Contact Us - 9792276999 | 9838932888
Timing : 12:00 Noon to 20:00 PM (Mon to Fri)
Email - ssgcpl@gmail.com
|
|

Post at: Apr 07 2022

ब्लू इकोनॉमी एवं ओशन गवर्नेंस पर रोडमैप

वर्तमान परिप्रेक्ष्य

  • हाल ही में (फरवरी‚ 2022)‚ भारत और फ्रांस ने ‘‘नीली अर्थव्यवस्था और महासागर शासन’’ (Blue Economy and Ocean Governance) पर अपने द्विपक्षीय आदान-प्रदान को बढ़ाने के लिए एक रोडमैप पर हस्ताक्षर किए हैं। 
  • यह समझौता 22 फरवरी‚ 2022 को फ्रांस में हुए इण्डो-पैसिफिक में सहयोग के लिए यूरोपीय संघ के मंत्रिस्तरीय फोरम के दौरान हुआ।
  • विदेश मंत्री डॉ. एस. जयशंकर ने इसमें प्रतिभाग किया।

रोडमैप की मुख्य विशेषताएं-
(1)    ब्लू इकोनॉमी और ओशन गवर्नेंस पर भारत-फ्रांस साझेदारी स्थापित की जाएगी। 
(2)    संस्थागत- वार्षिक आधार पर द्विपक्षीय वार्ता आयोजित की जाएगी।

  • इस वार्ता में दोनों पक्ष अपनी प्राथमिकताओं पर विचारों का आदान-प्रदान करेंगे।
  • इसके अतिरिक्त वे सर्वोत्तम प्रथाओं को भी साझा करेंगे।
  • मौजूदा तथा भावी प्रयासों में एक-दूसरे का समर्थन करेंगे। 

(3)    आर्थिक- परस्पर आर्थिक विनिमय गतिविधियों के विकास में ब्लू इकोनॉमी को प्राथमिकता दी जाएगी।
(4)    बुनियादी ढांचा- दोनों पक्ष तटीय एवं जलमार्ग आधारित संधारणीय एवं लचीली अवसंरचना पर सहयोग करेंगे।
(5)    वैज्ञानिक और शैक्षिक- समुद्री विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी में शोध को बढ़ावा दिया जाएगा। 

  • इससे समुद्री संसाधनों व जैव विविधता की निगरानी‚ संरक्षण एवं संधारणीय उपयोग सुनिश्चित होगा। 

ब्लू इकोनॉमी (नीली अर्थव्यवस्था) क्या है?

  • ब्लू इकोनॉमी से तात्पर्य आर्थिक विकास‚ बेहतर आजीविका एवं रोजगार के लिए महासागरीय संसाधनों के संधारणीय उपयोग से है। 
  • ऐसा महासागरों के पारिस्थितिकीय तंत्र के स्वास्थ्य को बनाए रखते हुए किया जाएगा।
  • इसका भारत की अर्थव्यवस्था में 4.1 प्रतिशत का हिस्सा है।
  • मत्स्यपालन‚ गहरे समुद्र में खनन तथा अपतटीय तेल और गैस भारत की ब्लू इकोनॉमी का एक बड़ा हिस्सा है। 
  • भारत-फ्रांस सहयोग के क्षेत्र-

(1) रक्षा

  • भारत ने फ्रांस से राफेल विमान खरीदा है। 
  • इसके अतिरिक्त भारत ने 6 स्कॉर्पीन पनडुब्बियों (P-75 प्रोजेक्ट) के लिए एक समझौते पर हस्ताक्षर किए हैं।

(2)अंतरिक्ष

  • भारत के प्रथम मानव अंतरिक्ष मिशन गगनयान पर सहयोग के लिए एक समझौते पर हस्ताक्षर किए गए हैं। 

(3)    भू-सामरिक 

  • दोनों देश एक स्वतंत्र और नियम-आधारित हिंद-प्रशांत क्षेत्र सुनिश्चित करने के लिए प्रतिबद्ध हैं। 

संकलन: शिशिर अशोक सिंह


Comments
List view
Grid view

Current News List