 2022

विश्व की पहली फिशिंग कैट गणना

वर्तमान परिप्रेक्ष्य

  • 5 जून‚ 2022 को विश्व पर्यावरण दिवस के दिन चिल्का विकास प्राधिकरण (Chilika Development Authority : CDA) द्वारा जारी एक बयान (Statement) में यह बताया गया कि ओडिशा के चिल्का झील में कुल 176 कैट फिश हैं।
  • ध्यातव्य है‚ कि कैट फिश की गणना द फिशिंग कैट प्रोजेक्ट (The Fishing Cat Project : TFCP) के तहत चिल्का झील के आस-पास संरक्षित क्षेत्रों में की गई।

विवरण

  • यह गणना दो चरणों में संपन्न की गई।
  • पहले चरण में गणना वर्ष 2021 में 115 वर्ग किलोमीटर में की गई।
    • इस दौरान चिल्का झील के आस-पास के क्षेत्रों के उत्तर और पूर्वी खण्ड की दलदली भूमि को शामिल किया गया।
  • दूसरा चरण वर्ष 2022 में चिल्का झील के तटीय द्वीपों के साथ परीकुडा में आयोजित किया गया।

फिशिंग कैट

  • यह एक सामान्य घरेलू बिल्ली के आकार से लगभग दोगुनी बड़ी होती है।
    • इसका वैज्ञानिक नाम प्रियोनैलुरस विवरिनस (Prionailurus Viverrinus) है।
  • एक व्यस्क फिशिंग कैट का आकार लगभग 57- 78 सेंमी. होता है तथा वजन 5-16 किग्रा. तक।
  • फिशिंग कैट ज्यादातर आर्द्र भूमि क्षेत्र में पायी जाती है।
  • फिशिंग कैट विश्व में सर्वाधिक भारत में पाई जाती है। इसके अतिरिक्त यह नेपाल‚ म्यांमार‚ बांग्लादेश‚ वियतनाम‚ कंबोडिया‚ पाकिस्तान‚ इण्डोनेशिया‚ जावा‚ थाईलैण्ड आदि देशों में पाई जाती है।
  • भारत में यह ज्यादातर सुंदरबन के मैंग्रोव वन‚ हिमालय के तलहटी‚ गंगा-ब्रह्मपुत्र घाटी तथा पश्चिमी घाट में पाई जाती है।

संरक्षण के प्रयास

  • फिशिंग कैट को अंतरराष्ट्रीय प्रकृति संरक्षण संघ (International Union for Conservation of Nature:IUCN) की लाल सूची में लुप्तप्राय के रूप में सूचीबद्ध किया गया है। जिसका अर्थ है‚ जंगल में विलुप्त होने का उच्च खतरा।
  • लुप्तप्राय प्रजातियों के अंतरराष्ट्रीय व्यापार पर अभिसमय (Convention on International Trade in Endangered Species of Wild Fauna and Flora : CITES) के अनुच्छेद IV के परिशिष्ट II में सूचीबद्ध किया गया है।
  • भारत में फिशिंग कैट को भारतीय वन्यजीव (संरक्षण) अधिनियम‚ 1972 की अनुसूची I में शामिल किया गया है।
  • इस अधिनियम के दोषी पाए जाने वाले व्यक्ति को तीन वर्ष का कारावास तथा 25000 रुपये का जुर्माना अथवा दोनों हो सकता है।
  • वर्ष 2012 में फिशिंग कैट को बंगाल सरकार ने राज्य का राजकीय पशु घोषित किया था।
  • इसके अतिरिक्त वर्ष 2021 में  चिल्का विकास प्राधिकरण फिशिंग कैट को चिल्का झील का दूत (Ambassador) घोषित किया था।

फिशिंग कैट प्रोजेक्ट (The Fishing Cat Project : TFCP)

  • यह फिशिंग कैट के संरक्षण हेतु प्रारंभ की गयी विश्व की सबसे लंबी शोध एवं संरक्षण परियोजना है। 
  • इसकी शुरुआत वर्ष 2010 में हुई थी।
  • वर्तमान में यह भारत के दो राज्यों प. बंगाल एवं ओडिशा में संचालित है।

संकलन-मनीष प्रियदर्शी


Comments
List view
Grid view

Current News List