Contact Us - 9792276999 | 9838932888
Timing : 12:00 Noon to 20:00 PM (Mon to Fri)
Email - ssgcpl@gmail.com
|
|

Post at: Apr 22 2022

स्वनिधि से समृद्धि

पृष्ठभूमि

  • 1 जून‚ 2020 को आवासन और शहरी कार्य मंत्रालय ने प्रधानमंत्री स्ट्रीट वेण्डर्स आत्मनिर्भर निधि (पी.एम. स्वनिधि) योजना की शुरुआत की थी।
  • इसे एक केंद्रीय क्षेत्र (Central Sector) की योजना के रूप में शुरू किया गया। 
  • इस योजना का उद्देश्य पथ विक्रेताओं (स्ट्रीट वेण्डर) को कम ब्याज और आसान शर्तों पर काम करने के लिए पूंजी ऋण (Capital loan) प्रदान करना है। 
    • इसके अतिरिक्त उनका समग्र विकास और आर्थिक उत्थान भी करना है। 
  • इसी को ध्यान में रखते हुए पथ विक्रेताओं के समग्र विकास और सामाजिक-आर्थिक उत्थान के लिए ‘स्वनिधि से समृद्धि’ कार्यक्रम शुरू किया गया था। 

परिचय

  • 4 जनवरी‚ 2021 को प्रधानमंत्री स्वनिधि की एक अतिरिक्त योजना के रूप में ‘स्वनिधि से समृद्धि’ योजना के प्रथम चरण की शुरुआत की गई।
  • प्रथम चरण के तहत‚ देश के 125 शहरों में लगभग 35 लाख पथ विक्रेताओं और उनके परिवार को शामिल किया गया था।

वर्तमान परिप्रेक्ष्य

  • 12 अप्रैल‚ 2022 को ‘स्वनिधि से समृद्धि’ कार्यक्रम के दूसरे चरण (II) के तहत 14 राज्यों/ केंद्रशासित प्रदेशों के 126 शहरों में कार्यक्रम को विस्तारित किया गया।
  • दूसरे चरण में आवासन और शहरी मामलों के मंत्रालय ने वित्त वर्ष 2022-23 के लिए कुल 20 लाख आवेदन स्वीकृतियों के साथ 28 लाख पथ विक्रेताओं और उनके परिवारों को लाभ पहुंचाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है।

उद्देश्य-

  • इसके अंतर्गत प्रधानमंत्री स्वयंनिधि के लाभार्थियों की सामाजिक-आर्थिक रूपरेखा का आकलन किया जाएगा।
  • जिससे‚ संभावित लाभार्थियों को विभिन्न योग्य केंद्रीय कल्याणकारी योजनाओं व सुविधाओं से जोड़ा जा सके। 

विशेषता

  • यह पी.एम. स्वनिधि योजना का एक अतिरिक्त कार्यक्रम है।
  • आवासन और शहरी मामलों के मंत्रालय के तहत शुरू किया गया है। 
  • इस योजना में कार्यान्वयन भागीदार‚ भारतीय गुणवत्ता परिषद (Quality Council of India: QCI) को बनाया गया है। 
  • भारत सरकार की आठ (8) कल्याणकारी योजनाओं को भागीदार बनाया गया है।

महत्व

  • वर्ष 2020-21 में कोविड-19 महामारी के कारण उत्पन्न चुनौतियों के बावजूद‚ यह कार्यक्रम लाखों ‘पथ विक्रेताओं’ और उनके परिवारों को सामाजिक सुरक्षा लाभ प्रदान करने में सफल रहा है। 
  • परिणामस्वरूप उन्हें जीवन और आजीविका के जोखिमों और कमजोरियों से बचाया जा सका। 
  • इसके तहत‚ प्रधानमंत्री स्वनिधि लाभार्थियों और उनके परिवारों को भी भारत सरकार की मौजूदा कल्याणकारी योजनाओं से जोड़ा गया है‚ जो उन्हें सामाजिक सुरक्षा आवरण प्रदान करता है।

अन्य महत्वपूर्ण तथ्य

  • पी.एम स्वनिधि के तहत‚ विक्रेता ` 10,000 तक का कार्यशील पूंजी ऋण (Working Capital Loan) प्राप्त कर सकते हैं।
  • इसे एक वर्ष के भीतर मासिक किश्तों में चुकाया जा सकेगा।
  • ऋण के समय पर / जल्द भुगतान पर‚ 6 महीने के आधार पर प्रत्यक्ष लाभ हस्तांतरण (DBT) के माध्यम से बैंक खातों में 7 प्रतिशत प्रतिवर्ष की ब्याज सब्सिडी जमा की जाएगी।

संकलन : पंकज तिवारी 


Comments
List view
Grid view

Current News List