Contact Us - 0532-246-5524,25 | 9335140296
Email - ssgcpl@gmail.com
|
|

Post at: Nov 30 2021

वैश्विक प्रेषण पर विश्व बैंक की रिपोर्ट, 2021 (World Bank Report on Global Remittance)

वर्तमान परिप्रेक्ष्य

  • 17 नवंबर, 2021 को विश्व बैंक ने माइग्रेशन एवं डेवलपमेंट ब्रीफ का नवीनतम संस्करण जारी किया।
  • माइग्रेशन एवं डेवलपमेंट ब्रीफ प्रवासन एवं धन प्रेषण के वैश्विक रुझानों पर अद्यतन आंकड़े प्रदान करता है।
  • यह रिपोर्ट प्रवास से संबंधित सतत विकास लक्ष्य (SDG) संकेतकों से संबंधित विकास पर प्रकाश डालती है।

प्रमुख निष्कर्ष

  • रिपोर्ट के अनुसार, वर्ष 2021 के दौरान 751 बिलियन डॉलर धन संप्रेषण विभिन्‍न देशों को प्राप्‍त होने का अनुमान है।
  • जो वर्ष 2020 के 706 बिलियन डॉलर की तुलना में 6.5 प्रतिशत अधिक है।
  • विश्व बैंक की इस रिपोर्ट के अनुसार, कुल 751 बिलियन डॉलर के धन संप्रेषण में 589 बिलियन डॉलर कम एवं मध्यम आय वाले देशों को प्राप्‍त हुए, जो पिछले वर्ष की तुलना में 7.3 प्रतिशत की वृद्धि दर्शाता है।
  • विश्व बैंक की रिपोर्ट के अनुसार, वर्ष 2021 में भारत को 87 बिलियन डॉलर प्रेषण (Remmitance) प्राप्‍त हुआ।
  • संयुक्त राज्‍य अमेरिका भारत के प्रेषण का सबसे बड़ा स्रोत रहा है। भारत को भेजे गए कुल प्रेषण में यूएसए का योगदान 20 प्रतिशत है।
  • भारत के प्रेषण में 4.6 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई है।
  • भारत के बाद क्रमश: चीन, मेक्‍सिको, फिलीपींस एवं मिस्र का क्रम आता है।

विदेशों से धन प्राप्‍त करने वाले शीर्ष 5 देश

  • वर्ष 2020 में भारत को 83.1 बिलियन डॉलर प्रेषण प्राप्‍त हुआ था। 
  • वर्ष 2022 में भारत प्रेषण तीन प्रतिशत बढ़कर 89.6 बिलियन डॉलर होने का अनुमान है।
  • विश्व बैंक के प्रेषण मूल्‍य विश्वव्यापी डेटाबेस के अनुसार,  अंतरराष्ट्रीय सीमाओं के पार 200 डॉलर भेजने की लागत उच्‍च बनी हुई है।
    • जो वर्ष 2021 की पहली तिमाही में हस्तांतरित राशि का 6.4 प्रतिशत (औसतन) है।
  • अधिकांश क्षेत्रों में प्रेषण में मजबूत वृद्धि दर्ज की गई है।

  • पूर्वी एशिया (चीन को छोड़कर) के प्रेषण में 4 प्रतिशत की कमी दर्ज की गई है।

प्रेषण :

  • प्रेषण उस मुद्रा को संदर्भित करता है, जो किसी उच्‍च पार्टी (सामान्‍यत: एक देश से दूसरे देश में) को भेजा जाता है।
  • प्रेषण प्रवासी कामगारों द्वारा धन अथवा वस्तु रूप में भेजी जाने वाली आय है।
  • यह विदेशी मुद्रा भण्डार में वृद्धि करता है।
  • चालू खाते के घाटे को कम करने में मदद करता है।

विश्व बैंक
स्थापना - वर्ष 1944 (ब्रेटनवुड सम्मेलन के दौरान)
सदस्य - 189
मुख्यालय - वाशिंगटन डीसी (यूएसए)
अध्यक्ष - डेविड माल्‍पस

  • अंतरराष्ट्रीय पुनर्निर्माण और विकास बैंक को ही विश्व बैंक कहा जाता है।

संकलन-अशोक कुमार तिवारी


Comments
List view
Grid view

Current News List