Contact Us - 0532-246-5524,25 | 9335140296
Email - ssgcpl@gmail.com
|
|

Post at: Nov 29 2021

भारत-इंडोनेशिया समन्वित गश्त (कॉर्पैट)

वर्तमान परिप्रेक्ष्य

  • 23-24 नवंबर, 2021 को भारत और इण्डोनेशिया की नौसेनाओं ने हिंद प्रशांत क्षेत्र में समन्वित गश्त (Coordinated Patrol: CORPAT) का आयोजन किया।
  • यह कॉर्पैट का 37वां संस्करण था।

पृष्ठभूमि

  • भारत और इण्डोनेशिया वर्ष 2002 से अंतरराष्ट्रीय समुद्री सीमा रेखा (IMBL) के साथ प्रतिवर्ष दो बार समन्वित गश्त (कॉर्पैट) का आयोजन कर रहे हैं।
  • इसका उद्देश्य हिंद महासागर क्षेत्र के महत्वपूर्ण हिस्से को वाणिज्यिक शिपिंग और वैध समुद्री गतिविधियों का संचालन करने सहित अंतरराष्ट्रीय व्यापार को सुरक्षित रखना है।

अभ्यास का विवरण

  • इस समन्वित गश्त में भारत की तरफ से स्वदेश निर्मित अपतटीय गश्ती युद्धपोत आईएनएस खंजर (INS Khanjar) ने प्रतिभाग किया।
  • वहीं दूसरी ओर इण्डोनेशिया की तरफ से कपिटन पतिमुरा (Kapitan Patimura) श्रेणी का युद्धपोत केआरआई सुल्‍तान थाह सैफुद्दीन (KRI Sultan Thaha Syaifuddin),376 ने प्रतिभाग किया। 
  • यह गश्त कोविड-19 के मद्देनजर एक ‘गैर-संपर्क आधारित केवल समुद्री अभ्यास’ (Non-contact, at sea only) के रूप में संचालित किया गया।
  • कॉर्पैट का 37वां संस्करण दोनों देशों की नौसेनाओं के बीच समुद्री सहयोग बढ़ाने और पूरे हिंद प्रशांत क्षेत्र में मित्रता को मजबूत करने के उद्देश्य से आयोजित किया गया।

निष्कर्ष

  • समन्वित गश्त (CORPAT) के माध्यम से भारतीय नौसेना हिंद महासागर क्षेत्र के देशों के साथ सक्रियता से जुड़ रही है, जो भारत सरकार के सागर :  क्षेत्र में सभी के लिए सुरक्षा और विकास (SAGAR:Security And Growth for All in the Region) मिशन के लक्ष्यों को पूरा करने में मदद करेगी।

संकलन-अमित शुक्‍ला
 


Comments
List view
Grid view

Current News List