Contact Us - 9792276999 | 9838932888
Timing : 12:00 Noon to 20:00 PM (Mon to Fri)
Email - ssgcpl@gmail.com
|
|

Post at: Apr 21 2022

एकीकृत स्वास्थ्य इंटरफेस

पृष्ठभूमि

  • राष्ट्रीय स्वास्थ्य नीति, 2017 में एक एकीकृत स्वास्थ्य सूचना प्रणाली (Unified Health Information System) विकसित करने के उद्देश्य से एक डिजिटल स्वास्थ्य प्रौद्योगिकी पारिस्थितिकीय तंत्र के निर्माण की परिकल्पना की गई थी।
  • 27 मई, 2021 को प्रधानमंत्री ने राष्ट्रीय डिजिटल स्वास्थ्य मिशन (National Digital Health Mission) के तहत एकीकृत स्वास्थ्य इंटरफेस (Unified Health Interface) के रोलआउट (Roll-out) की घोषणा की।
  • 22 जून, 2021 को राष्ट्रीय डिजिटल स्वास्थ्य मिशन और राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्राधिकरण (National Health Authority : NHA)  ने प्रस्तावित एकीकृत स्वास्थ्य इंटरफेस (UHI) पर एक परामर्श-पत्र जारी किया।
  • 12 जनवरी, 2022 को राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्राधिकरण ने आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन के तहत एकीकृत स्वास्थ्य मिशन लांच करने की घोषणा की थी।

वर्तमान परिप्रेक्ष्य

  • 1 अप्रैल, 2022 को राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्राधिकरण (NHA) द्वारा एकीकृत स्वास्थ्य इंटरफेस (UHI)  में भाग लेने, निर्माण करने और योगदान करने के लिए डिजिटल स्वास्थ्य क्षेत्र में काम करने वाले लोगों को आमंत्रित किया गया।
  • एकीकृत स्वास्थ्य इंटरफेस के मुख्य प्रोटोकॉल (Protocol) के रूप में विकेंद्रीकृत स्वास्थ्य प्रोटोकॉल (Decentralized Health Protocol : DHP) को अपनाने की घोषणा की गई।

प्रमुख बिंदु

  • एकीकृत स्वास्थ्य इंटरफेस (UHI), राष्ट्रीय डिजिटल स्वास्थ्य मिशन की बुनियादी संरचना है।
  •  इसका उद्देश्य स्वास्थ्य सेवाओं तक डिजिटल रूप से पहुंच प्रदान करना है।
  • यह एक मुक्त और अंतर-संचालित (Open and Interoperable) आई.टी. नेटवर्क है।
  • इसके द्वारा लोग ऑनलाइन मोड के माध्यम से स्वास्थ्य सुविधाओं का उपयोग कर सकते हैं। 
  • यह रोगियों के इससे संबद्ध किसी भी ऐप्स (Apps) के माध्यम से अपनी पसंद से डॉक्टरों से संपर्क करने, स्वास्थ्य जानकारी साझा करने और स्वास्थ्य रिपोर्ट प्राप्त करने में सक्षम बनाता है।
  • यह सार्वजनिक और निजी भागीदारों तथा ऐप्स को राष्ट्रीय डिजिटल स्वास्थ्य मिशन (NDHM) का हिस्सा बनने में सक्षम बनाता है।

 अन्य महत्वपूर्ण तथ्य

  • विकेंद्रीकृत स्वास्थ्य प्रोटोकॉल का उपयोग करके अस्पताल, डॉक्टर, प्रयोगशालाओं या उपभोक्ताओं द्वारा डिजिटल स्वास्थ्य समाधान विकसित करने वाला कोई भी प्रौद्योगिकी (Technology)  का उपयोग कर समाधान प्रस्तुत किया जा सकता है।
  • यूएचआई (UHI) नेटवर्क का हिस्सा बन सकता है
  • विकेंद्रीकृत स्वास्थ्य सुविधा, सभी के लिए खुला है और यह भारत में डिजिटल स्वास्थ्य क्रांति को शक्ति प्रदान करने वाले मुक्त प्रोटोकॉल (Open Protocol) के विकास में योगदान करने और समृद्ध करने का अवसर प्रदान करता है।

राष्ट्रीय डिजिटल स्वास्थ्य मिशन

  • प्रधानमंत्री ने भारत के 74वें स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के शुभारंभ की घोषणा की थी।
  • यह स्वास्थ्य मिशन, तीन डिजिटल घोषणाओं का एक हिस्सा है, जिसमें साइबर सुरक्षा और ऑप्टिकल फाइबर कनेक्टिविटी (Optical Fiber Connectivity)  भी शामिल हैं।
  • NDHM एक डिजिटल स्वास्थ्य पारिस्थितिकी तंत्र है, जिसकी चार विशेषताएं हैं-

  • राष्ट्रीय डिजिटल स्वास्थ्य मिशन (NDHM) को राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्राधिकरण (NHA) द्वारा लागू किया जाएगा।
  • इसमें टेलीमेडिसिन (Teli-medicine) और ई-फार्मेसी सेवाओं को शामिल किया जाएगा।

​​​​​​​राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्राधिकरण

  • 23 मई , 2018 से एक पंजीकृत सोसाइटी के रूप में कार्य कर रही है। जिसे 2 जनवरी, 2019 को पुनर्गठित किया गया था।
  • यह स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय के अंतर्गत आता है।
  • इसकी स्थापना राष्ट्रीय स्तर पर ‘आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना’ (PMJAY) को लागू करने के लिए की गई थी।
  • यह स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री की अध्यक्षता में एक शासी बोर्ड द्वारा शासित किया जाता है।

संकलन-पंकज तिवारी
 


Comments
List view
Grid view

Current News List