Contact Us - 9792276999 | 9838932888
Timing : 12:00 Noon to 20:00 PM (Mon to Fri)
Email - ssgcpl@gmail.com
|
|

Post at: May 30 2022

शंघाई सहयोग संगठन ‘क्षेत्रीय आतंकवाद विरोध संरचना’ बैठक

पृष्ठभूमि

  • 28 अक्टूबर, 2021 को भारत ने एक वर्ष की अवधि के लिए शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) के क्षेत्रीय आतंकवाद विरोधी ढांचे की परिषद की अध्यक्षता ग्रहण की थी।
  • इसी तरह का एक सम्मेलन भारत द्वारा दिसंबर में आयोजित किया गया था।
    • जिसका विषय ‘समकालीन चुनौतीपूर्ण माहौल में साइबरस्पेस की सुरक्षा’ था।
  • एक सदस्य के रूप में, भारत ने एससीओ-आरएटीएस की गतिविधियों में सक्रिय रूप से भाग लिया है।

वर्तमान परिप्रेक्ष्य

  • 16-19 मई, 2022 तक तीन दिवसीय शंघाई सहयोग संगठन की आतंकवाद रोधी संस्था ‘क्षेत्रीय आतंकवाद रोधी संरचना’ (Regional Anti Terrorist Structure of Shanghai Cooperation Organisation : RATS) की बैठक की मेजबानी भारत द्वारा की गई। 
    • यह बैठक नई दिल्‍ली में आयोजित की गई।
  • भारत द्वारा सम्मेलन में क्षेत्रीय आतंकवाद विरोधी ढांचे की परिषद की अध्यक्षता की गई।

प्रमुख बिंदु

  •  बैठक का मुख्य एजेण्डा अफगानिस्तान की स्थिति और तालिबान के हाथों अफगानिस्तान के पतन के कारण पैदा हुई सुरक्षा चिंता व्यवस्था थी।
  • भारत ने एससीओ और इसके क्षेत्रीय आतंकवाद रोधी ढांचे के साथ अपने सुरक्षा सहयोग को मजबूत करने के प्रयासों को सशक्त करने पर प्रतिबद्धता व्यक्त की है।
  • बैठक का आयोजन राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद सचिवालय (National Security Council Secretariat)  द्वारा किया गया।
  • बैठक में एससीओ के सदस्य देश पाकिस्तान, रूस, चीन, किर्गिज गणराज्य, कजाख्स्तान, ताजिकिस्तान और उज्‍बेकिस्तान के अधिकारियों व सचिवों ने भागीदारी की।

क्षेत्रीय आतंकवाद विरोधी संरचना (RATS)

  • 7 जून, 2002 को सेंट पीटर्सबर्ग में एससीओ सदस्य देशों के प्रमुखों की परिषद की बैठक के दौरान क्षेत्रीय आतंकवाद विरोधी संरचना पर समझौता हस्ताक्षर किया गया था।
  • इसका मुख्यालय ताशकंद, उज्‍बेकिस्तान में है।
  • यह शंघाई सहयोग संगठन का एक स्थायी निकाय है।
  • यह आतंकवाद, उग्रवाद और अलगाववाद के खिलाफ लड़ाई के रूप में एससीओ सदस्य राज्यों के बीच समन्‍वय और बातचीत को बढ़ावा दे रहा है।

शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ)

  • एससीओ का गठन वर्ष 2001 में किया गया था।
  • वर्ष 2001 में एससीओ के गठन से पहले कजाख्स्तान, चीन, किर्गिजस्तान, रूस और ताजिकिस्तान शंघाई फाइव के सदस्य थे।
  • वर्ष 2001 में उज्‍बेकिस्तान के संगठन में शामिल होने के बाद यह एससीओ बन गया।
  • एससीओ चार्टर, वर्ष 2002 में हस्ताक्षरित और वर्ष 2003 में लागू किया गया था।

  • इसके सदस्य देशों में चीन, भारत, पाकिस्तान, रूस किर्गिजस्तान, ताजिकिस्तान, कजाख्तान और उज्‍बेकिस्तान हैं।
  • अफगानिस्तान, एससीओ के पर्यवेक्षक राज्यों में से एक है।

अन्य महत्वपूर्ण तथ्य

  • हाल ही में ईरान को एससीओ का पूर्ण सदस्य बनने की मंजूरी प्रदान की गई है।
  • तुर्कमेनिस्तान अपनी ‘सकारात्मक तटस्थता’ की नीति के कारण  एससीओ में शामिल नहीं हुआ है।
  • भारत एससीओ शिखर सम्मेलन की मेजबानी वर्ष 2023 में करेगा।

संकलन-पंकज तिवारी
 


Comments
List view
Grid view

Current News List