Contact Us - 0532-246-5524,25 | 9335140296
Email - ssgcpl@gmail.com
|
|

Post at: May 05 2022

लामितिये (LAMITIYE), 2022

वर्तमान परिप्रेक्ष्य

  • 22-31 मार्च, 2022 तक भारतीय सेना और सेशेल्स रक्षा बलों (SDF)  ने संयुक्त सैन्य अभ्यास ‘लामितिये, 2022’ आयोजित किया।
  • इसका आयोजन सेशेल्स रक्षा अकादमी (SDA),  सेशेल्स में किया गया।
  • यह इस अभ्यास का 9वां संस्करण था।
  • ध्यातव्य है, कि सेशेल्स गणराज्य पश्चिमी हिंद महासागर में स्थित एक पूर्वी अफ्रीकी द्वीपीय देश है।

अभ्यास के प्रतिभागी

  • इस अभ्यास में भारतीय सेना और सेशेल्स रक्षा बल दोनों की एक-एक इन्‍फैंट्री प्‍लाटून कंपनी ने भाग लिया।
  • भारतीय सैन्य दल की तरफ से दो-तिहाई गोरखा राइफल्स समूह (पीरकंठी बटालियन) के सैनिकों ने भागीदारी की। 
  • ध्यातव्य है, कि सैनिकों का यह दल 21 मार्च, 2022 को ही सेशेल्स पहुंच गया था।

लामितिये सैन्य अभ्यास

  • लामितिये सैन्य अभ्यास एक द्विवार्षिक प्रशिक्षण कार्यक्रम है।
  • इसका आयोजन वर्ष 2001 से सेशेल्स से किया जा रहा है।
  • भारत द्वारा विभिन्‍न देशों के साथ आयोजित सैन्य प्रशिक्षण अभ्यास की श्रृंखला में सेशेल्स के साथ आयोजित यह अभ्यास सुरक्षा चुनौतियों के संदर्भ में बहुत ही महत्वपूर्ण है।
  • खासतौर पर मौजूदा वैश्विक स्थिति और हिंद महासागर के क्षेत्र में बढ़ती सुरक्षा चुनौतियों के मद्देनजर यह अभ्यास बेहद अहम हो जाता है।

वर्तमान अभ्यास का विवरण

  • 10 दिनों तक चलने वाले इस संयुक्त अभ्यास में क्षेत्र प्रशिक्षण अभ्यास, युद्ध चर्चा तथा व्याख्यान प्रदर्शन को शामिल किया गया, जो दो दिवसीय प्रमाणीकरण अभ्यास के साथ संपन्‍न्‍ा हुआ।
  • दोनो देशों के सैन्य बलों ने कौशल, अनुभव और अच्‍छी प्रक्रियाओं के आदान-प्रदान के साथ ही द्विपक्षीय सैन्य संबंधों को बढ़ावा देने पर जोर दिया।
  • अर्ध-शहरी वातावरण में शत्रु दलों का मुकाबला करने हेतु दोनों बलों के बीच सामरिक कौशल और अंतर-संचालन बढ़ाने पर पूरा ध्यान केंद्रित किया गया।
  • अर्ध-शहरी वातावरण में उत्पन्‍न होने वाले संभावित खतरों से निपटने हेतु अच्‍छी तरह से विकसित सामरिक अभ्यासों  की श्रृंखला का संयुक्त रूप से प्रशिक्षण, नियोजन और निष्पादन किया गया ।
  • इसके लिए दोनों पक्षों ने नई पीढ़ी के उपकरणों और प्रौद्योगिकियों का इस्तेमाल किया।

निष्कर्ष

  • भारत और सेशेल्स के बीच आयोजित ‘लामितिये संयुक्त सैन्य अभ्यास, 2022’ वर्तमान सुरक्षा चुनौतियों के संदर्भ में बहुत ही महत्वपूर्ण है, जो दोनों देशों के बीच रक्षा सहयोग और द्विपक्षीय संबंधों को और अधिक मजबूत बनाने में मदद करेगा।

संकलन-अमित शुक्‍ला


Comments
List view
Grid view

Current News List