Contact Us - 9792276999 | 9838932888
Timing : 12:00 Noon to 20:00 PM (Mon to Fri)
Email - ssgcpl@gmail.com
|
|

Post at: Apr 30 2022

यूनेप : फ्रंटियर्स रिपोर्ट, 2022

परिचय

  • 17 फरवरी, 2022 को संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम (UNEP)  द्वारा फ्रंटियर्स रिपोर्ट (Frontiers Report), 2022 जारी की गई।
  • इस रिपोर्ट को फ्रंटियर्स 2022 : नॉइज, ब्लेज और िमसमैच्स-इमर्जिंग इश्यूज ऑफ एनवायरनमेंटल कंसर्न (Frontiers 2022 : Noise, Blaze and Mismatches-Emerging Issue of Environmental Concern) शीर्षक के तहत जारी किया गया।
  • यूएनईपी द्वारा फ्रंटियर्स रिपोर्ट को वर्ष 2016 से प्रकाशित किया जा रहा है।
  • फ्रंटियर्स रिपोर्ट के अंतर्गत तीन पर्यावरणीय मुद्दों की पहचान और उनका समाधान प्रस्तुत किया गया है-

नोट-इस लेख का विषय फ्रंटियर्स रिपोर्ट में दिए गए ध्वनि प्रदूषण पर आधारित है। 

प्रमुख बिंदु

  • संयुक्त राष्ट्र फ्रंटियर रिपोर्ट, 2022 में कुल 61 शहरों को स्थान दिया गया है, जिनमें से 13 शहर दक्षिण एशिया से हैं, जबकि 5 शहर भारत के हैं।
  • ढाका को दुनिया के सबसे ज्यादा ध्वनि (Noise) उत्पन्‍न करने वाले शहरों में प्रथम स्थान पर रखा गया है।
  • वहीं, दूसरे स्थान पर उत्तर प्रदेश का मुरादाबाद शहर है।

शीर्ष 5 सबसे अधिक ध्वनि प्रदूषण करने वाले शहर

  • दुनिया के सर्वाधिक ध्वनि उत्पन्‍न करने वाले शहरों में, पांच भारतीय शहरों मुरादाबाद, आसन-सोल, जयपुर, कोलकाता और नई दिल्‍ली को शामिल किया गया है।
  • वहीं, इरबिड (Irbid) (जाॅर्डन) को दुनिया के सबसे शांत शहर  के रूप में स्थान दिया गया है और इसके बाद क्रमश: ल्यों (फ्रांस) और मैड्रिड (स्पेन) का स्थान है।

​​​​​​​ध्वनि प्रदूषण

  • अवांछित आवाज, जिससे मानव के कानों में दर्द व कष्ट को अनुभव हो ‘ध्वनि प्रदूषण’ कहलाता है, उच्‍च तीव्रता वाले ध्वनि को अवांछित आवाज कहते हैं।
  • वैज्ञानिकों के अनुसार, 120-140 dB ध्वनि कष्टप्रद एवं मस्तिष्क को अस्थिर करती है।
  • ध्वनि संकेतक के उदाहरण

मनुष्य पर ध्वनि प्रदूषण के नकारात्मक प्रभाव

समाधान 

  • पारिस्थितिकीय सेवाएं :  शहरी वातावरण में वानिकी जैसे पौधों भरी छतें, ध्वनिक ऊर्जा को अवशोषित कर सकती हैं। 
    •  वृक्षों की पट्टी, झाड़ियां, हरी दीवारें और हरी छतें शहरी वन्य जीवों को आकर्षित करके प्राकृतिक-कर्णप्रिय ध्वनियों को बढ़ा सकती हैं।
  • हरे-भरे स्थल (Green Space): सार्वजनिक पार्क, शहरी हरे-भरे स्थान शहरी निवासियों को राहत प्रदान करते हैं।
    •  सरसराहट और चहकती चिड़ियों जैसी सुखद प्राकृतिक ध्वनियां तनाव में कमी जैसे सकारात्मक मनौवैज्ञानिक प्रभाव उत्पन्‍न कर सकती हैं।

ध्वनि अवरोधों का निर्माण : 

  • शहर के योजनाकारों को हरित स्थानों के स्वास्थ्य लाभों को ध्यान में रखना चाहिए और यह सुनिश्चित करना चाहिए कि पेड़ों का उपयोग प्राकृतिक ध्वनि अवरोधों के रूप में किया जाए।

​​​​​​​शहरी नियोजन : 

  • शहर का ले-आउट (प्रारूप) और भवन का डिजाइन ध्वनि वितरण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। कम आय वाले निवासी, जो खराब गुणवत्ता वाले आवास मंे रहते हैं, यातायात के शोर से अधिक प्रभावित होते हैं।

​​​​​​​भारत सरकार द्वारा ध्वनि प्रदूषण पर रोकथाम के प्रयास

  • ध्वनि प्रदूषण (नियंत्रण और विनियमन) नियम, 2000 के तहत ध्वनि प्रदूषण को अलग से नियंत्रित किया जाता है।
    • लाउडस्पीकर और सार्वजनिक संबोधन प्रणाली से उत्पन्‍न होने वाले ध्वनि प्रदूषण को नियंत्रित करने के लिए सरकार ने ध्वनि प्रदूषण (विनियमन और नियंत्रण) संशोधन नियम, 2010 लागू किया है।
  • पर्यावरण (संरक्षण) अधिनियम, 1986 के तहत आवासीय, वाणिज्यिक औद्योगिक श्रेणियों हेतु ध्वनि संबंधी मानकों को अधिसूचित किया गया है।
  • वायु (प्रदूषण की रोकथाम और नियंत्रण) अधिनियम, 1981 के तहत राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड/प्रदूषण नियंत्रण समितियों (SPCBs/PCCs)  द्वारा उद्योगों से होने वाले शोर को नियंत्रित किया जाता है।
  • हरित राजमार्ग योजना से राजमार्गों के आस-पास ध्वनि प्रदूषण को कम करने में मदद प्राप्त होगी।
  • विनियामक एजेंसियों द्वारा जनरेटरों, फायर क्रैकर्स (पटाखों) और कोयला खानों के लिए मानक निर्मित व अधिसूचित किए गए हैं।
  • केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (CPCB), राज्य इकाइयों के माध्यम से ध्वनि प्रदूषण को ट्रैक करने, मानकों को निर्धारित करने का कार्य अनिवार्यत: करती रहती है।

​​​​​​​संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम (UNEP)

  • 5 जून, 1972 को संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम की स्थापना की गई।
  • यह स्टाॅकहोम सम्मेलन, 1972 के परिणामस्वरूप अस्तित्व में आया।
  • इसका मुख्यालय नैरोबी, केन्या में है।
  • इसके प्रमुख कार्यों के अंतर्गत संयुक्त राष्ट्र व्यवस्था के भीतर संधारणीय विकास को बढ़ावा देना, वैश्विक पर्यावरण  एजेण्डा निर्धारित करना और वैश्विक पर्यावरण संरक्षण के लिए एक आधिकारिक अभिकर्ता के रूप में कार्य करना शामिल है।

​​​​​​​प्रमुख कार्य/अभियान

  • अर्थ ऑवर (Earth Hour), बीट पाॅल्यूशन, बिलियन ट्री अभियान, विश्व पर्यावरण दिवस तथा वाइल्ड फॉर लाइफ आदि कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं।

​​​​​​​प्रमुख प्रकाशन

  •  वैश्विक पर्यावरण आउटलुक
  • फ्रंटियर्स रिपोर्ट
  • उत्सर्जन गैप सूचकांक
  • अनुकूलन गैप रिपोर्ट

नोट- 5 जून को विश्व पर्यावरण दिवस के रूप में मनाने की शुरुआत, वर्ष 1972 में संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण सम्मेलन (स्टॉकहोम) के प्रभावस्वरूप हुई।

संकलन-पंकज तिवारी
 


Comments
List view
Grid view

Current News List